Homeअंतराष्ट्रीयभाजपा ने नई आबकारी नीति में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ केजरीवाल और...

भाजपा ने नई आबकारी नीति में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ केजरीवाल और सिसोदिया का पुतला फूंककर किया प्रचंड विरोध प्रदर्शन

  • करोड़ों का भ्रष्टाचार करना, युवाओं को नशे में झोंकना, महिलाओं को बाऊंसर से पिटवाना आखिर किस विकास मॉडल का मापदंड है: आदेश गुप्ता – रैली को रोकने के लिए भाजपा नेताओं पर पुलिस ने पानी की बौछारें की -करोड़ों का भ्रष्टाचार करना, युवाओं को नशे में झोंकना, महिलाओं को बाऊंसर से पिटवाना आखिर किस विकास मॉडल का मापदंड है – आबकारी नीति में करोड़ों रुपये डकार कर भ्रष्टाचार के आकंठ में डूब चुकी है केजरीवाल सरकार- आबकारी नीति पर पूछे गए सवालों पर केजरीवाल का चुप्पी साधना भ्रष्टाचार का प्रमाण है- केजरीवाल ने दिल्लीवालों को एक के साथ एक मुफ्त शराब की बोतल परोसकर घरों को उजाड़ने का काम किया है- केजरीवाल द्वारा पैसों की उगाही के लिए तैयार की गई थी नई आबकारी नीति- प्रवेश साहिब सिंह / केजरीवाल कोविड में दिल्लीवासियों को सुविधा देने की जगह अपनी जेबें भरने की रणनीति बना रहे थे-विजय गोयल

  • नई दिल्ली, 26 अगस्त 2022 : दिल्ली भाजपा प्रदेश के अध्यक्ष आदेश गुप्ता के नेतृत्व में विधानसभा के बाहर भाजपा ने नई आबकारी नीति में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रचंड विरोध प्रदर्शन किया। विरोध प्रदर्शन में आदेश गुप्ता के साथ भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी और प्रवेश साहिब सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल और विधायक विजेंदर गुप्ता, पार्टी के असम सह-प्रभारी पवन शर्मा ने मनीष सिसोदिया के इस्तीफे की मांग करते हुए केजरीवाल और सिसोदिया का पुतला फूंका और केजरीवाल पर भाजपा द्वारा पूछे गए सवालों से बचने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो सवालों से बचता है वह चोर होता है। आदेश गुप्ता ने विरोध प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार का दूसरा नाम अरविंद केजरीवाल है। केजरीवाल देश के सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने 8 सालों के कार्यकाल में सिर्फ भ्रष्टाचार ही किया है। आखिर किस विकास मॉडल की बात केजरीवाल करते रहते हैं। दिल्ली की गलियों में शराब के ठेके खोल देना, शराब माफ़ियाओं के साथ मिलकर करोड़ों रूपये डकार जाना, शराब के ठेके खोले जाने पर महिलाओं द्वारा विरोध जताने पर बाऊंसर से पिटवाना और युवाओं को शराब की लत लगाकर दिल्ली के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना किस विकास मॉडल का मापदंड है? उन्होंने कहा कि आज जब आबकारी नीति में हुए भ्रष्टाचार की पोल खुल चुकी है तो केजरीवाल चुप्पी साध रखी है। यह वही केजरीवाल हैं जो सिर्फ दिल्ली ही नही बल्कि देश भर के मुद्दों पर अपनी बातें रखते हैं लेकिन आज जब अपने ऊपर आरोप लगे हैं तो चुप्पी क्यों साध रखी है ?
  • शराब पर पूछे जा रहे सवालों पर क्या केजरीवाल की याददाश्त चली गई है
    आदेश गुप्ता ने कहा कि आबकारी नीति पर पूछे जा रहे सवालों पर क्या केजरीवाल की याददाश्त चली गई है, क्योंकि यह इनकी पुरानी नीति हैं कि जब भी इनके नेताओं पर आरोप लगते हैं तो उनकी याददाश्त चली जाती है। केजरीवाल की यह चुप्पी बताती है कि वे पूरी तरह से भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हुए हैं। उन्होंने कहा कि नई आबकारी नीति को वापस लेना उन सभी महिलाओं, सामाजिक संगठनों की जीत है जिन्होंने शराब के ठेकों के सामने विरोध प्रदर्शन किया। यह भाजपा की घर-घर जाकर चलाये गए पोल खोल अभियान का नतीजा है। साथ ही यह परिणाम है उन सभी दिल्लीवालों का जिन्होंने भाजपा द्वारा चलाये गए आबकारी नीति के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया।
  • केजरीवाल ने मुफ्त शराब की बोतल परोसकर घरों को उजाड़ने का काम किया है: रमेश बिधूड़ी
    सांसद रमेश बिधूड़ी ने कहा कि केजरीवाल ने दिल्लीवालों को एक के साथ एक मुफ्त शराब की बोतल परोसकर घरों को उजाड़ने का काम किया है। एक तरफ केजरीवाल और सिसोदिया दिल्ली में विश्वस्तरीय शिक्षा प्रदान करने का ढोल बजाते हैं और दूसरी तरफ दिल्ली में जगह-जगह ठेके खुलवाकर लोगों को युवाओं को ‘बाय वन गेट वन’ फ्री शराब परोस कर परिवारों को उजाड़ने वाली नीति को बहुत अच्छा बताते हैं, जिसमें आपके द्वारा किया गया करोड़ों रूपयों का भ्रष्टाचार लोगों के सामने खुल जाता है तो गलत बयान देकर कि भाजपा की तरफ से मुझे पार्टी ज्वाईन करने के लिए ऑफर आया है व इधर-उधर की बातें कर लोगों का ध्यान शराब घोटाले के मुद्दे से भटकाने का प्रयास करते हैं।
  • केजरीवाल द्वारा पैसों की उगाही के लिए तैयार की गई थी नई आबकारी नीति: प्रवेश साहिब सिंह
    सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने कहा कि केजरीवाल द्वारा पैसों की उगाही के लिए नई आबकारी नीति तैयार की गई थी। शराब माफियाओं के साथ मिलकर दिल्ली का खजाना लूटने वालों का स्थान कैबिनेट नहीं बल्कि जेल है। नई शराब नीति के तहत कमीशन 2.5 प्रतिशत से 12 फीसदी करने के लिए करोड़ो रूपये की रिश्वत मनीष सिसोदिया को दी गई थी और इसकी पहली किश्त के रूप में सिसोदिया को 150 करोड़ रुपये दिया गया। उन्होंने कहा कि आबकारी नीति को लागू करने से पहले खुद बैठक कर योजना तैयार की गई कि कैसे अधिक से अधिक पैसों की उगाही की जा सकी।

विजय गोयल ने कहा कि जब पूरी दिल्ली ही नहीं देश भी कोरोना से परेशान था तो उस वक्त केजरीवाल दिल्ली को लूटने का प्लान तैयार कर रहे थे। कोविड में दिल्लीवासियों को सुविधा देने की जगह अपनी जेबें भरने की तैयारी कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आखिर क्या मजबूरी थी कि केजरीवाल ने शराब माफियाओं के 144 करोड़ रुपये माफ कर दिए। विरोध प्रदर्शन में भाजपा नेताओं पर पानी के बौछारों से पुलिस द्वारा रैली को रोकने की कोशिश की गई। विधानसभा के बाहर हुए आज के प्रचंड विरोध प्रदर्शन में मुख्य रुप से प्रदेश भाजपा महामंत्री हर्ष मल्होत्रा, प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव बब्बर एवं सुनील यादव, प्रदेश मंत्री गौरव खारी, पूर्व महापौर जय प्रकाश सहित प्रदेश, जिला एवं मंडल के अन्य पदाधिकारी सहित हज़ारों की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × one =

Must Read