Homeताजा खबरेंकेजरीवाल सरकार की लापरवाही से दिसम्बर माह में 162 बेघरों का ठंड...

केजरीवाल सरकार की लापरवाही से दिसम्बर माह में 162 बेघरों का ठंड से हुई मौत : हर्ष मल्होत्रा

देश की राजधानी में केजरीवाल सरकार की लापरवाही से दिसम्बर माह में 162 बेघरों का ठंड से मरना न सिर्फ हम सब दिल्ली वालों को शर्मसार करता है बल्कि सरकार का एक अक्षम्य अपराध है – उपराज्यपाल द्वारा रैन बसेरों में अभाव को लेकर डूसिब प्रमुख एवं अन्य अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई साफ दर्शाती है की डूसिब में भारी भ्रष्टाचार है: हर्ष मल्होत्रा

नई दिल्ली, 31 दिसम्बर 2022: दिल्ली भाजपा के महामंत्री हर्ष मल्होत्रा ने आज अभी कुछ देर पहले एक पत्रकार वार्ता में कहा है कि वर्ष 2022 के अंतिम दिन मैं बड़े भावुक मन से दिल्ली एवं देश की जनता का ध्यान बेघर लोगों के प्रति अरविन्द केजरीवाल सरकार की संवेदनहीनता की ओर आर्किष्ट करना चाहता हूँ। पत्रकार वार्ता में प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर उपस्थित थे और उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार के द्वारा गरीबों को गत तीन माह से राशन उपलब्ध न कराना और अब यह बेघरों की मृत्यु का समाचार यह साफ दर्शाता है कि केजरीवाल सरकार एक संवेदनहीन सरकार है। दिल्ली भाजपा के महामंत्री ने कहा है बेहतर होगा कि अरविंद केजरीवाल सरकार रैन बसेरे बनाने के झूठे राजनीतिक प्रचार में लगे रहने के बजाय दिल्ली में बेघरों के लिये रैन बसेरों में उचित सुविधाएं देने के लिए ठोस कदम उठाये ताकि आगामी जनवरी माह की शीतलहर में बेघरों की रक्षा की जा सके।

हर्ष मल्होत्रा ने कहा कि यह खेद का विषय है कि देश की राजधानी दिल्ली में अरविन्द केजरीवाल सरकार के बड़े-बड़े दावों के बावजूद दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों एवं दिल्ली बेघरों के लिये काम करने वाली एक प्रमुख एनजीओ के आंकड़ो से स्पष्ट है कि गत 30 दिनों में दिल्ली में 162 बेघर ठंड या भूख के कारण दिल्ली की सड़कों पर मर चुके हैं। देश की राजधानी में केजरीवाल सरकार की लापरवाही से दिसम्बर माह में 162 बेघरों का ठंड से मरना न सिर्फ हम सब दिल्ली वालों को शर्मशार करता है बल्कि सरकार का एक अक्षम्य अपराध है।

हर्ष मल्होत्रा ने कहा कि गत 2018-19 की सर्दियों में 779 मौतें, 2019-20 की सर्दियों में 749 मौतें, 2020-21 की सर्दियों में 436 मौतें एवं 2021-22 की सर्दियों में 545 बेघरों के दिल्ली की सड़कों पर मरने की पुष्टि भी दिल्ली पुलिस एवं एनजीओ के आंकड़े करते हैं। यह आंकड़े दिसम्बर-जनवरी माह के हैं। भाजपा महामंत्री मल्होत्रा ने कहा है कि यह खेद का विषय है कि देश की राजधानी में हर वर्ष दिल्ली सरकार के बेघरों के लिये रैनबसेरे बनाने के दावों के बीच सैकड़ों बेघर ठंड से मरते हैं पर फिर भी केजरीवाल सरकार ने इस वर्ष पुनः लापरवाही बरती और यह लापरवाही मात्र 30 दिनों में 162 लोगों की अकाल मौत का कारण बन गई है।

महामंत्री हर्ष मल्होत्रा ने कहा है कि दिल्ली सरकार के डूसिब विभाग में भ्रष्टाचार व्याप्त है और इस वर्ष तो उसने रैन बसेरे लगाने के काम में भी इतनी देरी और भ्रष्टाचार किया कि दिसम्बर के प्रारंभ से ही रैन बसेरों में सुविधाओं में अभावों के कारण लोगों की लगातार मृत्यु हो रही है। मल्होत्रा ने कहा कि गत कुछ दिनों में न सिर्फ दिल्ली भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा बल्कि दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने रैन बसेरों का दौरा किया और वहां के हालातों से असंतुष्ट दिखे। उपराज्यपाल ने तो अपने दौरे के बाद डूसिब विभाग प्रमुख अन्य अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई भी की है जो केजरीवाल सरकार की लापरवाही का प्रमाण है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read