Wednesday, February 21, 2024
Homeताजा खबरेंपंजाब की तरह गुजरात-एमसीडी चुनाव में हार के डर से BJP झूठी...

पंजाब की तरह गुजरात-एमसीडी चुनाव में हार के डर से BJP झूठी चिट्ठियां लिखवा रही है : AAP

गुजरात-एमसीडी चुनाव से पहले प्रधानमंत्री कार्यालय, गृह मंत्री कार्यालय और जांच एजेंसियां अपनी विश्वसनीयता को ताक पर रख कई झूठे आरोप लगाएंगे- पंजाब चुनाव से पहले भाजपा ने कुमार विश्वास से बुलवाया कि अरविंद केजरीवाल पंजाब को खालिस्तान बनाना चाहते हैं- पंजाब के तत्कालीन सीएम की चिट्ठी पर अमित शाह ने जांच करवाई, गृह मंत्री देश को बताएं कि उस जांच का क्या हुआ?- इससे जुड़ी याचिका को मुख्य न्यायाधीश की बेंच ने खारिज किया – भाजपा तथाकथित एक्साइज घोटाले के सारे सुबूत होने का दावा करती थी लेकिन 4 महीने बाद भी सीबीआई-ईडी ख़ाली हाथ है : सौरभ भारद्वाज

नई दिल्ली, 7 नवंबर, 2022 : आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि पंजाब की तरह गुजरात-एमसीडी चुनाव में हार के डर से भाजपा झूठी चिट्ठियां लिखवा रही है। गुजरात-एमसीडी चुनाव से पहले प्रधानमंत्री कार्यालय, गृह मंत्री कार्यालय और जांच एजेंसियां अपनी विश्वसनीयता को ताक पर रख कई झूठे आरोप लगाएंगे। पंजाब चुनाव से पहले भाजपा ने कुमार विश्वास से बुलवाया कि अरविंद केजरीवाल पंजाब को खालिस्तान बनाना चाहते हैं। पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री की चिट्ठी पर अमित शाह ने जांच करवाई, गृह मंत्री देश को बताएं कि उस जांच का क्या हुआ? इससे जुड़ी याचिका को मुख्य न्यायाधीश की बेंच ने खारिज किया। भाजपा तथाकथित एक्साइज घोटाले के सारे सुबूत होने का दावा करती थी, लेकिन 4 महीने बाद भी सीबीआई-ईडी ख़ाली हाथ है।

आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता और विधायक सौरभ भारद्वाज ने पार्टी मुख्यालय में आज महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता को संबोधित किया। विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि जिस तरीके से गुजरात और दिल्ली नगर निगम के चुनाव नजदीक आ रहे है, ऐसे में हमें पूरा विश्वास है कि भारतीय जनता पार्टी अपने पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के हिसाब से वही सारी चीजें करेगी जो उन्होंने पंजाब चुनाव से पहले की थी। पंजाब के चुनाव से ठीक पहले भाजपा कुमार विश्वास को लेकर आए। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल पंजाब को भारत से अलग करके एक नया देश बनाकर उसके प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं। उनका वक्तव्य खत्म ही हुआ था कि पूरी प्लानिंग के तहत भाजपा का एक-एक प्रवक्ता टीवी पर आकर बोला कि अरविंद केजरीवाल उग्रवादी, खालिस्तानी हैं। देश को तोड़कर एक नया देश बनाने के लिए काम कर रहे हैं। सिख्स फॉर जस्टिस नाम की एक प्रो खालिस्तानी आर्गेनाइजेशन की तरफ से चिट्ठी लिखाई गई। ये चिट्ठी भी भाजपा के इशारों पर लिखी जाती है। वह चिट्ठी पूरे दिन टीवी पर प्रचारित की गई। उस समय चिट्ठी को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अमित शाह को एक और चिट्ठी लिखी कि अरविंद केजरीवाल उग्रवादी है। वह एक नया देश बना रहे हैं। इस पर तुरंत अमित शाह, चिट्ठी को जांच एजेंसी को भेज देते है कि यह बहुत गंभीर मामला है। हम देश को बिल्कुल नहीं टूटने देंगे। इस तरह से अरविंद केजरीवाल खालिस्तानी करके पूरा माहौल बनाया गया।

विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि आज मैं प्रधानमंत्री और गृहमंत्री जी से जानना चाहता हूं कि उस मामले की जांच का क्या हुआ? पहले तो इसे लेकर पूरे दिन चर्चा हो रही थी कि अरविंद केजरीवाल एक नया देश बना रहे हैं। उनपर एनआईए से जांच करवाई जा रही थी। उनको उग्रवादी कहा जा रहा था। मैं आज केंद्र सरकार से जानना चाहता हूं कि आखिर उस जांच का क्या हुआ? देश को बताएं। देश आपसे जानना चाहता है। आपने तीन बार चुने हुए मुख्यमंत्री पर इतना बड़ा आरोप लगाया, उसका क्या हुआ? उसके बाद दिल्ली के हाईकोर्ट, चीफ जस्टिस साहब की बैंच ने यह पिटिशन खारिज की, जिसमें कहा गया था कि अरविंद केजरीवाल उग्रवादी हैं, इसकी जांच करानी चाहिए। आज जब गुजरात का चुनाव आ रहा है तो उसी तरीके से भाजपा चिट्ठियां लिखवा रही है। कुछ लोगों को सरकारी गवाह बनाया जा रहा है। कभी मनीष सिसोदिया के खास बताया जा रहा था। आज कहा जा रहा है कि ये भाजपा के खास हैं, इसलिए मनीष सिसोदिया के खिलाफ गवाही दे रहे हैं।

विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि मैं गुजरात और दिल्ली की जनता को बताना चाहता हूं कि अभी इस तरीके की खूब मनगढ़ंत कहानियां और दिलचस्प पात्र आएंगे। उनके हवाले से घटिया से घटिया इल्जाम लगाए जाएंगे। जब उन्होंने मुख्यमंत्री को उग्रवादी कह दिया तो अब भ्रष्टाचारी कहने में क्या रह गया। वह कुछ भी कह सकते हैं। मगर भाजपा को हम बताना चाहते हैं कि काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती। एक बार चढ़ गई औऱ जनता ने देख लिया कि किस तरीके से भाजपा झूठे और कमजोर आरोप लगाकर सिर्फ और सिर्फ चुनाव में फायदा उठाना चाहती है। केंद्र सरकार और गृह मंत्री कार्यालय की एक विश्वसनीयता होती है। मगर आज सभी मंत्रालयों और एजेंसियों की विश्वसनीयता को ताक पर लगाकर गुजरात-दिल्ली में चुनाव के कारण इस तरीके के आरोप लगाए जा रहे हैं। आने वाले दिनों में और बड़े-बड़े व घटिया से घटिया आरोप लगाए जाएगे। मगर साबित कुछ नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि अभी तक जिस एक्साइज स्कैम के बारे में भाजपा कहती थी कि सारे सबूत उनके पास हैं। फाइलों में मनीष सिसोदिया के सारे एविडेंस आ गए। उन्होंने ये पैसा गलत दिया और यहां करोड़ों रूपये दे दिए। ओपन एंड शट केस बताया जाता था। आज जांच करते हुए 4 महीने हो गए। देश की सबसे बड़ी एजेंसी सीबीआई और ईडी जांच कर रही है। आज तक सबूतों के नाम पर भाजपा और केंद्र सरकार वहीं खड़ी है, जहां 4 महीने पहले खड़ी थी। इन्होंने मनीष सिसोदिया के घर पर छापा मार लिया, पर कुछ नहीं मिला। पूरा दिन बुलाकर पुछताछ करने के बाद भी कुछ नहीं मिला। गांव में छापा मारने औऱ लॉकर खंगालने के बाद भी कुछ नहीं मिला। 4 महीने में 500 से ज्यादा लोगों के यहां पर छापा मारने के बाद भी आज तक कुछ नहीं मिला है। अगर आप मुझे एक दिन छापा मारने का मौका दे दें, तो मैं करोड़ों- अरबों रुपये तो निकाल दूंगा। आम आदमी पार्टी के छोटो से छोटे कार्यकर्ता को बुलाने पर भी इन्हें कुछ नहीं मिला। अब सिर्फ घटिया, मनगढंत, कहानियों का मौसम आएगा औऱ केंद्र सरकार अपनी पूरी विश्वसनीयता ताक पर लगाएगी, ताकि गुजरात और दिल्ली में चुनाव में फायदा हो सके।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments