Homeअंतराष्ट्रीयDJB ने उत्तराखंड में आई आपदा के कारण दिल्ली में प्रभावित जलापूर्ति...

DJB ने उत्तराखंड में आई आपदा के कारण दिल्ली में प्रभावित जलापूर्ति की समस्या को किया दूर : राघव चड्ढा

  • सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपर गंगा कैनाल में आई गंदगी को जल्द से जल्द साफ कर दिल्ली वालों को स्वच्छ पानी मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं, डीजेबी लोगों को पर्याप्त स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए दिन रात लगा है
  • डीजेबी ने उत्तराखंड में आई आपदा के कारण दिल्ली में प्रभावित जलापूर्ति की समस्या को किया दूर, भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट 100 प्रतिशत और सोनिया विहार 80 प्रतिशत क्षमता से कर रहे काम
  • उत्तराखंड में आई आपदा के बाद अपर गंगा कैनाल में लकड़ी, पौधे, कीचड़ और मलबा आदि के आ जाने से एंटीयू का स्तर 100 से बढ़कर 8 हजार के पार पहुंच गया था
  • पानी मे गंदगी का स्तर अधिक बढ़ जाने की वजह से सोनिया विहार और भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की उत्पादन क्षमता बहुत कम हो गई थी, जिसके कारण दक्षिणी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली और उत्तर पूर्वी दिल्ली के इलाकों में पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई
  • भागीरथी ट्रीटमेंट प्लांट में अब एंटीयू 8 हजार से कम कर के 960 तक और सोनिया विहार में 8200 एंटीयू से कम कर 1000 से नीचे लाया जा चुका है
  • दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा कर लिया जायजा

नई दिल्ली : दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने आज भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा कर जायजा लिया। इस दौरान राघव चड्ढा ने कहा कि उत्तराखंड में आई आपदा के कारण दिल्ली के कुछ इलाकों में प्रभावित जलापूर्ति की समस्या को दूर कर दिया गया है। अब भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट 100 प्रतिशत और सोनिया विहार वाटर ट्रीटमेंट प्लांट 80 प्रतिशत क्षमता से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, उत्तराखंड में आई आपदा के बाद अपर गंगा कैनाल में लकड़ी, पौधे, कीचड़ और मलबा आदि के आ जाने से एंटीयू का स्तर 100 से बढ़कर 8 हजार के पार पहुंच गया था। जिसकी वजह से सोनिया विहार और भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की उत्पादन क्षमता बहुत कम हो गई थी और दक्षिणी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली और उत्तर पूर्वी दिल्ली के इलाकों में पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई। सीएम अरविंद केजरीवाल ने इसे गंभीरता से लिया और उन्होंने डीजेबी को अपर गंगा कैनाल में आई गंदगी को जल्द से जल्द साफ कर दिल्ली वालों को स्वच्छ पानी मुहैया कराने के निर्देश दिए। डीजेबी दिल्ली वालों को पर्याप्त स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए दिन रात लगा है।

दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने भागीरथी ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा करने के उपरांत कहां कि अपर गंगा कैनाल से मुरादनगर होते हुए जो कच्चा पानी दिल्ली आता है, उस पानी को हम ट्वीट करके दिल्ली वालों को दिया करते हैं। उत्तराखंड में जो प्राकृतिक आपदा आई और ग्लेशियर टूटा, उसकी वजह से जो कच्चा पानी आ रहा था, उसमें बहुत गंदगी पाई गई है। उस पानी में लकड़ी के टुकड़े, कुछ पौधे, कीचड़, मलबा आदि कई सारी चीजें आई है। उसकी वजह से पानी में गंदगी का स्तर काफी बढ़ गया। इसे एंटीयू में मापा जाता है। पानी में एंटीयू का स्तर 8000 पर पहुंच गया।

उन्होंने कहा कि अक्सर फरवरी के महीने में यह गंदगी करीब 100 एंटीयू के आसपास होती है, लेकिन वह गंदगी का स्तर 100 एंटीयू से बढ़कर 800 एंटीयू हो गया, जिसके चलते हमें अपने दो बड़े वाटर ट्रीटमेंट प्लांट सोनिया बिहार और भागीरथी, इन दोनों की क्षमता को काफी हद तक कम करना पड़ा और पानी का उत्पादन कम करना पड़ा। ये प्लांट्स अपनी पूरी क्षमता के साथ ही ये प्लांट काम नहीं कर पा रहे हैं। यह दोनों प्लांट मिलकर के प्रतिदिन करीब 250 एमजीडी पानी दिल्ली वालों को देते हैं। इन दोनों ट्रीटमेंट प्लांट से जिन इलाकों में पानी जाता है, उनमें दक्षिणी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली और उत्तर पूर्वी दिल्ली के इलाके हैं। ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता प्रभावित होने के कारण इन इलाकों में 2 दिनों से पानी की आपूर्ति काफी खराब रही है। इसकी पूर्ति के लिए हमने टैंकर लगाकर के जल आपूर्ति करने का प्रयास किया।

राघव चड्ढा ने कहा कि मुझे आज यह बताते हुए खुशी है कि दिल्ली जल बोर्ड के सभी अधिकारियों और इंजीनियर ने दिन रात मेहनत करके इस गंदगी को, उत्तराखंड में आई आपदा की वजह से जो गंगा नदी में आ रही थी, उसे कम किया है और जो 8000 एंटीयू गंदगी का आंकड़ा पहुंच गया है, उसे घटाकर इस समय 960 एंटीयू तक ले आए हैं यानी अब गंदगी लगभग 10 प्रतिशत रह गई है और 90 प्रतिशत तक साफ किया जा चुका है। उन्होंने कहा, उसकी वजह से हमारे वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता है जो आधी से भी कम हो गई थी, आज उस क्षमता को हमने बढ़ा दिया है और फिर से हमारा भागीरथी ट्रीटमेंट प्लांट अब 100 प्रतिशत क्षमता के साथ चलने लगा है।

उन्होंने बताया कि इसी तरह सोनिया बिहार में भी जो पानी का उत्पादन था, वह घट गया था। वहां पर 140 एमजीडी पानी का उत्पादन प्रतिदिन होता है, वह घटकर के 40 प्रतिशत के स्तर पर आ गया था। वहां पर भी गंदगी साफ की गई है और उसे अगर एंटीयू में मापे तो 8200 एंटीयू की गंदगी पाई जा रही थी, जिसे घटाकर वहां पर भी हम 1000 से नीचे लाए हैं, जिसकी वजह से वहां पर प्लांट अभी 80 प्रतिशत क्षमता के साथ चल रहा है। मुझे उम्मीद है कि शाम आते आते 100 प्रतिशत क्षमता के साथ सोनिया विहार ट्रीटमेंट प्लांट में काम करना शुरू कर देगा। श्री राघव चड्ढा ने कहा, अरविंद केजरीवाल की सरकार पूरी तरीके से लगी हुई है कि दिल्ली वालों को किसी प्रकार से कोई समस्या न आए। मुख्यमंत्री कार्यालय से हमें बस एक ही निर्देश है कि दिन-रात काम करो और जो भी पानी में गंदगी है, उसको साफ करके दिल्ली वालों को स्वच्छ पानी उनके घर जल्द से जल्द पहुंचाया जाए।

दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने वर्तमान स्थिति और तैयारियों का जायजा लेने के लिए भागीरथी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा किया। उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा के बाद अपर गंगा कैनाल से कच्चे पानी में मैलापन के कारण वाटर ट्रीटमेंट प्लांट कम क्षमता पर काम कर रहे हैं। जिसके बाद से दिल्ली के कुछ इलाकों में जल आपूर्ति प्रभावित हुई है। अपर गंगा कैनाल से दिल्ली द्वारा लाए जाने वाले कच्चे पानी में गंदगी का स्तर काफी बढ़ गया है। इसके परिणाम स्वरूप दिल्ली जल बोर्ड का सोनिया विहार और भागीरथी ट्रीटमेंट प्लांट काफी कम क्षमता पर संचालित हो रहे थे। लेकिन डीजेबी के अधिकारियों और इंजीनियरों के अथक प्रयास के बाद कच्चे पानी मे उपलब्ध गंदगी को साफ कर दिया गया है और अब दोनों ट्रीटमेंट प्लांट अपनी क्षमता के साथ काम करने लगे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 2 =

Must Read