Homeअंतराष्ट्रीयदिल्ली के युवा नौकरी चाहते हैं CM : चौ0 अनिल कुमार

दिल्ली के युवा नौकरी चाहते हैं CM : चौ0 अनिल कुमार

  • दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने आम आदमी पार्टी की सरकार द्वारा आबकारी नियमों में उदारतापूर्वक बदलाव करने की नीति के द्वारा शनिवार और रविवार को सुबह 3 बजे तक रेस्टोरेन्ट/बार के परिचालन समय को बढ़ाकर शराब की उपलब्धता कम आयु वर्ग की अनुमति देने पर सरकार को चेतावनी दी – यदि यह प्रक्रिया लागू होगी तो राजधानी में अपराधो के लिए एक नया रास्ता खुल जाएगा।
  • दिल्ली के युवा नौकरी चाहते हैं, न कि 24 घंटे शराब उपलब्धता – सरकार के इस कदम से राजधानी में अपराधों की दर और महिलाओं के लिए और ज्यादा असुरक्षित हो जाएगी

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविंद सरकार आग से खेलने की तैयारी में अपराधियों के लिए एक नए रास्ते का आगाज करने की दिशा में आबकारी कानून में कठोर संशोधन के प्रावधान पर यदि अमल होता है तो बार और रेस्टोरेन्ट शनिवार और रविवार को सुबह 3 बजे तक खुले रह सकते हैं, जिनमें शराब की उपलब्धता 25 वर्ष आयु की सीमा को घटाकर 21 वर्ष कर दिया जाऐगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद और रेस्टोरेन्ट संघों के प्रतिनिधियों की पिछले दिनों एक बैठक हुई। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, एमसीडी अधिकारियों और आबकारी विभाग के साथ रेस्टोरेन्ट एसोसिएशनों के प्रतिनिधियों की एक अन्य बैठक बुधवार को की गई, जिसमें आबकारी नीति में संशोधन करने के लिए रेस्टोरेन्ट संघों की मांगों पर विचार करने के लिए एक समिति का गठन किया गया। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के युवा रोजगार और विकास चाहते है, जबकि अरविंद सरकार की हर समय शराब उपलब्ध कराने की योजना युवाओं को शराब पीने आत्म-विनाशकारी लत की ओर आकर्षित करने की तैयारी है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविंद सरकार ने अपने शासन के पिछले सात वर्षों में 2015-16 में सिर्फ एक बार आबकारी नीति में बदलाव किए, हालांकि आबकारी नीति को दोबारा बनाने के लिए कई बार सुझाव आमंत्रित किए थे। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि रेस्टोरेन्ट कई युवाओं को रोजगार प्रदान करते हैं और कोविड-19 महामारी के दिनों में, अधिक से अधिक नौकरी के अवसर पैदा करना आवश्यक है, परंतु रेस्टोंरेन्ट में देर रात्रि 3 बजे तक शराब उपलब्धता की अनुमति और युवा की आयु सीमा का कम करने का निर्णय सरकार का खतरनाक कदम होगा। जबकि राजधानी में पहले ही महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध और बिगड़ती कानून व्यवस्था असंतोषजनक है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि “परमिट राज“ को समाप्त करना एक अच्छा विचार हो सकता है, लेकिन ऐसी स्थिति पैदा करना भी उचित नहीं है, जहां शराब 24 घंटे उपलब्ध होगी, जिसमें कम उम्र के युवाओं को भी शराब पीने अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में घोषणा की थी कि शराब की दुकानों को लाइसेंस देने पर रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन की सलाह भी ली जाऐगी, लेकिन अरविंद सरकार का यह वायदा भी खोखला साबित हुआ।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली पहले से ही अपराधों के लिए हॉट स्पॉट स्थान है, विशेषकर महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के लिए, क्योंकि राजधानी में महिलाओं के साथ इतने अधिक यौन उत्पीड़न के मामले हो रहे है कि दिल्ली रेप केपिटल बन गई है और अगर बॉर और रेस्टोरेन्टों का संचालन शराब की उपलब्धता के साथ सुगमता के साथ होगा तो दिल्ली में अपराधों के लिए एक नया रास्ता खुल जाऐगा। उन्होंने कहा कि अरविन्द सरकार के कार्यकाल पिछले सात सालों में दिल्ली में 300 नई शराब की दुकाने खोली गई है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि महिलाओं की रक्षा और सुरक्षा के लिए आम आदमी पार्टी ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में बहुत से वायदे किए परंतु सत्ता में आने पर एक भी पूरा नही किया, और अरविन्द सरकार दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा करने में पूरी तरह विफल रही है। परिणामस्वरूप, महिलाएं सूर्यास्त के बाद अपने घरों से बाहर नहीं निकलने की हिम्मत नही करती हैं। चौ0 अनिल कुमार ने स्वीकार किया कि दिल्ली के रेस्टोरेन्ट जिन्हें कोविड-19 महामारी लॉकडाउन के कारण भारी नुकसान हुआ है, उन्हें बनाए रखने और पुर्नस्थापित करने की अनुमति दी जानी चाहिए, लेकिन इनका संचालन लोगों के जीवन और सम्मान की कीमत पर बिलकुल भी नहीं होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × three =

Must Read