Homeअंतराष्ट्रीयहिन्दी अब वैश्वीकरण के दौर में प्रतिनिधि भाषा के रूप में उभर...

हिन्दी अब वैश्वीकरण के दौर में प्रतिनिधि भाषा के रूप में उभर रही है

  • हिन्दी दिवस पर दिल्ली में जगह जगह हुए कार्यक्रम आयोजित
  • डीयू, एमसीडी, एनडीएमसी में हिन्दी की सराहना की
  • गैर-हिन्दी भाषी क्षेत्र के लोगों ने आजादी की मुख्य अभिव्यक्ति की भाषा स्वीकार किया
  • शिक्षक एवं छात्रों ने संकल्प लिया कि राजभाषा के संवर्द्धन के प्रति सदैव ऊर्जावान और निरंतर प्रयासरत रहेंगे

नई दिल्ली, 14 सितम्बर 2022: हिन्दी दिवस को लेकर दिल्ली में जगह जगह कार्यक्रम आयोजित हुए। दिल्ली विश्वविद्यालय के श्री अरबिंदो कॉलेज के हिन्दी विभाग ने 14 सितम्बर को हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी पखवाड़े का आगाज किया गया। इसके उद्धघाटन सत्र को संबोधित करते हुए कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर विपिन अग्रवाल ने कहा कि हिन्दी देश के लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व करने वाली भाषा है, यहीं नहीं बल्कि स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान हिन्दी ही ऐसी भाषा थीं जिसको गैर-हिन्दी भाषी क्षेत्र के लोगों ने आजादी की मुख्य अभिव्यक्ति की भाषा स्वीकार किया। हिन्दी विभाग के प्रभारी डॉ. हंसराज सुमन ने कहा कि भविष्य हिन्दी का ही है, आज हिन्दी विश्व पटल पर अपना परचम लहरा रही है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता देते हुए सरकारी कामकाज की भाषा स्वीकार कर चुका है। विश्व के सभी मल्टीनेशनल कंपनियों ने अंग्रेजी तथा संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा मान्यता प्राप्त अन्य भाषाओं के अलावा हिन्दी भी एक भाषा हो गई है अर्थात हिन्दी अब वैश्वीकरण के दौर में प्रतिनिधि भाषा के रूप में उभर रही है।

डॉ. सुमन ने बताया है कि श्री अरबिंदो कॉलेज के हिन्दी विभाग द्वारा 14 से 28 सितम्बर, 2022 तक हिन्दी पखवाड़े  के रूप में महाविद्यालय की संगोष्ठी कक्ष में मनाया जाएगा। उन्होंने बताया है कि बुधवार को हुई विभाग की आवश्यक बैठक में निर्णय लिया गया है कि पाठ्यक्रम में दिए गए विषयों से हटकर छात्रों को सिनेमा, रंगमंच, अनुवाद, कहानी, निबंध, कविता, लेख, अस्मिता मूलक लेखन, दलित साहित्य, पत्रकारिता, रिपोर्ताज लेखन आदि विषयों पर प्रति दिन 12 बजे से 4 बजे तक कार्यक्रम किए जाएंगे।

इन कार्यक्रमों को करने के लिए विभाग ने कमेटियों का गठन किया है। कार्यक्रमों को कराने का संयोजक विभाग प्रभारी डॉ.हंसराज सुमन के अलावा सह-संयोजक डॉ. प्रदीप कुमार सिंह को बनाया गया है जो प्रति दिन के कार्यक्रमों की देखरेख करेंगे। इसके अलावा डॉ. रोशन लाल मीना, डॉ. दीपा, डॉ. सीमा, डॉ. शिव मंगल व बालेंद्र कुमार है। इस अवसर पर विभाग की ओर से प्रकाशित होने जा रही हंसा पत्रिका के शुभारंभ की सूचना दी गई। जो प्रति माह भित्ति पत्रिका के रूप में प्रकाशित होगी। इसका सम्पादन विभाग के माध्यम से होगा।

स्वामी श्रद्धानंद कॉलेज में राजभाषा समारोह 2022 हिंदी सप्ताह की शुरूआत हुई। 14 सितंबर से प्रारंभ होकर यह समारोह 21 सितंबर तक चलेगा। सप्ताह भर चलने वाले कार्यक्रम में हस्ताक्षर अभियान, निबंध लेखन प्रतियोगिता, स्वरचित कविता-पाठ प्रतियोगिता, अंतर महाविद्यालय आशुभाषण प्रतियोगिता एवं व्याख्यान आयोजित किए जायेंगे। समारोह का प्रारंभ प्राचार्य प्रो. प्रवीण गर्ग ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने अपने उद्बोधन में छात्रों को अपनी भाषा पर गर्व करना सिखाया। उनके द्वारा छात्रों को राजभाषा प्रतिज्ञा दिलाई गई। शिक्षक एवं छात्रों ने संकल्प लिया कि राजभाषा के संवर्द्धन के प्रति सदैव ऊर्जावान और निरंतर प्रयासरत रहेंगे। उन्होंने अपने उद्बोधन में छात्रों को अपनी भाषा पर गर्व करना सिखाया। उनके द्वारा छात्रों को राजभाषा प्रतिज्ञा दिलाई गई।

आज भाषा पर छात्रों की अभिव्यक्ति के माध्यम से छात्रों ने भाषा पर अपने विचार रखें। निःसंदेह, दो दशक में हिंदी के प्रति देश-विदेश में रुख बदला है। संयुक्त राष्ट्र, संसद से घर घर में हिन्दी का उपयोग बढ़ा है। नई शिक्षा नीति 2020 में भारतीय भाषाओं के महत्व पर अधिक जोर दिया गया है जिस से हिंदी नई ऊंचाई हासिल कर सकती है। मातृभाषा के साथ आत्मीय संबंध होने के कारण ग्रहण करना छात्र के लिए सहज होता है, उसकी तार्किक दृष्टि विकसित होती है। चाहे हम कितनी भी विदेशी भाषाओं की बात कर लें परंतु सच्चाई यह है कि व्यक्ति की रचनात्मकता अपना उत्कृष्टतम रूप अपनी भाषा में ही प्राप्त करती है। राजभाषा प्रतिज्ञा में के शिक्षकों, छात्रों एवं कर्मचारियों ने हिंदी भाषा को लेकर अपनी प्रतिबद्धता दुहराई। समारोह कॉलेज विभाग प्रभारी डॉ. ऐश्वर्या झा के नेतृत्व में हिंदी विभाग आयोजित कर रहा है।

दिल्ली नगर निगम के सिविक सेंटर स्थित मुख्यालय के सभागार में राजभाषा सम्मान सप्ताह के शुभारंभ समारोह का आयोजन किया। इस अवसर पर दिल्ली नगर निगम में विशेष अधिकारी अश्विनी कुमार मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। उनके अतिरिक्त अतिरिक्त आयुक्त शिल्पा शिंदे, हरलीन कौर, रणधीर सहाय, ए.ए ताजि़्ार तथा अल्का शर्मा भी मौजूद थीं। इनके अतिरिक्त काफी संख्या में निगम कर्मचारी और अधिकारियों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया।  

नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने परिषद द्वारा कन्वेंशन सेंटर, जय सिंह रोड पर हिंदी दिवस के अवसर पर आयोजित हिंदी भाषण प्रतियोगिता का दौरा किया और सभी प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया। उपाध्याय ने कहा कि कि आयोजित हिंदी भाषण प्रतियोगिता में जो विषय रहे वो थे आज़ादी का सफ़र 75 वी वर्षगांठ से स्वर्णजयंती काल तक, नारी सम्मान, आध्यात्मिक ताकत, जिसमें सभी वर्ग के अधिकारियो और कर्मियों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × 2 =

Must Read