Wednesday, February 21, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयमुख्यमंत्री केजरीवाल से नोबेल पुरस्कार विजेता प्रसिद्ध अर्थशास्त्री प्रो. अभिजीत बनर्जी मिले

मुख्यमंत्री केजरीवाल से नोबेल पुरस्कार विजेता प्रसिद्ध अर्थशास्त्री प्रो. अभिजीत बनर्जी मिले

– सीएम अरविंद केजरीवाल और प्रो. अभिजीत बनर्जी ने दिल्ली की अर्थव्यवस्था, रोजगार और जल सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर दिल्ली को आगे ले जाने के लिए आपसी सहयोग और समर्थन की संभावनाओं को तलाशने पर की चर्चा – सीएम केजरीवाल और प्रो. अभिजीत बनर्जी ने दिल्ली के औद्योगिक क्षेत्रों में इनोवेशन क्लस्टर स्थापित कर अधिक से अधिक रोजगार पैदा करने पर भी किया विचार-विमर्श – दिल्ली सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो काम किया है, उसको देश और दुनिया के सामने एक मॉडल के रूप में रखने के लिए इच्छुक हैं, ताकि बाकी सरकारें भी समाज के कल्याण के लिए इसे अपना सकें – प्रो. बनर्जी की जे-पाल संस्था दिल्ली सरकार के ‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम की एक अहम भागीदार है; इससे लाखों छात्रों की बुनियादी शिक्षा में सुधार करने में मदद मिली है- अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली, 22 जुलाई, 2022 : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से आज नोबेल पुरस्कार विजेता प्रसिद्ध अर्थशास्त्री प्रो. अभिजीत बनर्जी ने मुलाकात की। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल और प्रो. अभिजीत बनर्जी ने दिल्ली की अर्थव्यवस्था, रोजगार और वॉटर सिक्योरिटी से संबंधित प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। साथ ही, उन्होंने दिल्ली के विकास के आपसी सहयोग और समर्थन की संभावनाओं को तलाशने पर चर्चा की। सीएम अरविंद केजरीवाल और प्रो. अभिजीत बनर्जी ने दिल्ली के मौजूदा औद्योगिक क्षेत्रों में इनोवेशन क्लस्टर स्थापित कर दिल्ली में अधिक से अधिक रोजगार पैदा करने को लेकर भी अपने विचार साझा किए। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो काम किया है, उसको देश और दुनिया के सामने एक मॉडल के रूप में रखने के लिए इच्छुक हैं, ताकि बाकी सरकारें भी समाज के कल्याण के लिए इसे अपना सकें। सीएम ने कहा कि प्रो. बनर्जी की जे-पाल संस्था, दिल्ली सरकार के ‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम की एक अहम भागीदार है। जिसकी मदद से लाखों छात्रों की बुनियादी शिक्षा में सुधार करने में मदद मिली है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से कैंप कार्यालय में नोबेल पुरस्कार विजेता और प्रसिद्ध अर्थशास्त्री प्रो. अभिजीत बनर्जी ने मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि अभिजीत बनर्जी, अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब (जे-पाल) के निदेशक हैं। यह शोध केंद्र वैश्विक गरीबी को कम करने पर काम कर रहा है। प्रो. अभिजीत बनर्जी मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में अर्थशास्त्र के अंतर्राष्ट्रीय प्रोफेसर हैं। सीएम और प्रोफेसर बनर्जी की यह पहली बैठक थी और उन्होंने आज दिल्ली की अर्थव्यवस्था से जुड़े कई मामलों पर चर्चा की। इस बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और दिल्ली संवाद एवं विकास आयोग के उपाध्यक्ष जैस्मीन शाह भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने प्रो. अभिजीत बनर्जी के साथ दिल्ली मॉडल की सफलताओं को साझा करते हुए कहा कि 2015 में सत्ता में आने के बाद से उनकी सरकार ने दिल्ली में स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में कई बड़े कदम उठाए हैं। सीएम ने बताया कि कैसे दिल्ली सरकार के स्कूलों में लर्निंग आउट्कम के परिणाम ने सभी बाधाओं को सफलता पूर्वक पार किया और कैसे मोहल्ला क्लीनिक व सरकारी अस्पतालों की सूरत बदली और देश में एक मानक तय किया है। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के स्कूलों में चलाए जा रहे ‘मिशन बुनियाद’ कार्यक्रम में जे-पाल के सहयोग की भी सराहना की। 

उल्लेखनीय है कि मिशन बुनियाद को अमलीजामा पहनाने में जे-पाल संस्था द्वारा किए गए शोध ने बहुत मदद की है, जिससे भारत भर में छात्रों के बुनियादी लर्निंग स्किल में सुधार लाया जा रहा है। दिल्ली सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो काम किया है, उसको देश और दुनिया के सामने एक मॉडल के रूप में रखने के लिए इच्छुक हैं, ताकि बाकी सरकारें भी लोगों के कल्याण के लिए इसे अपना सकें। इस संदर्भ में दिल्ली सरकार ने स्वास्थ्य और शिक्षा के अपने मॉडल का दस्तावेजीकरण करने में जे-पाल की सहायता मांगी है।

 बैठक के दौरान पराली जलाने के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रतिनिधिमंडल को पूसा बायो डीकंपोजर के क्रियान्वयन के बारे में बताया। साथ ही, उन्होंने उत्तर भारत में इस समस्या से निपटने के लिए प्रोफेसर बनर्जी से सुझाव भी मांगे। मुख्यमंत्री ने दिल्ली में वॉटर सिक्योरिटी के मामले पर भी विचार-विमर्श किया और कहा कि साल दर साल, दिल्ली की आबादी तेजी से बढ़ रही है, जबकि प्रदेश में विभिन्न नदियों से मिलने वाले पानी में बढ़ोत्तरी नहीं हुई है। दिल्ली सरकार ने पानी के संबंध में दिल्ली को आत्मनिर्भर बनाने के लिए भूमिगत जल का उपयोग करने और भूजल को रिचार्ज करने से संबंधित कई पहलें की है। सीएम अरविंद केजरीवाल और प्रो. बनर्जी ने इस बारे में चर्चा की कि कैसे दिल्ली को पानी के संबंध में आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार के प्रयासों को आगे बढ़ाया जा सकता है।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने रोजगार बजट के तहत 20 लाख रोजगार के अवसर पैदा करने के अपने मिशन के बारे में भी जानकारी साझा की। उन्होंने प्रोफेसर बनर्जी को बताया कि कैसे दिल्ली सरकार मौजूदा औद्योगिक क्षेत्रों का पुनर्विकास कर रही है। प्रोफेसर बनर्जी ने मैसाचुसेट्स के कैम्ब्रिज का उदाहरण साझा किया, जो 4-5 दशक पहले इसी तरह की समस्या का सामना कर रहा था और सीएम अरविंद केजरीवाल को इस क्षेत्र में तकनीक और फार्मा की पूर्ति करने वाले नए इनोवेशन क्लस्टसऱ् से अवगत कराया। उन्होंने चर्चा की कि दिल्ली के पास अत्यधिक कुशल मानव क्षमता और देश के सर्वोत्तम संस्थान उपलब्ध हैं, इनकी मदद से समान इनोवेशन क्लस्टर्स को आसानी से अपनाया जा सकता है।

इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल और प्रो. अभिजीत बनर्जी ने दिल्ली को विकास के पथ पर आगे ले जाने के लिए आपसी सहयोग और विचारों के आदान-प्रदान पर बल दिया। उल्लेखनीय है कि केजरीवाल सरकार के दिल्ली-2047 के लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिल्ली डायलॉग एंड डेवलपमेंट कमीशन ने अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब (जे-पाल) साउथ एशिया के साथ साझेदारी की है, जिसका लक्ष्य दिल्ली का सामाजिक और आर्थिक उत्थान करना है। इसके लिए साक्ष्य आधारित नीतियों को अपनाया जाएगा। फरवरी 2022 में उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और डीडीसी उपाध्यक्ष जैस्मीन शाह की मौजूदगी में दिल्ली संवाद एवं विकास आयोग (डीडीसी) और जे-पाल साउथ एशिया के बीच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर हुआ था। इसका उद्देश्य प्रमुख आर्थिक क्षेत्रों में नीति समाधानों को डिजाइन करना, परीक्षण करना और इसको स्केल-अप करने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले प्रशासनिक डेटा का व्यवस्थित रूप से लाभ उठाना है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments