Homeअंतराष्ट्रीयमहिलाओं के बिना देश को विकसित कर पाना असंभव है: उपाध्याय

महिलाओं के बिना देश को विकसित कर पाना असंभव है: उपाध्याय

  • “एनडीएमसी महिला कर्मचारी कल्याण यूनियन” ने “विशेष सम्मान समारोह” किया आयोजित
  • डीटीएल वेतनमान पर 15-20 लाख की रिकवरी हेतु जानकारी दी थी
  • परिषद बैठक में तुरंत कार्यवाही करके रुकवायी गई यह रिकवरी

नई दिल्ली, 29 सितंबर 2022: नई दिल्ली नगरपालिका परिषद  (एनडीएमसी) महिला कर्मचारी कल्याण यूनियन ने “विशेष सम्मान समारोह” गुरुवार को काउंसिल रूम, पालिका केंद्र में आयोजित किया। इस अवसर पर यूनियन ने एनडीएमसी अध्यक्ष भूपिंदर सिंह भल्ला, उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय, सदस्य विशाखा सैलानी व एनडीएमसी के वरिष्ट अधिकारियो का फूलों, मोमेंटो और शाल से  सम्मानित किया। इस अवसर पर उपाध्याय ने सभी महिलाओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि आज के आधुनिक युग में न केवल महिलाएं दिन प्रतिदिन नई ऊंचाइयां हासिल कर रही है अपितु नए-नए कीर्तिमान भी बना रही हैं। महिलाओं के बिना देश को विकसित कर पाना असंभव है और उनके बिना एक समृद्ध समाज की कल्पना करना भी नामुमकिन है।

उपाध्याय ने बताया कि सामाजिक शिक्षा विभाग की महिलाओं ने मुझे डीटीएल वेतनमान पर 15-20 लाख की रिकवरी हेतु जानकारी दी थी जिसे परिषद् बैठक में तुरंत कार्यवाही करके रुकवाया गया। उन्होंने कहा एक बार डीटीएल वेतनमान देकर वापस लेना ठीक नहीं था क्योंकि इनमें से कई ऐसे कर्मचारी हैं जो रिटायर हो चुके थे। उपाध्याय ने महिलाओं के कार्यालय में सुरक्षा और यौन उत्पीड़न हेतु उचित कदम उठाने के लिए अध्यक्ष से अनुरोध भी किया। उपाध्याय ने कहा मुझे आज का कार्यक्रम देखकर बहुत प्रसन्नता हुई क्योंकि आज सम्मानित लोग केवल परिषद उच्च अधिकारी ही नहीं अपितु  प्रत्येक वर्ग से जुड वो लोग हैं जिन्होंने अपनी  उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान की हैं जिनमें क्लर्क, सुरक्षा गार्ड, फायर कार्मिक, फिजियोथेरेपिस्ट, टीचर आदि रहे ।
   

इस अवसर पर यूनियन अध्यक्ष सुधा शर्मा ने परिषद् का धन्यवाद देता हुए कहा कि आज जिन लोगों को हम सम्मानित कर रहे हैं, उनकी हमारे जीवन में बहुत बड़ी भूमिका रही है जिसमें विशेषतौर से अध्यक्ष जिन्होने सुविधा कैंप की महिला डेस्क सेवा फिर से प्रारभ करवाई। उपाध्यक्ष जिन्होंने समाज शिक्षा विभाग के डीटीएल की समस्या का समाधान करवाया, निर्देशक कार्मिक और निर्देशक शिक्षा जिन्होने कोविड महामारी के समय महिलाओ की समस्या का निवारण किया । उन्होंने कहा आज यहाँ सम्मानित लोगो की हम सभी के जीवन में कही न कही बहुत बड़ी भूमिका रही है।
   
इस अवसर पर विशाखा सैलानी ने धन्यवाद देते हुए कहा कि महिला शिक्षा और महिला सशक्तिकरण समाज के लिए बहुत ही जरूरी है। क्योंकि महिला का योगदान हर जगह पर सामने आता है। महिला के बिना परिवार बनाना संभव नहीं है। महिला के बिना घर बनाना संभव नहीं है। महिला के बिना समाज का बनना संभव नहीं है तो महिला से बिना विकसित देश कैसे संभव हो सकता है। इस अवसर पर एनडीएमसी महिला कर्मचारी कल्याण यूनियन के संयोजक राजबाला, कार्यवाहक अध्यक्ष पूनम रानी, महासचिव पूनम कुमार, सहायक महासचिव एवं सहायक कोषाध्यक्ष जमील अहमद भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × two =

Must Read