HomeUncategorisedसीबीआई की जांच शुरु होते ही दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार हो...

सीबीआई की जांच शुरु होते ही दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार हो गया : प्रवेश साहिब सिंह

  • मनीष सिसोदिया के साथ अपनी फोटो भी डिलिट क्यों कर दी ? – शराब माफियाओं से पैसे वसूल कर केजरीवाल तक कैश पहुंचाता था दिनेश अरोड़ा – मनीष सिसोदिया प्रतिदिन रात को दिनेश अरोड़ा के चीका पब में क्यों जाते थे – सीबीआई की जांच शुरु होते ही दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार हो गया और सिसोदिया के साथ अपनी फोटो भी डिलिट क्यों कर दी – शराब में पैसों की उगाही करने वाली चार प्रमुख कंपनियां सिसोदिया की मेहरबानी से ही शराब के धंधों में आई – अमित अरोड़ा की कंपनी ‘पंजाब बॉडी’ को भ्रष्टाचार के वसूले गए करोड़ों रुपये पहुंचाए जाते थे

नई दिल्ली, 04 अगस्त, 2022 : दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति मामले में सीबीआई की जांच शुरु होते ही दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार हो गया और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ अपनी फोटो भी डिलिट कर दी। भाजपा के सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने गुरुवार को पूर्व विधायक एवं भाजपा नेता सरदार मनजिंदर सिंह सिरसा के साथ संयुक्त प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया पर उक्त आरोप लगाए। सांसद प्रवेश ने कहा कि नई आबकारी नीति के तहत जिस तरह से भ्रष्टाचार किया गया है, इसमें एक मोटी रकम को केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने अपने नजदीकियों को कैश वसूलने का काम किया है। उन्होंने दिनेश अरोड़ा नाम के एक व्यक्ति को मनीष सिसोदिया का करीबी बताते हुए कहा कि चीका पब चलाने वाले दिनेश ही आबकारी नीति में किए गए भ्रष्टाचार का कैश वसूलने का काम करता था। उसके पब से ही मनीष सिसोदिया पैसों और सभी लेन-देन का काम करते थे।

  • केजरीवाल सरकार 540 करोड़ रुपये की मोटी रकम वसूल करती थी
    सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने प्रेसवार्ता में कहा कि नई आबकारी नीति में 2.5 फीसदी कमीशन को बढ़ाकर 12 फीसदी कर दिया गया जबकि सरकार को मिलने वाली एक्साइज ड्यूटी को एक फीसदी ही रखा गया ताकि मोटी कमाई हो सके। उन्होंने कहा कि मनीष सिसोदिया खुद कहते थे कि एक साल में नई आबकारी नीति से 9000 करोड़ रुपये कलेक्शन का अनुमान था। इस हिसाब से 12 फ़ीसदी 1080 करोड़ रुपए की वसूली होती थी जिसमें से 6 फीसदी एल-1 होल्डर से दिनेश अरोड़ा वसूल कर केजरीवाल तक पहुंचाता था। इस तरह प्रति साल केजरीवाल सरकार 540 करोड़ रुपये की मोटी रकम वसूल करती थी जो सीधे तौर पर केजरीवाल और सिसोदिया के जेब में जाते थे। प्रेसवार्ता में प्रदेश भाजपा मीडिया सह-प्रमुख हरिहर रघुवंशी और प्रदेश प्रवक्ता शुभेन्द्रू शेखर अवस्थी भी उपस्थित थे।

  • रात को चीका पब में मनीष सिसोदिया क्या करने जाते थे ?
    प्रवेश साहिब सिंह ने आरोप लगाया कि जब से सीबीआई की जांच नई आबकारी नीति के खिलाफ शुरू हुई है तब से दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार है और साथ ही उसने इंस्टाग्राम पर जो मनीष सिसोदिया के साथ फोटो लगाई है वह भी डिलीट कर चुका है। उन्होंने डिलीट किए हुए फोटो को दिखाते हुए कहा कि एल वन होल्डर को मिलने वाली लाइसेंस सिसोदिया अपने लोगों को दे दिया था जो सिर्फ तीन कम्पनियां मिलकर चलाती थी। ये तीनों कंपनियां लगभग 3300 करोड़ की शराब बेचती थी। इन 3 कम्पनियों से मिलकर 200 करोड़ रुपये की रकम वसूल करते थे। प्रवेश साहिब सिंह ने सिसोदिया से सवाल करते हुए कहा कि आखिर रात को चीका पब में मनीष सिसोदिया क्या करने जाते थे। साथ ही सीबीआई की जांच जब शुरू हुई तो फोटो डिलीट करने की नौबत क्यों आ गई?  

  • दिनेश अरोड़ा सिसोदिया के लिए शराब विक्रेताओं से उगाही करने का काम करता था: सिरसा
    पूर्व विधायक सिरसा ने कहा कि दिल्ली के चार बड़े शराब के थोक व्यापारी का सीधा संबंध उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से था और वे इस धंधे में सिसोदिया की मेहरबानी से आए। उन्होंने आरोप लगाया कि थोक व्यापारियों में से एक दिनेश अरोड़ा सिसोदिया के लिए शराब विक्रेताओं से उगाही करने का काम करता था। उन्होंने कहा कि अरोड़ा शराब के ठेकेदारों से कमीशन जुटाने का काम करता था और इस तरह से एकत्र करोड़ों रुपये की अवैध राशि को सिसोदिया और मुख्यमंत्री तक पहुंचाने का काम करता था। सिरसा ने आरोप लगाया कि सिसोदिया भी अरोड़ा से सीधा संपर्क में था, वे उनके गुड़गांव के चीका पब अक्सर उनके मिलने जाया करते थे। मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि समीर मित्रो नाम के व्यक्ति के सहारे दिनेश अरोड़ा कैस वसूल कर अमित अरोड़ा की पंजाब बॉडी नाम की कंपनी के पास पैसा पहुंचाया जाता है जिसका कार्यालय गुड़गांव में है। इसका केएसजेएम के नाम से होलसेल का काम करता है। जीएमआर के डायरेक्टर और उनकी बेटी पार्टनर मिलकर काम करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 5 =

Must Read