Tuesday, February 20, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयजीबी पंत अस्पताल में मनाई गई नेता जी की जयंती

जीबी पंत अस्पताल में मनाई गई नेता जी की जयंती

  • ‘आजादी आंदोलन भूमिका’ से संबंधित प्रदर्शनी लगाई
  • स्वास्थ्य, शिक्षा के निजीकरण, जैसे नारे को कर्मियों के बीच रखा
  • पुरानी पेंशन लागू करने और अनुबंधित कर्मचारियों को नियमित करने की मांग एकजुट होकर सरकार तक पहुंचानी होगी

नई दिल्ली, 24 जनवरी 2024

जीबी पंत पैरामेडिकल टेक्निकल यूनियन के नेतृत्व में मंगलवार को नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती मनाई गई। जिसमें नेताजी से संबंधित ‘आजादी आंदोलन भूमिका’ से संबंधित प्रदर्शनी लगाई गई। अस्पताल के अधिकारी, कर्मियों और आम जनता ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए। सभा की अगुवाई एनपीएचए दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार और भारतवीर ने की। जिसमें सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों, ठेकेदारी प्रथा, निजीकरण नीति का विरोध, पुरानी पेंशन लागू करने और अनुबंधित कर्मियों को नियमित करने की मांग एकजुट होकर सरकार तक पहुंचाने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमें नेता जी पदचिन्हों पर चलकर हर तरह के शोषण अत्याचार के खिलाफ आवाज उठानी होगी, जो नेता जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मुख्य वक्ता ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हरीश त्यागी ने नेताजी के जीवन चरित्र और उनके आजादी आंदोलन और देशभक्ति की सोच और जनता और देश के प्रति कर्तव्य तथा मानवता के प्रति सरकारों का नकारात्मक रवैया और स्वास्थ्य, शिक्षा के निजीकरण, जैसे नारे को कर्मियों के बीच रखा। उन्होंने कहा कि आज की धर्म, संप्रदायवाद, जातिवाद को आधार बनाकर शासन करो की नीति से कर्मियों का भी सरकारों द्वारा शोषण किया जा रहा है। आज के राजनीतिक परिदृश्य में नेता जी की लीडरशिप उनके जीवन मूल्य को विचारधारा की प्रासंगिकता ज्यादा बढ़ जाती है।

अधिकारी और अस्पताल कर्मचारियों और आम जनता ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस उपलक्ष पर जी.बी.पंत अस्पताल के गेट नंबर 3 पर अर्ध- अवकाश के समय एक सभा का भी आयोजन किया गया जिसमें नेताजी से प्रेरणा लेते हुए प्रशासन और सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने का कर्मचारियों ने संकल्प लिया जिसके मुख्य वक्ता ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हरीश त्यागी ने नेताजी के जीवन चरित्र और उनके आजादी आंदोलन और देशभक्ति की सोच और जनता और देश के प्रति कर्तव्य तथा मानवता के प्रति सरकारों का नकारात्मक रवैया और स्वास्थ्य/शिक्षा के निजीकरण, जैसे नारे को बड़े ही सुंदर ढंग से कर्मचारियों के बीच रखा और कहा आज की धर्म, संप्रदायवाद, जातिवाद, को आधार बनाकर शासन करो की नीति से कर्मचारियों का भी सरकारो द्वारा शोषण किया जा रहा है। आज के राजनीतिक परिदृश्य मे नेताजी की लीडरशिप उनके जीवन मूल्य को विचारधारा की प्रशांगिकता ज्यादा बढ़ जाती है। सभा का संचालन पवन वर्मा ने किया।

सभा की अगुवाई भूमिका एन.पी.एच.ए. दिल्ली के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार और भारत वीर, जीबी पंत पैरामेडिकल टेक्निकल यूनियन के अध्यक्ष रणजीत सिंह राणा महासचिव सुशील कुमार और कर्मचारी यूनियन 3103 के अध्यक्ष विकास सारस्वत ने किया। सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों, ठेकेदारी प्रथा, पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप, निजीकरण की नीति का विरोध और पुरानी पेंशन लागू करने और अनुबंधित कर्मचारियों को नियमित करने की मांग एकजुट होकर सरकार तक पहुंचानी होगी। हमें नेता जी पदचिन्हों पर चलकर हर तरह के शोषण अत्याचार के खिलाफ आवाज उठानी होगी। यही नेता जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इसके लिए आप सभी को एकजुट होकर जल्द ही समय रहते आन्दोलन का रास्ता अपनाना होगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments