Homeअंतराष्ट्रीयनिगम सफाई कर्मियों के हित में कांग्रेस ने किया धरना-प्रदर्शन

निगम सफाई कर्मियों के हित में कांग्रेस ने किया धरना-प्रदर्शन

  • कांग्रेस कार्यकर्ताओं और सफाई कर्मचारी यूनियनों के कार्यकर्ताओं ने की मांग
  • प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के नेतृत्व शाहदरा साउथ जोन पर किया प्रदर्शन
  • कोविड-ड्यूटी पर रहते हुए जान गंवाने वाले सभी सफाईकर्मियों को 1 करोड़ रुपये का मुआवजा और कोरोना योद्धा सम्मान देने सहित समय पर वेतन, चिकित्सा कवर और अन्य मांगे को लेकर धरना दिया
  • कांग्रेस द्वारा प्राप्त आर.टी.आई. में दिल्ली सरकार ने स्वीकारा कि कोविड महामारी लॉकडाउन काल में पिछले 5 महीनों में पब्लिसिटी पर 151.71 करोड़ रुपये खर्च किए गए।

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और सफाई कर्मचारी यूनियनां के कार्यकर्ताओं ने निगम सफाई कर्मचारियों के हितों के लिए चलाए जा रहे न्याय मार्च के तहत आज शाहदरा साउथ जोन, नियर कड़कड़डूमा कोर्ट, एमसीडी कार्यालय पर कोविड-ड्यूटी पर रहते हुए कोविड-19 महामारी से मरने वाले सभी सफाईकर्मियों को 1 करोड़ रुपये का मुआवजा और कोरोना योद्धा सम्मान देने, निगम कर्मचारियों को चिकित्सा कवर और अन्य मांगे को लेकर धरना दिया। 1 करोड़ रुपये की घोषणा आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार ने कोरोना यौद्धाओं के लिए की थी, जिसे कोविड ड्यूटी के दौरान मारे गए सफाई कर्मचारियां के परिवारों को भी दिया जाना चाहिए।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता और सफाई कर्मचारी यूनियन कार्यकर्ता दिल्ली नगर निगम और दिल्ली सरकार पर दवाब बनाने के लिए सभी निगम जोन कार्यालयों पर धरना देंगे ताकि सफाई कर्मचारियों को समय पर वेतन एवं भत्ते मिल सकें। धरने में चौ0 अनिल कुमार के अलावा प्रदेश उपाध्यक्ष जय किशन, पूर्वी दिल्ली नगर निगम में कांग्रेस नेता कु0 रिंकू, पूर्व विधायक अमरीश गौतम, चरण सिंह कंडेरा और वीर सिंह धींगान, संदीप गोस्वामी, जिला अध्यक्ष गुरचरण सिंह राजू और दिनेश कुमार एडवोकेट, सफाई कर्मचारी यूनियन नेता जय भगवान चरण, जयपाल, ब्रहम ढीकीया, राजेन्द्र मेवाती, मोहन पहलवान और राजेश वेद, पूर्व निगम पार्षद नीतू वर्मा सोईन, अमृता धवन, वरयाम कौर, ईश्वर सिंह बागड़ी और रमेश पंडित मौजूद थे।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि कोविड महामारी के खिलाफ डाक्टरों, नर्सो, पेरामेडिकल स्टाफ, पुलिस के साथ सफाई कर्मचारी भी अग्रणी होकर लड़ाई लड़ रहे है, परंतु इनको एक करोड़ मुआवजे से इनको अलग रखा है, जबकि सफाई कर्मचारियों खुशी के साथ स्वीकार करके सबसे अधिक जोखिम भरा काम कर रहे है और उन्हें समय पर वेतन भी नही मिल रहा है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि कोविड ड्यूटी के दौरान मरने वाले लोगों में कुछ परिवारों की हालत अतयंत दयनीय है क्योंकि कोरोना से मरने वाले परिवार के लिए अकेले कमाने वाले सदस्य थे, जिसके कारण इन परिवारों की अजीविका पालन करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि एक करोड़ मुआवजे के अलावा मृतक के परिवार में एक सदस्य को अनुकम्पा के आधार पर नौकरी भी दी जाए और सफाई कर्मचारियों को समय पर वेतन दिया जाना भी बहुत जरुरी है और इनकी अन्य मांगों को भी पूरा किया जाना चाहिए।

कांग्रेस कार्यकर्ता आलम ने आर.टी.आई. के जरिए प्राप्त जानकारी में बताया गया है कि पिछले 5 महीने में दिल्ली सरकार पे पब्लिसिटी पर 151.71 करोड़ रुपये खर्च किए है। उन्होंने कहा कि प्रचार में खर्च की गई राशि में से कोविड ड्यूटी पर मारे गए सफाई कर्मचारियों के परिवारों को मुआवजा देने के लिए उपयोग किया जा सकता था, जिससे मृतकों के परिवारों को बड़ी राहत मिलती। आर.टी.आई. की कापी संलग्न है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि सफाई कर्मचारी यूनियन कार्यकर्ताओं के साथ-साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने न्याय मार्च के तहत निगम जोनल कार्यालयों के बाहर आंदोलन कर रहे है, अगर कोविड मृतक सफाई कर्मचारियों को एक करोड का मुआवजा राशि के वर्गो में तुरंत शामिल नही किया गया और सेनिटेशन कर्मचारियों को समय पर वेतन, भते दिए जाने चाहिए, तथा कैशलेश व अन्य मांगे भी तुरंत प्रभाव से पूरी नही हुई तो आंदोलन तेज किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × one =

Must Read