Wednesday, June 19, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयजनता को गुमराह ना करे आम आदमी पार्टी, एकीकरण के प्रति बहुत...

जनता को गुमराह ना करे आम आदमी पार्टी, एकीकरण के प्रति बहुत आशावान है जनता: प्रवीण कपूर

  • गुमराह करने की बजाए नगर निगम एकीकरण का करें समर्थन
  • केजरीवाल सरकार द्वारा नगर निगमों का पूरा फंड व लोन देने का दावा निराधार व झूठा है

नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा है कि दिल्ली की जनता नगर निगमों के एकीकरण के प्रति बहुत आशावान हैं और बेहतर होगा आम आदमी पार्टी के नेता जनता को गुमराह करने की बजाए नगर निगम एकीकरण का समर्थन करें। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी विधायक अतिशी द्वारा राज्य सभा में दिल्ली नगर निगम एकीकरण बिल प्रस्तुत करते हुऐ गृह मंत्री अमित शाह के वक्तव्य पर की गई प्रेसवार्ता में उनकी राजनीतिक हताशा साफ दिखाई दे रही थी। गत 7 साल में नगर निगमों को राजनीतिक रूप से बदनाम करने के लिए केजरीवाल सरकार ने उनकी आर्थिक प्रशासनिक कमर तोड़ने का हर प्रयास किया। अतिशी ने मंगलवार को कहा कि केजरीवाल सरकार ने नगर निगमों का पूरा फंड दिया, लोन भी दिया है जिसे भाजपा ने निराधार और झूठा करार दिया है। नगर निगमों को दिल्ली सरकार को दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिश अनुसार फंड देना होता है, जो आज पांचवे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिश अनुसार दिया जाना चाहिए लेकिन केजरीवाल सरकार तीसरे वित्त आयोग की सिफारिश अनुसार दे रही है और उसमें भी कटौती करके दे रही है।


प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा कि अकेले गत वित्त वर्ष 2021-22 में केजरीवाल सरकार द्वारा पांचवे दिल्ली वित्त आयोग की सिफारिश अनुसार फंड ना देने से रूपए 17,577 करोड़ बकाया खड़े हैं। इसी तरह अतिशि ने एक झूठा तर्क दिया कि केन्द्र सरकार गुरूग्राम, फरीदाबाद सहित विभिन्न नगर निगमों को आबादी अनुसार वार्षिक फंड देती है जो जानबूझकर दिल्ली को नहीं दिया जाता। सच यह है कि निस्संदेह केन्द्र यह फंड राज्यों के नगर निगमों को वार्षिक फंड देता पर केन्द्र शासित प्रदेशों के नगर निगमों को नहीं देता क्योंकि केन्द्र सरकार दिल्ली सहित केन्द्र शासित प्रदेशों में हजारों करोड़ रूपए के विकास कार्य प्रति वर्ष करवाती है। दिल्ली की जनता की भली भांति जानती है कि केन्द्र अगर गुरूग्राम आदि जैसा फंड दिल्ली को दे तो मात्र 730 करोड़ रूपए प्रति वर्ष मिलेगा जबकि आज दिल्ली को केन्द्र से कम से कम रुपये 25,000 करोड़ से अधिक का विकास निवेश मिलता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments