Wednesday, July 10, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयसिविल लाईन जोन : कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया

सिविल लाईन जोन : कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया

निगम कर्मचारियों को समय पर वेतन एवं भत्ते दिलाने, कोविड ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले कर्मचारियों को 1 करोड़ मुआवजा व आश्रितों को नौकरी दिलाने की मांग को लेकर न्याय मार्च के तहत सिविल लाईन जोन निगम कार्यालय पर शांतिपूर्ण तरीके से धरना देने की तैयारी कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया

नई दिल्ली : दिल्ली में दिल्ली नगर निगम कर्मचारियों पिछले कुछ महीनों से लगातार वेतन न मिलने के कारण कांग्रेस पार्टी द्वारा चलाए जा रहे न्याय मार्च के तहत न्याय दिलाने के लिए जैसे ही दिल्ली कांग्रेस कार्यकर्ता सिविल लाइंस जोन एमसीडी कार्यालय, में धरना देने के लिए एकत्रित हुए, उन्हें केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा निर्देशित दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार करके मौरिस नगर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। शांतिपूर्ण तरीके से धरना करने जा रहे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने बल प्रयोग करके उनके साथ मारपीट भी की। गिरफ्तार किए गए नेताओं में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष जयकिशन, अभिषेक दत्त और मुदित अग्रवाल, निगम में कांग्रेस दल के नेता मुकेश गोयल और रिंकू, पूर्व विधायक वीर सिंह धींगान, अमरीश सिंह गौतम, कमलकांत शर्मा, अमृता धवन, जिला अध्यक्ष हरी किशन जिंदल, मौहम्मद उस्मान, गुडडी देवी सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल थे।

कांग्रेस पार्टी, सफाई कर्मचारी यूनियन के साथ मिलकर न्याय मार्च के तहत सभी निगम के जोनल कार्यालयों पर निगम कर्मचारियों को समय पर वेतन और भत्ते देने, लम्बे समय से लम्बित एरियर दिलाने के साथ-साथ कोरोना यौद्धाओं के लिए आप पार्टी द्वारा घोषित 1 करोड़ रुपये का मुआवजा कोविड ड्यूटी करते हुए जान गंवाने वाले सफाई कर्मचारियों को भी दिलाने की मांग कर रहे है, जबकि स्वच्छता कर्मचारी कोविड काल में अग्रणी भूमिका निभा रहे है, जिसके कारण बहुत से कर्मचारी कोविड संक्रमित भी हुए है। कांग्रेस-सफाई कर्मचारी यूनियन की यह भी मांग है कि कोविड ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले सफाई कर्मचारियों के परिवार के एक आश्रित को नौकरी भी दी जानी चाहिए।
 
दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है जबकि आप पार्टी और भाजपा के नेता जब विरोध प्रदर्शन करते है तो उन्हें किसी भी प्रकार से रोका नही जाता, जबकि विरोध प्रदर्शन के दौरान यह दोनो पार्टियों के नेता व कार्यकर्ता कोविड-19 दिशा निर्देशों का लगातार उलंघन करते नजर आते है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि यह भारी विडंबना है कि भाजपा और आप पार्टी, दोनो ही निगम कर्मचारियों को वेतन न मिलने के लिए जिम्मेदार है, दोनो एक दूसरे पर आरोप लगाकर निगम कर्मचारियों को मिलकर मूर्ख बना रहे है, जबकि कांग्रेस पार्टी निगम कर्मचारियों की वास्तविक परेशानियों और मांगों जैसे कि रुके हुए वेतन, भत्ते और एरियर आदि के लिए भाजपा और आप पार्टी की सरकार दोनो को चेतावनी देती है, यदि मांगों को तुरंत नही माना गया तो सफाई कर्मचारी यूनियन के साथ मिलकर सड़कों पर उतरकर बड़े पैमाने पर आंदोलन चलाया जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments