Sunday, April 21, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयपराली को जमीन में मिला दें, बढ़ जाएगी मिट्टी की उर्वकता :...

पराली को जमीन में मिला दें, बढ़ जाएगी मिट्टी की उर्वकता : कृषि वैज्ञानिक

– जलाने के कारण फसलों की उत्पादकता व गुणवत्ता होती है प्रभावित
– तापमान को ध्यान में रखते हुए मटर की बुवाई में और अधिक देरी न करें
– सरसों की बुवाई में और अधिक देरी न करें किसान
– ब्रोकली, फूलगोभी तथा बन्दगोभी की पौधशाला तैयार करने के लिए उपयुक्त है मौसम

नई दिल्ली, 29 अक्टूबर 2023 : भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के अंतर्गत कृषि परामर्श सेवाओं, कृषि भौतिकी संभाग के कृषि वैज्ञानिकों ने दिल्ली और आसपास के किसानों को सलाह जारी कर कहा है कि धान के बचे हुए अवशेषों (पराली) को जमीन में मिला दें, इससे मिट्टी की उर्वकता बढ़ती है। साथ ही यह पलवार का भी काम करती है। जिससे मिट्टी से नमी का वाष्पोत्सर्जन कम होता है। नमी मिट्टी में संरक्षित रहती है। धान के अवशेषों को सड़ाने के लिए पूसा डीकंपोजर कैप्सूल का उपयोग प्रति 4 कैप्सूल प्रति हेक्टेयर किया जा सकता है। साप्ताहिक मौसम पर आधारित कृषि सम्बंधी सलाह 01 नवम्बर, 2023 तक के लिए है।

कृषि भौतिकी संभाग में नोड़ल अधिकारी डॉ. अनन्ता वशिष्ठ ने बताया कि खरीफ फसलों (धान) के बचे हुए अवशेषों (पराली) को ना जलाऐ क्योंकि इससे वातावरण में प्रदूषण ज्यादा होता है, जिससे स्वास्थ्य सम्बन्धी बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है। इससे उत्पन्न धुंध के कारण सूर्य की किरणें फसलों तक कम पहुंचती है, जिससे फसलों में प्रकाश संश्लेषण और वाष्पोत्सर्जन की प्रकिया प्रभावित होती है जिससे भोजन बनाने में कमी आती है इस कारण फसलों की उत्पादकता व गुणवत्ता प्रभावित होती है। कृषि वैज्ञानिकों ने बताया कि मौसम को ध्यान में रखते हुए धान की फसल यदि कटाई योग्य हो गई तो कटाई शुरू करें। फसल कटाई के बाद फसल को 2-3 दिन खेत में सुखाकर गहाई कर लें। उसके बाद दानों को अच्छी प्रकार से धूप में सूखा लें। भण्डारण के पूर्व दानों में नमी 12 प्रतिशत से कम होनी चाहिए।

तापमान को ध्यान में रखते हुए किसान सरसों की बुवाई में और अधिक देरी न करें। मिट्टी जांच के बाद यदि गंधक की कमी हो तो 20 किग्रा. प्रति हेक्टेयर की दर से अंतिम जुताई पर डालें। बुवाई से पूर्व मृदा में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें। उन्नत किस्में- पूसा विजय, पूसा सरसों-29, पूसा सरसों-30, पूसा सरसों-31, पूसा सरसों-32। बीज दरदृ1.5-2.0 कि.ग्रा. प्रति एकड। बुवाई से पहले खेत में नमी के स्तर को अवश्य ज्ञात कर ले ताकि अंकुरण प्रभावित न हो। बुवाई से पहले बीजों को केप्टान / 2.5 ग्रा. प्रति किग्रा. बीज की दर से उपचार करें। बुवाई कतारों में करना अधिक लाभकारी रहता है। कम फैलने वाली किस्मों की बुवाई 30 सें. मी. और अधिक फैलने वाली किस्मों की बुवाई 45-50 सें.मी. दूरी पर बनी पंक्तियों में करें। विरलीकरण द्वारा पौधे से पौधे की दूरी 12-15 सें.मी. कर ले।

तापमान को ध्यान में रखते हुए मटर की बुवाई में ओर अधिक देरी न करें अन्यथा फसल की उपज में कमी होगी तथा कीड़ों का प्रकोप अधिक हो सकता है। बुवाई से पूर्व मृदा में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें। उन्नत किस्में -पूसा प्रगति, आर्किल। बीजों को कवकनाशी कैप्टान या थायरम / 2.0 ग्रा. प्रति किग्रा. बीज की दर से मिलाकर उपचार करें उसके बाद फसल विशेष राईजोबियम का टीका अवश्य लगायें। गुड़ को पानी में उबालकर ठंडा कर ले और

राइजोबियम को बीज के साथ मिलाकर उपचारित करके सूखने के लिए किसी छायादार स्थान में रख दें तथा अगले दिन बुवाई करें। तापमान को ध्यान में रखते हुए किसान इस समय लहसुन की बुवाई कर सकते है। बुवाई से पूर्व मृदा में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें। उन्नत किस्में ; जी-1, जी-41, जी-50, जी-282. खेत में देसी खाद और फास्फोरस उर्वरक अवश्य डालें।

इस मौसम में किसान गाजर की बुवाई मेड़ो पर कर सकते है। बुवाई से पूर्व मृदा में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें। उन्नत किस्में- पूसा रूधिरा। बीज दर 2.0 किग्रा. प्रति एकड़। बुवाई से पूर्व बीज को केप्टान / 2 ग्रा. प्रति कि.ग्रा. बीज की दर से उपचारित करें तथा खेत में देसी खाद, पोटाश और फास्फोरस उर्वरक अवश्य डालें। गाजर की बुवाई मशीन द्वारा करने से बीज 1.0 कि.ग्रा. प्रति एकड़ की आवश्यकता होती है जिससे बीज की बचत तथा उत्पाद की गुणवत्ता भी अच्छी रहती है।

इस मौसम में किसान इस समय सरसों साग- पूसा साग-1, मूली-जापानी व्हाईट, हिल क्वीन, पूसा मृदुला (फ्रेच मूली); पालक-आल ग्रीन,पूसा भारती; शलगम-पूसा स्वेती या स्थानीय लाल किस्म; बथुआ- पूसा बथुआ-1; मेथी-पूसा कसुरी; गांठ गोभी-व्हाईट वियना,पर्पल वियना तथा धनिया-पंत हरितमा या संकर किस्मोंकी बुवाई मेड़ों (उथली क्यारियों) पर करें। बुवाई से पूर्व मृदा में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें।
इस मौसम में ब्रोकली, फूलगोभी तथा बन्दगोभी की पौधशाला तैयार करने के लिए उपयुक्त है। पौधशाला भूमि से उठी हुई क्यारियों पर ही बनायें। जिन किसानों की पौधशाला तैयार है वह मौसस को ध्यान में रखते हुए पौध की रोपाई ऊंची मेड़ों पर करें। मिर्च तथा टमाटर के खेतों में विषाणु रोग से ग्रसित पौधों को उखाड़कर जमीन में गाड़ दें। यदि प्रकोप अधिक है तो इमिडाक्लोप्रिड़ / 0.3 मि.ली. प्रति लीटर की दर से छिड़काव करें। किसान गुलाब के पौधों की कटाई-छटाई करें। कटाई के बाद बाविस्टीन का लेप लगाएं ताकि कवकों का आक्रमण न हो। इस मौसम में गैदें की तैयार पौध की मेड़ों पर रोपाई करें।किसान ग्लेडियोलस की बुवाई भी इस समय कर सकते है।

– ये हैं सलाहकार समिति के कृषि वैज्ञानिक
डॉ. अनन्ता वशिष्ठ (नोड़ल अधिकारी, कृषि भौतिकी संभाग)
डॉ. सुभाष नटराज (अध्यक्ष,कृषि भौतिकी संभाग)
डॉ. प्र.कृष्णन (प्राध्यापक, कृषि भौतिकी संभाग)
डॉ. देब कुमार दास (प्रधान वैज्ञानिक, कृषि भौतिकी संभाग)
डॉ. बी.एस. तोमर (अध्यक्ष, सब्जी विज्ञान संभाग)
डॉ. जे.पी.एस. ड़बास (प्रधान वैज्ञानिक व इंचार्ज, केटेट)
डॉ. सचिन सुरेश सुरोशे (परियोजनासमन्वयक, मधुमक्खीपरअखिलभारतीयसमन्वितपरियोजना)
डॉ. दिनेश कुमार (प्रधान वैज्ञानिक, सस्य विज्ञान संभाग)
डॉ. पी. सिन्हा (प्रधान वैज्ञानिक, पादप रोग

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments