Monday, July 15, 2024
Homeताजा खबरें"दूत को गोली मत मारो, डॉक्टरों और नर्सों को डराओ मत, उनका...

“दूत को गोली मत मारो, डॉक्टरों और नर्सों को डराओ मत, उनका समर्थन करो “: चौ0 अनिल कुमार

  • प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को एक पत्र लिखा
  • दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने केजरीवाल सरकार से पेट्रोल और डीजल पर वैट की बढ़ी हुई दरों को तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग की
  • कोविड-19 महामारी के कारण लोग इस बोझ को सहने की स्थिति में नही है
  • चौ0 अनिल कुमार ने सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश का स्वागत किया है जिसमें केजरीवाल सरकार को कोविड महामारी से निपटने में उसकी असफलताओं को सप्ताह में दूसरी बार उजागर किया है

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार से मांग की है वह पेट्रोल और डीजल पर बढ़ी हुई वैट की दरों को वापस लें क्योंकि दिल्ली सरकार ने वैट की दरों को बढ़ाकर 30 प्रतिशत करके दिल्ली की जनता के हितों के खिलाफ जाकर कठोर निर्णय लिया है जबकि कोविड-19 महामारी लॉकडाउन के कारण दिल्ली की जनता आर्थिक संकट से त्रस्त है तथा वेट की अत्यधिक बढ़ौत्तरी के बोझ को सहने की स्थिति में नही है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल के दामों में अप्रत्याशित बढ़ौत्तरी उचित और तंर्कसंगत नही है।

चौ0 अनिल कुमार ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिल्ली सरकार के अस्पतालों की स्थितियों से संबंधित तथ्यों को उजागर करने वाले ओदश का स्वागत किया है जिसमें स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों के निलंबन पर केजरीवाल सरकार पर सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि “दूत को गोली मत मारो, डॉक्टरों और नर्सों को डराओ मत, उनका समर्थन करो“। उन्होंने कहा कि यह सप्ताह में दूसरी बार हुआ है जब देश की सर्वोच्च अदालत ने कोविड-19 महामारी संकट से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार पर इस तरह के सवाल उठाए है। उन्होंने कहा कि दिल्ली कांग्रेस पिछले कई हफ्तों से डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिकल स्टाफ और मरीजों और एलएनजेपी जैसे अस्पतालों की भयावह स्थिति को उजागर कर रही है, लेकिन केजरीवाल सरकार ने हमारे सुझावों और शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया।

प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को एक पत्र लिखा। पत्र में चौ0 अनिल कुमार ने जोर देकर कहा है कि मोदी सरकार ने मार्च की शुरुआत के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 10 से भी अधिक बार बढ़ौतरी की है जबकि देश और दिल्ली के लोगों को अभूतपूर्व आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है और दिल्ली सरकार ने भी उसी रास्ते पर चलकर पेट्रोल और डीजल पर वैट की दरों को बढ़ाकर 30 प्रतिशत वैट वसूल रही है जो कि जनता के हितों के खिलाफ है। दिल्ली सरकार ने दिल्ली के लोगों पर एक असहनीय बोझ डाल दिया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने पेट्रोल और डीजल की दरों पर वैट बढ़ाकर दिल्ली की जनता के खिलाफ अपनी असंवदेनशीलता का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि डीजल की दरों में वृद्धि का असर सीधे तौर पर रोजमर्रा की जरुरत की चीजों के दामों पर पड़ रहा है तथा वस्तुओं के दामों में भारी वृद्धि हो रही है। बढ़ती मंहगाई से जनता की कमर टूट गई है और लोगों मे डर और असुरक्षा की मनोस्थित उत्पन्न हो रही है।

चौ0 अनिल कुमार ने मुख्यमंत्री से अपील की कि वे पेट्रोल और डीजल पर वैट में की बढ़ोतरी को तुरंत वापस लेने के लिए अपनी शक्तियों का उपयोग करें क्योंकि केजरीवाल ने हमेशा दिल्ली के लोगों को मुफ्त बिजली और पानी देने की वकालत की है, और वरिष्ठ नागरिकों को मुफ्त तीर्थयात्रा देना शामिल है, परंतु अब कोरोना पीड़ित वरिष्ठ नागरिक अस्पतालों के चक्कर काट रहे है परंतु उन्हें बेड नही मिल रहा है। चौ0 अनिल कुमार ने यह भी कहा कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में मरीजों की भर्ती की सुविधाओं में कोई सुधार नहीं हो सका है जबकि उनके शीर्ष अदालत में पीठसीन वकील यह बयान कर रहे है कि “केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की हाल ही में एलएनजेपी अस्पताल के दौरे के बाद, अस्पताल के हालातों में सुधार आया है। उन्होंने कहा कि केवल एक अंधा, बहरा और गूंगा आदमी ही यह मानेगा कि अमित शाह के दौरे से लोक नायक अस्पताल की सुविधाओं में रातों-रात सुधार हुआ है, हालांकि पिछले तीन महीनों में जब राजधानी में कोविड मरीजों के मामलों में तेजी से वृद्धि हो रही थी उस वक्त केन्द्रीय गृह मंत्री घर में आराम फरमा रहे थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments