Tuesday, June 18, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयपंजाब में AAP की सरकार ने8736 कच्चे शिक्षकों को किया पक्का :...

पंजाब में AAP की सरकार ने8736 कच्चे शिक्षकों को किया पक्का : केजरीवाल

– पंजाब सरकार ने देश भर में सरकारी नौकरियां खत्म कर कच्चे कर्मचारियों की भर्ती करने वाली सरकारों को दिखाया आइना, पूरे देश में पहली बार ‘‘आप’’ की सरकार ने पंजाब में 8736 कच्चे शिक्षकों को किया पक्का, कई हजार और कच्चे कर्मचारी हैं, उनको भी पक्का किया जाएगा – 10-15 सालों से ये शिक्षक धरना-प्रदर्शन करके तंग आ चुके थे और कइयों की उम्र अधिक हो चुकी थी, उनको उम्र में भी छूट दी जा रही है – पूरे देश में एक हवा चल रही है कि सरकारी नौकरियां खत्म कर उनकी जगह कच्चे कर्मचारियों को लगाओ – यह कहा जाता है कि पक्के कर्मचारी काम नहीं करते हैं और वो कामचोर होते हैं, यह बिल्कुल गलत धारणा है – दिल्ली में हमने करके दिखाया है, दिल्ली में पक्के शिक्षकों और डॉक्टरों ने शिक्षा व स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांति करके दिखाया है – कच्चे कर्मचारियों का बेइंतहां शोषण किया जाता है, अब उस शोषण को खत्म करने का समय आ गया है, पंजाब से निकली यह हवा पूरे देश में फैलेगी – दिल्ली में हम गेस्ट शिक्षकों को पक्का करना चाहते हैं, उसके लिए विधानसभा में बिल भी लाए, लेकिन केंद्र सरकार ने उसको मंजूरी नहीं दी – दिल्ली आधा राज्य है, बहुत सारी शक्तियां हमारे पास नहीं है, इसलिए हम चाह कर भी गेस्ट शिक्षकों को पक्का नहीं कर पाए – केंद्र समेत सभी राज्य सरकारों से अपील करता हूं कि पंजाब सरकार की तरह वे भी अपने कच्चे कर्मचारियों को पक्का करें – देश में जहां भी ‘‘आप’’ की सरकार बनेगी, हम हर जगह कच्चे कर्मचारियों को पक्का करेंगे और उनको उनका हक दिलाएंगे : अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली, 10 सितंबर, 2022 : पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार ने 8736 कच्चे शिक्षकों को पक्का कर देश भर की राज्य सरकारों को आइना दिखाया है, जहां सरकारी नौकरियां खत्म कर कच्चे कर्मचारियों की भर्ती को बढ़ावा दिया जा रहा है। ‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में पहली बार ‘‘आप’’ की सरकार ने पंजाब में 8736 कच्चे शिक्षकों को पक्का किया है। कई हजार और कच्चे कर्मचारी हैं, उनको भी पक्का किया जाएगा। 10-15 सालों से ये शिक्षक धरना-प्रदर्शन करके तंग आ चुके थे। ‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में एक हवा चल रही है कि सरकारी नौकरियां खत्म कर उनकी जगह कच्चे कर्मचारियों को लगाओ। कहा जाता है कि पक्के कर्मचारी काम नहीं करते हैं, कामचोर होते हैं, यह बिल्कुल गलत धारणा है। दिल्ली में उन्हीं पक्के शिक्षकों और डॉक्टरों ने शिक्षा व स्वास्थ्य क्षेत्र में क्रांति करके दिखाया है। कच्चे कर्मचारियों के बेइंतहां शोषण को खत्म करने का अब समय आ गया है। पंजाब से निकली यह हवा अब पूरे देश में फैलेगी। मैं केंद्र समेत सभी राज्य सरकारों से अपील करता हूं कि पंजाब सरकार की तरह वे भी अपने कच्चे कर्मचारियों को पक्का करें। देश में जहां भी हमारी सरकार बनेगी, हम हर जगह कच्चे कर्मचारियों को पक्का कर उनको हक दिलाएंगे।

पंजाब में जितने भी कच्चे कर्मचारी हैं, उन सभी को पक्का किया जाएगा- अरविंद केजरीवाल

‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज डिजिटल प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार भगवंत मान जी ने शिक्षक दिवस के दिन (5 सितंबर को) एक बहुत ही महत्वपूर्ण ऐलान किया था, जो न केवल पंजाब के लिए, बल्कि पूरे देश की अर्थव्यवस्था के लिए काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने 8736 कच्चे शिक्षकों को पक्का करने का ऐलान किया था। देश में यह पहली बार हो रहा है। पूरे देश में एक हवा यह चल रही है कि सरकारी नौकरियां खत्म करो, सरकारी नौकरियों में भर्ती मत करो और उनकी जगह कच्चे लोगों को लगाओ। कच्चे में ही उन लोगों की पूरी जिंदगी बीत जाती है। पहली बार पूरे देश में सीएम भगवंत मान के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी की सरकार ने पंजाब में 8736 शिक्षकों को पक्का किया है। पंजाब में और भी कई हजार कच्चे कर्मचारी हैं। आम आदमी पार्टी की सरकार उस पर भी काम कर रही है। जितने भी कच्चे कर्मचारी हैं, उन सभी को पक्का किया जाएगा। इनको पक्का करने में थोड़ा समय इसलिए लग रहा है, क्योंकि कानूनी रूप से ऐसा किया जाए, ताकि अगर कोई उसको कोर्ट में चुनौती दे, तो वो टिक जाए। ऐसा न हो कि केवल दिखाने के लिए खानापूर्ति करके कर दिया और फिर कोर्ट में जाकर हार गए, तो उन कर्मचारियों के साथ धोखा होगा।

पूरे देश में केंद्र और राज्य सरकारें सरकारी नौकरियां खत्म करती जा रही हैं, जब भारतीय अर्थव्यवस्था बढ़ रही है, तो सरकारी नौकरियां भी बढ़नी चाहिए- अरविंद केजरीवाल

‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इनमें कई ऐसे कच्चे कर्मचारी हैं, जो पिछले 10 से 15 साल से धरने-प्रदर्शन कर रहे थे, टंकियों पर चढ़े हुए थे और बहुत दुखी थे। ये कर्मचारी धरने-प्रदर्शन कर करके तंग आ गए थे। उनकी उम्र भी अधिक हो गई थी। इसलिए उनको उम्र में छूट भी दी जा रही है। यह पूरे देश के लिए एक बहुत बड़ी बात है। पूरे देश में जगह-जगह राज्य सरकारें और केंद्र सरकार सरकारी नौकरियां एक के बाद एक खत्म करती जा रही हैं। जब भारतीय अर्थव्यवस्था बढ़ रही है और हर राज्य की अर्थव्यवस्था बढ़ रही है, तो सरकारी नौकरियां तो और बढ़नी चाहिए। सरकारी नौकरियां कम कैसे हो सकती हैं? लेकिन पूरे देश में एक पैटर्न चल रहा है कि सरकारी नौकरियों को खत्म करके, उसके जगह कच्चे कर्मचारियों को लाया जा रहा है। बहुत बड़े स्तर पर सरकारी पदों को खाली रखा गया है और उनकी जगह कच्चे कर्मचारियों को लाया गया है। कहा यह जाता है कि जो पक्के कर्मचारी होते हैं, वो काम नहीं करते हैं, वो कामचोर होते हैं। यह बिल्कुल गलत धारणा है। दिल्ली के अंदर हमने करके दिखाया है। दिल्ली के अंदर शिक्षा का क्रांति उन्हीं पक्के कर्मचारियों की वजह से आई है। गेस्ट टीचर और पक्के टीचर दोनों ने मिलकर काम किया। दिल्ली में लगभग 60 हजार शिक्षक काम करते हैं। दिल्ली में पहले इन शिक्षकों को बदनाम किया जाता था। कहा जाता था कि सरकारी स्कूल में पढ़ाई नहीं होती है। शिक्षक आते हैं, पेड़ के नीचे बैठ कर महिला शिक्षक स्वेटर बुनती रहती हैं। हमारे उन्ही शिक्षकों ने दिल्ली में शिक्षा क्रांति करके दिखाई। हमारे उन्हीं सरकारी डॉक्टर्स, नर्सेज और मेडिकल स्टाफ ने हमारे सरकारी अस्पतालों और मोहल्ला क्लीनिक में कमाल करके दिखाया है। इसलिए यह कहना गलत है कि पक्के कर्मचारी काम नहीं करते हैं। हमने उन्हीं पक्के कर्मचारियों के जरिए दिल्ली में क्रांति करके दिखाई।

सरकारी नौकरी पर पक्के कर्मचारी ही होने चाहिए, पंजाब से निकली इस चिंगारी का संदेश पूरे देश में जाएगा- अरविंद केजरीवाल

‘‘आप’’ के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह जो कर्मचारी ठेके पर रखे जाते हैं, ये कच्चे कर्मचारी हैं। ये कर्मचारी पदानुक्रम के मामले में सबसे नीचे आते हैं और सबसे गरीब होते हैं। इन कर्मचारियों का बेइंतहां शोषण किया जाता है। उस शोषण को अब खत्म करने का समय आ गया है। पंजाब से यह जो हवा निकली है, वो पूरे देश में फैलेगी। हम दिल्ली में भी करना चाहते थे। दिल्ली में हमने गेस्ट टीचर को पक्का करने के लिए विधानसभा में बिल भी लाए, लेकिन केंद्र सरकार ने उस बिल को मंजूरी नहीं दी। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि दिल्ली आधा राज्य है। बहुत सारी शक्तियां हमारे पास नहीं है। हम चाह कर भी गेस्ट शिक्षकों को पक्का नहीं कर पाए, लेकिन जो पंजाब से चिंगारी निकली है कि सरकारी नौकरी पर पक्के कर्मचारी ही होने चाहिए, कच्चे कर्मचारियों का सिस्टम खत्म होना चाहिए, यह बिल्कुल शोषण करने वाला सिस्टम है, यह संदेश पूरे देश में जाएगा। मैं देश भर की राज्य सरकारों से अपील करता हूं कि जैसे पंजाब सरकार ने कच्चे कर्मचारियों को पक्का किया, वैसे ही अन्य सरकारें भी अपने-अपने यहां कच्चे कर्मचारियों को पक्का करें। केंद्र सरकार भी जिस-जिस विभाग में जितने भी कच्चे कर्मचारी है, उन सबको पक्का करें। आम आदमी पार्टी की तरफ से मैं कहना चाहता हूं कि देश में जहां भी हमारी सरकार बनेगी, हम हर जगह कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने के हक में हैं और उनको पक्का करेंगे और उनको उनका हक दिलाएंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments