Homeअंतराष्ट्रीयकेंद्रीय शिक्षा मंत्री ने भारतीय ज्ञान परंपरा पर आधारित पाठ्यपुस्तक का किया...

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने भारतीय ज्ञान परंपरा पर आधारित पाठ्यपुस्तक का किया विमोचन

  • यह पुस्तक इंजीनियरिंग और विज्ञान के छात्रों के लिए भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) के
    ज्ञान मीमांसा और दर्शनशास्त्र की शाखा (ऑन्कोलॉजी) का परिचय देगी
  • वर्ष 2018 में एआईसीटीई ने भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) पर पाठ्यक्रम को अपने आदर्श (मॉडल ) पाठ्यक्रम के अंतर्गत अनिवार्य पाठ्यक्रम बनाया गया था

नई दिल्ली, 16 मई 2022: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भारतीय ज्ञान परंपरा पर आधारित पाठ्यपुस्तक “इंट्रोडक्शन टू इण्डियन नॉलेज सिस्टम” का विमोचन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारतीय ज्ञान परंपरा पर आधारित “इंट्रोडक्शन टू इंडियन नॉलेज सिस्टम” पुस्तक भारत की महान सभ्यता के अंग रहे विद्वान् आचार्यों द्वारा स्थापित किए गए भारत के लोकाचार, नवोन्मेष और नवाचार पर आधारित है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में तकनीकी शिक्षा में नवाचारों को शामिल करने से भारतीय शिक्षा प्रणाली में आमूलचूल परिवर्तन आया है। केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री सुभाष सरकार ने कहा कि यह पाठ्यपुस्तक भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) की ज्ञानमीमांसा और ऑन्कोलॉजी को इंजीनियरिंग और विज्ञान के छात्रों के समक्ष प्रस्तुत करने का एक प्रयास है जिससे इस क्षेत्र में उनकी रूचि उत्पन्न होगी और वे इसे नवीन ज्ञान से सम्बद्ध कर पाएंगे, इससे अभिभूत होंगे और इसमें और आगे खोज करने का प्रयास करेंगे।

     इस पुस्तक को एस व्यास, बैंगलोर और चिन्मय विश्व विद्यापीठ (एर्नाकुलम) के सहयोग से आईआईएम बैंगलोर के प्रोफेसर डॉ. बी. महादेवन, डॉ विनायक रजत भट्ट और डॉ नागेंद्र पवन आर.एन. ने लिखा है। यह कार्यक्रम सोमवार को अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), नेल्सन मंडेला मार्ग, वसंत कुंज स्थित कार्यालय के सभागार में आयोजित किया। एआईसीटीई की ओर से वर्ष 2018 भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) पर पाठ्यक्रम का शुभारम्भ अपने आदर्श (मॉडल )पाठ्यक्रम के अंतर्गत अनिवार्य पाठ्यक्रम के रुप में किया गया था। पाठ्यपुस्तक के लेखक डॉ. बी. महादेवन ने कहा कि पुस्तक, इंट्रोडक्शन टू इंडियन नॉलेज सिस्टम्स कॉन्सेप्ट्स एंड एप्लिकेशन्स”, इंजीनियरिंग के छात्रों और उच्च शिक्षा संस्थानों के उन छात्रों के बीच की खाई को पाटने के उद्देश्य से लेखकों के प्रयासों की परिणति है, जो भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) पर एआईसीटीई द्वारा आरंभ किए गए अनिवार्य पाठ्यक्रमों का अध्यन करेंगे।

 एआईसीटीई के अध्यक्ष डॉ अनिल सहस्रबुद्धे के अनुसार इसके अतिरिक्त, नई शिक्षा नीति (एनईपी2022) ने उच्च शिक्षा पाठ्यक्रम में भारतीय ज्ञान परंपरा  (आईकेएस) पर पाठ्यक्रम प्रदान करने के लिए एक स्पष्ट दिशा निर्देश प्रदान किया है, जिससे आने वाले दिनों में देश के कई उच्च शिक्षा संस्थानों में इस तरह के पाठ्यपुस्तक की आवश्यकता होगी। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग और ब्लॉकचैन के युग में, तकनीकी संस्थान वैकल्पिक क्रेडिट पाठ्यक्रमों के माध्यम से भारतीय ज्ञान परंपरा (आईकेएस) के अध्ययन
की पारंपरिक शिक्षण प्रणालियों को अपनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। प्राचीन ज्ञान के विशाल भंडार को पुनर्जीवित करते हुए ये पाठ्यक्रम मुख्यधारा की शिक्षा में शामिल होने से हमारे युवाओं में आत्मनिर्भरता पैदा कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + sixteen =

Must Read