Wednesday, February 21, 2024
Homeताजा खबरेंएक-एक वोट के लिए लड़ाई हो रही है फिर भी भाजपा के...

एक-एक वोट के लिए लड़ाई हो रही है फिर भी भाजपा के सांसद हाउस में मौजूद नहीं थे, साफ है कि यह सब पहले से तय था : AAP 

– पीठासीन अधिकारी पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का मामला बनता है, कल हाउस में पीठासीन अधिकारी ने हाईकोर्ट का एक ऑर्डर दिखाते हुए कहा कि इसके आधार पर वोट करेंगे, सच्चाई तो यह है कि ऐसा कोई ऑर्डर मौजूद ही नहीं है, इस प्रकार झूठ बोलना कोर्ट का निरादर है

आम आदमी पार्टी ने भाजपा द्वारा संविधान के खिलाफ जाकर बार-बार मेयर के चुनाव में रुकावट डालने के विरोध में बीजेपी कार्यालय का किया घेराव – उपमुख्यमंत्री ने कल सुबह ही बता दिया था कि भाजपा इस बार भी मेयर का चुनाव नहीं कराएगी और वही हुआ-  एक-एक वोट के लिए लड़ाई हो रही है फिर भी भाजपा के सांसद हाउस में मौजूद नहीं थे, साफ है कि यह सब पहले से तय था-  भाजपा की केंद्र सरकार ने बेईमानी से पिछले एक साल से एमसीडी पर कब्जा किया हुआ है, जिसे यह लोग छोड़ना नहीं चाहते हैं ताकि यह सारी बेईमानी आगे भी चलती रहे- यह सारा मामला हम सुप्रीम कोर्ट में लेकर जाएंगे, अब उन्हीं से आखरी उम्मीद है –  हमारे पास वोट संख्या ज्यादा है, भाजपा के पास वोट नहीं हैं इसलिए वह चुनाव से भाग रहे हैं – हर साल एमसीडी का बजट 16000 करोड़ है, 15 साल के हिसाब से जोड़ लो, भाजपाइयों ने कितना भ्रष्टाचार किया है – हमारा संघर्ष लंबा है, ऐसे कई प्रदर्शन करने पड़ेंगे, लाठियां खानी पड़ेगी, पानी की बौछारों को सहना पड़ेगा, हम इसके लिए तैयार हैं लेकिन भाजपा की मंशा को सफल नहीं होने देंगे 

नई दिल्ली, 7 फरवरी 2023 : आम आदमी पार्टी ने भाजपा द्वारा संविधान के खिलाफ जाकर बार-बार मेयर के चुनाव में रुकावट डालने के विरोध में मंगलवार सुबह बीजेपी कार्यालय का घेराव किया। यह प्रदर्शन विधायक सौरभ भारद्वाज, दुर्गेश पाठक और कुलदीप कुमार के नेतृत्व में किया गया। इस दौरान आम आदमी पार्टी के पार्षदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं ने एलजी और भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आम आदमी पार्टी इस मामले को सुप्रीम कोर्ट लेकर जाएगी। पार्टी का कहना है कि यह संघर्ष लंबा है और हम इसके लिए तैयार हैं। दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी दुनिया की सबसे छोटी पार्टी को कुचलना चाहती है इसलिए अब हम दुनिया के सबसे मजबूत न्यायालय जाएंगे। अब हमें वहीं न्याय मिल सकता है। 

इस दौरान आम आदमी पार्टी के वरिष्ट नेता एवं ग्रेटर कैलाश से विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि आज हमने देखा कि सुप्रीम कोर्ट यानी कि देश की सबसे बड़ी अदालत ने यह कहा कि किस तरह से भाजपा गुंडागर्दी करके एमसीडी में अपनी सरकार बनाना चाहती है, जो कि गैरकानूनी और असंवैधानिक है। पीठासीन अधिकारी पर कंटेम्प्ट ऑफ कोर्ट का मामला बनता है। कल हाउस में पीठासीन अधिकारी ने हाईकोर्ट का एक ऑर्डर दिखाते हुए कहा कि इसके आधार पर वोट करेंगे। सच्चाई तो यह है कि ऐसा कोई ऑर्डर मौजूद ही नहीं है। इस प्रकार झूठ बोलना कोर्ट का निरादर है।

हमारे पास कल के सारे वीडियो हैं, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि कैसे भाजपा के पार्षदों ने हाउस में शोर मचाना शुरू किया, गुंडागर्दी शुरू की, नारे लगाने शुरू किए और आम आदमी पार्टी के पार्षद चुपचाप अपनी सीटों पर बैठकर मुस्कुरा रहे थे। गुंडागर्दी भी भाजपा वाले करें, नारेबाजी भी वही करें। इसके बाद भाजपा द्वारा नियुक्त की गई पीठासीन अधिकारी सत्या शर्मा ने हाउस को भंग कर दिया जो पहले से तय था। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने पहले ही बता दिया था कि भाजपा इस बार भी मेयर का चुनाव नहीं कराएगी और वही हुआ। इसका बड़ा सबूत यह है कि भाजपा के अपने सांसद गौतम गंभीर, मनोज तिवारी हाउस में मौजूद नहीं थे। जहां एक-एक वोट के लिए लड़ाई हो रही है, भाजपा के सांसद हाउस में नहीं थे, इसका मतलब साफ है कि यह सब पहले से तय था। भाजपा की केंद्र सरकार ने बेईमानी से पिछले एक साल से एमसीडी पर कब्जा किया हुआ है। जिसे यह लोग छोड़ना नहीं चाहते हैं ताकि यह सारी बेईमानी आगे भी चलती रहे। हम यह नहीं होने देंगे। कई तरह की बईमानियां कल इनकी प्रोटेम मेयर ने करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि मोननीत पार्षद वोट डालेंगे, जो कि सही नहीं है। संविधान में यह है ही नहीं। देश में हजार से ज्यादा नगर निगम हैं, कहीं पर भी मनोनीत पार्षद मेयर के चुनाव में वोट नहीं डाल सकते हैं। कहीं ऐसा नहीं होता है कि तीनों चुनाव एक साथ कराए जाएं, इन्होंने कहा कि तीनों चुनाव एक साथ कराए जाएं क्योंकि इनके मन में बेईमानी है।

यह सारा मामला हम सुप्रीम कोर्ट में लेकर जाएंगे, अब उन्हीं से आखरी उम्मीद है। दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी की केंद्र सरकार दुनिया की सबसे छोटी पार्टी को इस तरीके से कुचलना चाहती है। इसलिए हम दुनिया के सबसे मजबूत न्यायालय की शरण में गए हैं। कोर्ट के अलावा अब कोई चारा नहीं बचा है। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता, विधायक एवं एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने कहा कि कुछ देर पहले मुझे मीडिया के कई साथियों का फोन आया। तब मुझे समझ आया कि भाजपा मेयर का चुनाव क्यों नहीं कराना चाहती है। आज यहां से कुछ ही दूरी पर इनका प्रदर्शन चल रहा है। वहां सिर्फ और सिर्फ 13 पार्षद हैं। इनको डर है कि मेयर का चुनाव हो गया तो कहीं बीजेपी वाले आम आदमी पार्टी को वोट ना दे दें। इनके पार्षद इनके साथ नहीं हैं। एक छोटी सी कहानी बताता हूं। मैं सुबह-सुबह राजेंद्र नगर के सिंधी पार्क गया था। वहां दो वरिष्ठ लोग मिले जो आरएसएस की शाखा चलाते हैं। बोले बेटा, हमारे वालों ने नीचता की हद पार कर दी है। मतलब, बीजेपी के आरएसएस वाले, बीजेपी पार्षद तक गालियां दे रहे हैं कि यह कैसी नीचता शुरू कर दी है। आम आदमी पार्टी के पास बहुमत है, आम आदमी पार्टी का मेयर बना दो।

कल हाउस में पीठासीन अधिकारी ने कहा कि एल्डरमैन वोट करेंगे। आजतक के इतिहास में कभी भी एल्डरमैन ने वोटिंग नहीं की है। सबसे शर्म की बात यह है कि पीठासीन अधिकारी ने हाईकोर्ट के एक ऑर्डर की चर्चा करते हुई बोली कि इस ऑर्डर के आधार पर वोट करेंगे। सच्चाई तो यह है कि ऐसा कोई ऑर्डर मौजूद ही नहीं है। पीठासीन अधिकारी ने हाउस में झूठ बोला। यह कोर्ट का निरादर है। देखा जाए तो इसके लिए वह जेल भी जा सकती हैं। हम एल्डरमैन की वोटिंग के लिए भी तैयार हो गए। फिर बोलीं कि तीनों चुनाव एकसाथ कराएंगे। हम उसके लिए भी तैयार हो गए। उन्हें लगा कि आम आदमी पार्टी वाले तो हर चीज के लिए तैयार हैं तो उन्होंने कहा कि ‘आप’ के कुछ ऐसे पार्षद और विधायक हैं जिनके खिलाफ एफआईआर दर्ज है, इनको बाहर निकालो। हम इसके लिए भी तैयार हो गए। इसके बाद भाजपा के पार्षदों ने गाली-गलौज शुरू की जो सभी ने देखा।

हमारे पास वोट संख्या ज्यादा है, अब खुद समझ लीजिए कि चुनाव कौन नहीं होने देना चाहता है। भाजपा के पास वोट नहीं हैं इसलिए वह चुनाव से भाग रहे हैं। यह लोग जुगाड़ लगा रहे थे कि हमारे पार्षदों को खरीद लेंगे लेकिन हमारे पार्षद कट्टर ईमानदार निकल गए। हर साल एमसीडी का बजट 16000 करोड़ है। 15 साल के हिसाब से जोड़ लो, इन लोगों ने कितना भ्रष्टाचार किया है। एक-एक फाइल हमारे पास मौजूद है, जिस दिन हमारी सरकार बनी, एक-एक के खिलाफ जांच कराएंगे। इनके कई पार्षद बड़ी-बड़ी कॉलोनियों में तीन-तीन चार-चार फ्लैट लेकर बैठे हुए हैं। हमारा संघर्ष लंबा है। ऐसे कई प्रदर्शन करने पड़ेंगे, लाठियां खानी पड़ेगी, पानी की बौछारों को सहना पड़ेगा। इन सबके लिए आप तैयार रहना। हमारा फैसला यही है कि मेयर आम आदमी पार्टी का बनेगा, डिप्टी मेयर भी आम आदमी पार्टी का बनेगा और स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य भी आम आदमी पार्टी के ही बनेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments