Monday, April 22, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयअब दिल्ली कैसे चले? सारा पैसा खा गई दिल्ली सरकार, कुछ तो...

अब दिल्ली कैसे चले? सारा पैसा खा गई दिल्ली सरकार, कुछ तो बोलो दुर्गेश पाठक : प्रवीण शंकर

  • तीनों निगमों का बजट 18 हजार करोड़, एक लाख कर्मचारी
  • दिल्ली सरकार का बजट 60 हजार करोड़, 25 हजार कर्मचारी
  • दिल्ली सरकार 60 हजार करोड़ का लाभ बजट खा गई
  • आम आदमी पार्टी वाले अब नाटक कर रहे हैं
  • अब कुछ तो बोलो दुर्गेश पाठक, इस पर ?

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक के बयान पर दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा है कि अब दिल्ली कैसे चले ? सारा पैसा तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया खा गए हैं। तंज कसते हुए प्रवक्ता कपूर ने कहा कि अब कुछ तो बोलो दुर्गेश पाठक जी। आम आदमी पार्टी वाले अब नाटक कर रहे हैं, अब कुछ तो बोलो दुर्गेश पाठक, इस पर ? प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने सुझाव देते हुए कहा कि दुर्गेश पाठक नगर निगमों की चिंता छोड़ अरविंद केजरीवाल एवं मनीष सिसोदिया को वह गुर सिखायें जिन पर काम कर वह पहले दिल्ली सरकार को आर्थिक रूप से सक्षम बनायें।

दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा है कि दिल्ली की जनता आम आदमी पार्टी नेताओं की नगर निगमों को लेकर रोजाना की बयानबाजी को देख रही है और केजरीवाल दल की निगम सत्ता के लियें बौखलाहट एवं लोलुपता को समझ रही है। दुर्गश पाठक को मालूम होना चाहियें कि विश्व भर में कोई भी नगर निगम आर्थिक रूप से आत्म निर्भर नहीं और व्यवस्था अनुसार सभी राज्य सरकारों पर आश्रित होते हैं पर मुशकिल यह है कि सत्ता लोलुप आम आदमी पार्टी नेता ना निगम व्यवस्था को समझते है ना उसका सम्मान करते हैं।

आम आदमी पार्टी नेता को पता होना चाहियें कि मात्र 18 हजार करोड़ के बजट वाले तीनों निगम 1 लाख कर्मचारियों के साथ दिल्ली को बेसिक सफाई, स्वास्थ एवं शिक्षा सेवा दे रहे हैं जबकि 60 हजार करोड़ के बजट वाली सरकार के पास मात्र 25 हजार कर्मचारी हैं। दुर्गश पाठक कहते हैं कि भ्रष्टाचार के कारण निगम ठीक काम नहीं कर रहे तो फिर वह बतायें की 60 हजार करोड़ के लाभ बजट वाली दिल्ली सरकार के वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया क्यों गत 4 माह से फंड के लिए रो रहे है, यहाँ तक की केन्द्र से उधार भी मांग रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments