Monday, April 22, 2024
Homeताजा खबरेंभूमाफियाओं के कब्जे से मुक्त की 1250 वर्ग गज सरकारी जमीन

भूमाफियाओं के कब्जे से मुक्त की 1250 वर्ग गज सरकारी जमीन

– हौज़ ख़ास सब रिवीज़न के एक रिकॉर्ड, एक क़ानूनगो और एक सब रजिस्ट्रार को सस्पेंड किया गया है – ग्रेटर कैलाश में करोड़ों रुपए की कीमती सरकारी जमीन को भूमाफियाओं से कब्जा मुक्त करवाने पर लोगों ने स्थानीय विधायक सौरभ भारद्वाज को दिया धन्यवाद
-भूमाफियाओं ने राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर 1250 वर्ग गज सरकारी जमीन को पहले अपने नाम कराया, फिर बेच दी थी – अवैध रूप से कब्जा की गई सरकारी जमीन की बाउंड्री करने पर स्थानीय लोगों ने दिल्ली विधानसभा की याचिका समिति से शिकायत कर अवैध कब्जा हटाने की मांग की थी – करोड़ों रुपए कीमत की इस सरकारी ज़मीन की मिलीभगत कर रजिस्ट्री करवाने पर सब रजिस्ट्रार समेत कई अधिकारियों को किया गया है सस्पेंड

नई दिल्ली, 12 जुलाई 2022: ग्रेटर कैलाश विधानसभा के चिराग़ दिल्ली इलाक़े में एक धन्यवाद समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह में स्थानीय विधायक और दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष सौरभ भारद्वाज को चिराग़ दिल्ली गाँव, शाहपुर जाट गाँव, जमरूदपुर समेत अन्य स्थानीय निवासियों ने सम्मानित और धन्यवाद किया। दरअसल, यह चिराग़ दिल्ली की एक क़ीमती ज़मीन का मामला था जो बीआरटी की मेन रोड पर पंचशील इलाक़े में स्थित है। यह ज़मीन सैकड़ों वर्षों से चिराग़ दिल्ली गाँव की शामलात ज़मीन थी और इसके निकट गाँव का श्मशान घाट था। कुछ महीने पहले कुछ शरारती लोगों ने राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर, काग़ज़ों में जालसाज़ी की और, शामलात ज ़मीन (सरकारी ज़मीन) को रेवेन्यू रिकॉर्ड में अपने नाम लिखवा लिया। साथ ही, कुछ ही हफ़्तों में इस जमीन को हरियाणा की एक पार्टी को बेच दिया और इस सरकारी ज़मीन की रजिस्ट्री भी करवा ली। इसे लेकर स्थानीय लोगों में, ख़ासकर बुजुर्गों में काफ़ी ग़ुस्सा और नाराज़गी थी।

वहीं, कुछ महीने पहले मेन रोड पर क़रीब 1250 गज ज़मीन भूमि माफ़ियाओं ने क़ब्ज़ा कर लिया। भूमाफियाओं ने अवैध रूप से कब्जा की गई इस ज़मीन की चहारदीवारी करा दी थी और स्थानीय लोगों को डराने के लिए वहाँ पर दूसरे शहरों से लाकर लठैत खड़े कर दिए थे। इस मामले की शिकायत कई विभागों में की गई, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद स्थानीय ग्राम निवासियों ने इसकी शिकायत दिल्ली विधानसभा की याचिका समिति से की। याचिका समिति में जाँच करने शुरू होने के बाद नए डिविज़नल कमिश्नर मीणा ने मामले को गम्भीरता से लिया और जाँच में सहयोग किया। प्रथम दृष्ट्या पाया गया कि राजस्व विभाग के कुछ अधिकारियों की मिलीभगत के कारण इस सरकारी ज़मीन पर एक भूमि माफ़िया का क़ब्ज़ा हो गया है और रजिस्ट्री भी हो गई है। 

इसकी जानकारी डीडीए को भी दी गई, जिसकी ज़मीन पर क़ब्ज़ा हो गया था। इस मामले में अभी तक दक्षिण दिल्ली ज़िला में आने वाले हौज़ ख़ास सब रिवीज़न के एक रिकॉर्ड एक  क़ानूनगो और एक सब रजिस्ट्रार को सस्पेंड किया गया है। अभी इस मामले की जाँच जारी है और दो दिन पहले राजस्व विभाग ने डीडीए के साथ मिलकर इस ज़मीन की चारदीवारी को गिराकर ज़मीन को क़ब्ज़ा मुक्त करा दिया है। साथ ही, दिल्ली विधानसभा की समिति डीडीए को आग्रह किया है कि वे अब इस सेल डीड को निरस्त कराने के लिए उचित क़ानूनी कार्रवाई करे। चिराग़ दिल्ली के लोगों ने सोमवार शाम को एक स्वागत समारोह रखा जिसमें विधायक सौरभ भारद्वाज को आशीर्वाद दिया और धन्यवाद दिया। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments