Homeताजा खबरेंदिल्ली के सभी सांसदों ने अपनी सांसद निधि का फंड देशहित में...

दिल्ली के सभी सांसदों ने अपनी सांसद निधि का फंड देशहित में दिया: मनोज तिवारी

  • दिल्ली के सांसदों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना महामारी से निपटने के लिए दिल्ली सरकार को दिए सुझाव

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए बुधवार को दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी, मीनाक्षी लेखी, रमेश बिधूड़ी, प्रवेश साहिब सिंह, गौतम गंभीर व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक हुई। इस बैठक में सांसदों ने अपने क्षेत्र की समस्याओं को रखते हुए कोरोना महामारी के संकट से निपटने के दिल्ली सरकार के सामने अनेक सुझाव रखे और कहा कि दिल्ली सरकार को जहां भी जरूरत होगी दिल्ली के सभी सांसद साथ में खड़े रहकर अपनी सेवाएं देने को तैयार है।

दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार की ओर से बने हुए खाने को लेकर मिल रही शिकायतों को मुख्यमंत्री केजरीवाल के सामने रखा और जल्द से जल्द इस मामले को लेकर कार्रवाई करने की बात कही। विधायक फंड को कोरोना महामारी की जंग में उपयोग करने का सुझाव देते हुए अध्यक्ष तिवारी ने कहा कि दिल्ली के सभी सांसदों ने अपनी सांसद निधि के फंड को देश से कोरोना वायरस के दंश को निकलने के लिए लगा दिया है। दिल्ली के विधायक भी अगर इसमें सहयोग करते हैं तो इससे दिल्ली में रह रहे लोगों को काफी मदद मिल सकेगी।

तिवारी ने बताया कि दिल्ली में कई ऐसे वर्ग के लोग हैं जिनके पास राशन कार्ड नहीं है और उन्हें पोर्टल के जरिए ई-कूपन निकालना नहीं आता है जिसके कारण उनसे कई लोग पैसे लेकर ई-कूपन दे रहे हैं। हमें एनजीओ की सहायता से ऐसे लोगों पर निगरानी रखनी पड़ेगी जिससे गरीबों को राशन लेने के लिए ई-कूपन मिल सके और इस धांधली को रोका जा सके। पूरा देश इन दिनों कोरोना महामारी के संकट से उबरने की कोशिश कर रहा है और सभी पार्टियां राजनीति से ऊपर उठकर अपने-अपने स्तर पर इस महामारी से निपटने के लिए काम कर रही है, ऐसे में किसी भी प्रकार की राजनीतिक बयानबाजी अनुचित और अशोभनीय है।

तिवारी ने कहा कि इस संकट की घड़ी में दिल्ली भाजपा भी दिल्ली सरकार की ओर से 10 लाख लोगों के लिए बन रहे खाने की किचन में अपना सहयोग देना चाहती है लेकिन जानकारी के अभाव में ऐसा कर नहीं पा रही है। इसलिए सभी सांसदों के पास उन केंद्रों की जानकारी होनी जरूरी है जहां भोजन तैयार किया जा रहा है। जमात के लोगों के कारण दिल्ली में बढ़े कोरोना संक्रमण के मद्देनजर दिल्ली सरकार को सख्त से सख्त निर्णय लेना चाहिए ताकि अन्य लोगों को भी इससे सबक मिले और वो लॉकडाउन की अवहेलना न करें और वह खुद को और अपने परिवार को कोरोना महामारी के संक्रमण से सुरक्षित रखे।

दिल्ली सरकार को तीनों एमसीडी के रुके हुए फंड को तत्काल प्रभाव से रिलीज करने का सुझाव देते हुए मनोज तिवारी ने कहा दिल्ली के लोगों की सुरक्षा को देखते हुए पूरी दिल्ली लॉक डाउन है और सभी लोग अपने घरों में सुरक्षित हैं लेकिन नगर निगम के कर्मचारी सड़कों पर दिल्ली की सेवा में लगे हुए हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि फंड की कमी के कारण दिल्ली को साफ और स्वच्छ रखने के लिए नगर निगम के सफाई कर्मचारियों का काम प्रभावित ना हो।

मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली को सहयोग किए जाने के बारे में भी जानकारियां दीं। उन्होंने बताया दिल्ली में 46 लाख लोगों को जनधन योजना के माध्यम से 690 करोड़ रुपए दिए गए। उज्जवला योजना के माध्यम से केंद्र सरकार 836 करोड़ रुपए दिल्ली के लोगों को दे रही है जिससे अगले 3 महीने तक का सिलेंडर मुफ्त दिया जाएगा। सीनियर सिटीजन, दिव्यांगजनों एवं विधवा महिलाओं को 243 करोड़ रुपए की अतिरिक्त पेंशन दी जाएगी। 768 करोड़ रुपए की लागत से गरीब लोगों को राशन मुफ्त वितरित किया जा रहा है! कुल मिलाकर 2537 करोड़ रुपए का सहयोग केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली के लोगों को दिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read