Homeअंतराष्ट्रीयबिजली की बढ़ी दरों को कम करने को लेकर भाजपा ने केजरीवाल...

बिजली की बढ़ी दरों को कम करने को लेकर भाजपा ने केजरीवाल का पुतला फूंककर किया प्रचंड विरोध प्रदर्शन

सत्ता में आने से पहले खंभों पर चढ़कर बिजली कंपनियों का विरोध करने वाले केजरीवाल आज 11000 करोड़ रुपये की अवैध वसूली कर चुके हैं- केजरीवाल द्वारा ‘बिजली हाफ पानी माफ’ का नारा सिर्फ दिखावा है क्योंकि बिजली की दरों में 40 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है – केजरीवाल द्वारा बढ़ाई गई बिजली की दरों का झटका झुग्गी-झोपड़ी वालें भी झेलने को मजबूर हैं – केजरीवाल बिजली कंपनियों से सांठ-गांठ करके बिजली की दरें बढ़ाकर जनता को लूट रहे हैं-रामवीर सिंह बिधूड़ी

नई दिल्ली, 19 जुलाई 2022: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के नेतृत्व में आज दिल्ली के सभी 70 विधानसभाओं में बिजली की बढ़ी दरों को कम करने के लिए प्रचंड विरोध प्रदर्शन किया गया। दिल्ली के सभी प्रमुख चौराहों पर हुए विरोध प्रदर्शन में भाजपा कार्यकर्ताओं ने बिजली की बढ़ी दरों में इजाफे को लेकर केजरीवाल सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और केजरीवाल का पुतला फूंका। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने आज शक्ति नगर चौक स्थिति एनडीपीएल कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बिजली कंपनियों द्वारा अवैध रुप से 11000 करोड़ रुपये फिक्स चार्ज के नाम पर दिल्ली की जनता से पहले ही वसूले जा चुके हैं। दिल्ली में इस वक्त अधिकतम 7500 मेगावाट की खपत है लेकिन दिल्लीवालों से जो फिक्स चार्ज वसूले जा रहे हैं उस फिक्स चार्ज की राशि से 22500 मेगावाट बिजली खरीदी जा सकती है। गुप्ता ने कहा कि भाजपा के सभी कार्यकर्ता जब तक बिजली के बढ़े दाम कम नहीं किए जाते तब तक इसके खिलाफ आवाज उठाते रहेंगे और यह विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

आदेश गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल से बिजली की दरों को कम करने को लेकर चर्चा के लिए समय मांगा था, लेकिन उन्होंने समय नहीं दिया क्योंकि दिल्ली की जनता से उन्हें कोई मतलब नहीं है। सत्ता में आने से पहले केजरीवाल खंभो पर चढ़कर बिजली का कनेक्शन जोड़ने और बिजली कंपनियों को कोसने का काम करते थे जो सिर्फ दिखावा था क्योंकि मुख्यमंत्री बनने के बाद जब हाथ में सत्ता आ गई तो आज बिजली कंपनियों से मिली भगत करके करोड़ो रुपये का भ्रष्टाचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज बिजली कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए केजरीवाल दिल्ली के मासूम जनता की जेब से जबरन पैसा निकाल रहे हैं।

आदेश गुप्ता ने केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली में केजरीवाल कहते थे कि बिजली हाफ पानी माफ लेकिन सत्ता में अपने आठ सालों के अंदर केजरीवाल ने 40 फीसदी तक बिजली दरों में बढ़ोतरी कर चुके हैं। उन्होंने एक झुग्गी-झोपड़ी में आए 18000 रुपये के बिजली का बिल दिखाते हुए कहा कि यह बेहद शर्मनाक है कि कमर्सियल और रेसिडेंसियल में बिजली दरें तो बढ़ाई ही है लेकिन ‘आप’ ने गरीबों को भी नहीं छोड़ा है। इस तरह के अत्याचार को भारतीय जनता पार्टी बर्दास्त नहीं करने वाली है।

आदेश गुप्ता ने कहा कि यह दिल्ली की मासूम जनता के साथ अत्याचार ही है क्योंकि बिजली कर्मचारियों को दिए जाने वाले पेंशन और उन्हें मिलने वाली 600 यूनिट की सब्सिडी भी दिल्लीवासियों के ही जेब से भरी जा रही है। बिजली कंपनियों एनर्जी खरीदने और उनके प्लांट में हुए नुकसान की भरपाई भी दिल्लीवासियों के जेब से की जा रही है। उन्होंने जनता से आवाहन किया कि वे दिल्ली के इस भ्रष्टाचारी सरकार के किए गए भ्रष्टाचारों को दिल्ली में रहने वाले सभी को बताएं ताकि झूठ और भ्रष्टाचारी केजरीवाल की सच्चाई सबके सामने आ सके। आज दिल्ली में इतनी समस्या है और केजरीवाल सिंगापुर में मेयरों को सम्मेलन में जाने को उतावले हो रहे हैं जहां इनका कोई काम नहीं है।

मीठापुर चौक स्थिति हुए विरोध प्रदर्शन में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने बिजली कंपनियों को मुनाफे के लिए जनता की समस्याओं को भी ताख पर रखकर बिजली की दरों में लगातार इजाफा कर रही है। लगातार बिजली की बढ़ती दरें और अन्य समस्याओं को लेकर जनता केजरीवाल के सामने सवाल उठाती रही है, लेकिन खुद को आम आदमी कहने वाले केजरीवाल ने अपने आठ सालों के कार्यकाल में कभी भी जनता के बीच बैठकर उनकी समस्या नहीं सुनी क्योंकि उनको दूसरे राज्यों में चुनाव और पार्टी के प्रचार करने से फुर्सत नहीं है। आज हुए विभिन्न स्थानों पर विरोध प्रदर्शन में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय एवं विजेन्द्र गुप्ता, जम्मू-कश्मीर के सह-प्रभारी आशीष सूद, असम के सह-प्रभारी पवन शर्मा, प्रदेश महामंत्री हर्ष मल्होत्रा एवं दिनेश प्रताप सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष जयवीर राणा, अशोक गोयल देवराहा एवं सुनील यादव सहित प्रदेश, मोर्चा, जिला एवं मंडल के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता इस प्रचंड विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + eighteen =

Must Read