Homeअंतराष्ट्रीयमोदी सरकार ने फेम-2 योजना के तहत 150 इलेक्ट्रीक बसें दिल्ली को...

मोदी सरकार ने फेम-2 योजना के तहत 150 इलेक्ट्रीक बसें दिल्ली को सौगात में दी है, जिसे केजरीवाल अपना बता रहे हैं : आदेश गुप्ता

केजरीवाल को जनता के सामने बेझिझक झूठ बोलते रहने का अवार्ड मिलना चाहिए- डीटीसी बसों में यात्री इस डर के साथ यात्रा करते हैं कि कब बस आग के गोले में बदल जाएगी- केजरीवाल सरकार का उद्देश्य ही भ्रष्टाचार करना है-केजरीवाल सरकार द्वारा दिये आरटीआई के जवाब में कहा गया है कि पिछले आठ सालों में एक भी बसें नहीं खरीदी गई

नई दिल्ली, 29 जून। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल जिस तरह से कैमरे पर आकर बिना किसी झिझक के झूठ बोलते हैं, उसके लिए उन्हें अवार्ड मिलना चाहिए। पिछले आठ सालों में केजरीवाल ने दिल्ली सरकार के हर विभाग की हालात खस्ता कर दी है। स्वास्थ्य, शिक्षा, जलबोर्ड और परिवहन सहित अन्य विभाग आज अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहे हैं। दिल्ली के परिवहन विभाग की तो स्थिति इस कदर है कि बस में यात्रा कर रहे यात्री को हमेशा इस बात का डर लगा रहता है कि कब वह बस आग के गोले में बदल जाएगी।

आदेश गुप्ता ने कहा कि पहले तो केजरीवाल कह रहे हैं कि पिछले दो सालों से बड़े स्तर पर बसों की खरीद शुरु हो गई है, मतलब ये कि उन्होंने इससे पहले 6 सालों के कार्यकाल में कोई बस नहीं खरीदी और जब केंद्र की मोदी सरकार ने फेम-2 योजना के तहत 150 इलेक्ट्रीक बसें दिल्ली को सौगात में दी तो अब उसे अपना बताकर क्रेडिट लूटने की कोशिश कर रहे हैं। केजरीवाल 1950 बसें सितंबर 2023 तक लाने की बात कर रहे हैं, लेकिन केजरीवाल सरकार अपने आठ सालों में एक भी बस नहीं खरीद सकी। केजरीवाल सरकार के द्वारा दिये आरटीआई के जवाब में यह बात खुद बताई गई है तो ऐसे में केजरीवाल से 1950 बसों की उम्मीद कैसे की जा सकती है।

आदेश गुप्ता ने कहा कि आज दिल्ली में 3760 बसें हैं जिसे केजरीवाल 7200 की संख्या बताकर इसको ऐतिहासिक कह रहे हैं। 4800 नई बसों को फ्रेंस टेंडर देने की बात करने वाले केजरीवाल को यह भी बताना चाहिए कि आज जितनी भी बसें दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रही हैं उनकी उम्र सीमा समाप्त हो चुकी है और 1000 बसों के मरम्मत में 500 करोड़ रुपये पानी की तरह बहा दिए गए जबकि इतने पैसों में कई नई बसें खरीदी जा सकती थीं। लेकिन जिस सरकार का उद्देश्य ही भ्रष्टाचार करना है, उसे जनता की समस्याओं से क्या मतलब।

आदेश गुप्ता ने कहा कि साल 2014 में जब केजरीवाल दिल्ली की सत्ता में आए तो उन्होंने कहा था कि दिल्ली में सरकार बनते ही 11000 बसें लाने का काम किया जाएगा ताकि दिल्ली में परिवहन व्यवस्था ठीक हो सके जबकि उस समय 6600 बसें थीं, लेकिन आज सिर्फ 3760 बसें बची हैं तो 11000 बसें लाने की बात को दिसंबर 2024 तक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आठ सालों से जिस तरह से केजरीवाल दिल्ली की जनता को गुमराह कर रहे हैं, वह आगे भी वैसा ही करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + six =

Must Read