Tuesday, July 9, 2024
Homeताजा खबरेंहमने जो वादा किया था वो पूरा किया : केजरीवाल

हमने जो वादा किया था वो पूरा किया : केजरीवाल

  • एमसीडी में पांच हजार सफाई कर्मचारियों की नौकरी पक्की, केजरीवाल की एक और गारंटी पूरी – दिल्ली नगर निगम में 5 हजार सफ़ाईकर्मियों को पक्का करने का प्रस्ताव आम आदमी पार्टी ने पास करा दिया है – हमने जो वादा किया उसे पूरा किया, दीपावली पर मिले शानदार तोहफ़े के लिए सभी सफाई कर्मियों को बहुत-बहुत बधाई – दिल्ली के लोगों की सेवा मन लगाकर कीजिए, हम मिलकर दिल्ली को एक साफ-स्वच्छ और सुंदर शहर बनाएंगे : अरविंद केजरीवाल ।- दिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में 58 प्रस्ताव किए गए पेश, सर्वसम्मति से 54 एजेंडे हुए पास – विपक्ष ने सदन की कार्यवाही में बाधा डाली, बैठक शुरू होने से पहले ही किया हंगामा – 5 हजार सफाई कर्मचारियों को नियमित करने और डीबीसी कर्मचारियों को एमटीएस बनाने का प्रस्ताव को पास कर दिया गया है – निगम स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब वर्ग के बच्चों को यूनिफार्म के लिए 1100 रुपए प्रति छात्र दिए जाएंगे – सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार का जो ’गुड गवर्नेंस मॉडल’ है, अब वैसे ही मॉडल की शुरुआत एमसीडी में भी हो चुकी है : डॉ शैली ओबरॉय
     
    नई दिल्ली, 31 अक्टूबर, 2023

एमसीडी चुनाव के दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने गारंटी दी थी कि एमसीडी में सरकार बनने पर सफाई कर्मचारियों की नौकरी पक्की की जाएगी। एमसीडी सदन में आज पांच हजार सफाई कर्मचारियों की नौकरी पक्की करने का प्रस्ताव पास होते ही सीएम केजरीवाल की यह गारंटी भी पूरी हो गई। इसके संबंध में सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली नगर निगम में 5 हजार सफाई कर्मियों को पक्का करने का प्रस्ताव आम आदमी पार्टी ने पास करा दिया है। हमने जो वादा किया था वो पूरा किया। दीपावली पर मिले इस शानदार तोहफ़े के लिए पक्का होने वाले सभी सफ़ाईकर्मियों एवं उनके परिजनों को बहुत-बहुत बधाई। दिल्ली के लोगों की सेवा मन लगाकर कीजिए। हम मिलकर दिल्ली को एक साफ़-स्वच्छ और सुंदर शहर बनाएंगे। मेयर डॉ शैली ओबरॉय ने कहा कि निगम स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब वर्ग के बच्चों को यूनिफार्म के लिए 1100 रुपए प्रति छात्र दिए जाएंगे।

दिल्ली नगर निगम के सदन की बैठक में आज 58 प्रस्ताव किए गए पेश किए गए। इनमें से जनहितैषी 54 प्रस्ताव पास किए गए हैं। दिल्ली नगर निगम मुख्यालय में मेयर डॉ शैली ओबरॉय ने डिप्टी मेयर आले मोहम्मद इकबाल और नेता सदन मुकेश गोयल के साथ आज महत्वपूर्ण प्रेसवार्ता को संबोधित किया। मेयर डॉ शैली ओबरॉय ने कहा कि अक्तूबर माह के इस सदन में आज आम आदमी पार्टी की निगम सरकार ने सर्वसम्मति से दिल्ली की जनता व निगम के कर्मचारियों के हित में महत्वपूर्ण प्रस्तावों को पारित किया है। सदन में लाए गए सभी प्रस्तावों से दिल्ली की जनता और नगर निगम के कर्मचारियों को काफी राहत मिलेगी।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कर्मचारियों को दिवाली के अवसर पर कर्मचारियों को तोहफ़ा दिया है। उन्होंने अपना वादा निभाते हुए 5 हजार सफ़ाई कर्मचारियों को नियमित किया। साथ ही लगभग 3100 डीबीसी कर्मचारियों, जो वर्षों से अपने हक़ की लड़ाई लड़ रहे थे, उन्हें एमटीएस बनाया गया है। इसके अतिरिक्त दिल्ली की सफ़ाई व्यवस्था को सुदृढ़ करने और कूड़े के पहाड़ों को ख़त्म करने के लिए समानांतर एजेंसी लायी गयी है। इस जनहितैषी मुद्दे को सदन में आज पास किया है। हमारा प्रयास है कि ओखला, गाजीपुर व भलस्वा लैंडफिल साइट पर वैज्ञानिक तरीक़े से कूड़े का निष्पादन किया जा सके। स्थायी समिति के गठन के बाद इन प्रस्तावों को और आगे ले जाया जाएगा।

मेयर डॉ शैली ओबरॉय ने कहा कि निगम स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब वर्ग के बच्चों को यूनिफार्म भी दी जाएगी। यूनिफार्म हेतु 1100 रुपए प्रति बच्चों को दिए जाएंगे। यह महत्वपूर्ण प्रस्ताव भी आज पास किया गया है। इसके अतिरिक्त निगम के प्रिंसिपलों को बेहतर प्रशिक्षण देने हेतु अंतरराष्ट्रीय यूनिवर्सिटी जैसे ऑक्सफोर्ड, कैम्ब्रिज में भेजा जाएगा। इस प्रस्ताव से स्कूलों में शिक्षा का स्तर भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि बैठक में तीन प्रस्ताव को स्थगित व एक को अस्वीकार किया गया है। इन सभी प्रस्तावों पर चर्चा की जाएगी और फिर इन्हें पास किया जा सकता है। सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार का जो ’गुड गवर्नेंस मॉडल’ है, अब वैसे ही मॉडल की शुरुआत एमसीडी में भी हो चुकी है।

  • सदन बैठक में विपक्ष द्वारा हंगामा
    मेयर ने कहा कि आज की बैठक में भी सबसे शर्मनाक ये रहा कि विपक्ष के पार्षदों ने सदन की कार्यवाही में बाधा डाली। सदन की शुरुआत होने से पहले ही हंगामा किया। उनसे बार-बार आग्रह किया गया की शांतिपूर्वक सदन चलने दें और सदन की गरिमा बनाए रखें, ताकि दिल्ली की जनता व निगम कर्मचारियों के हित में महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर चर्चा की जा सके।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments