Homeअंतराष्ट्रीयआम आदमी पार्टी 14 सितंबर से पूरी दिल्ली में शुरू करेगी कूड़ा...

आम आदमी पार्टी 14 सितंबर से पूरी दिल्ली में शुरू करेगी कूड़ा विरोधी अभियान

  • – दिल्ली के लोगों को अभियान के पहले चरण में 14 सितंबर को गाजीपुर, 15 सितंबर को ओखला और 16 सितंबर को भलस्वा लैंडफिल साइट दिखाएंगे- भाजपा को या तो दिल्ली का कूड़ा हटाना होगा या खुद दिल्ली एमसीडी से हटना होगा- गोपाल राय
  • – दिल्ली में कूड़े के हालात हमेशा से खराब थे, मगर पिछले छह महीने में ये हालत और बदतर होते जा रहे हैं – एमसीडी ने सैकड़ों कूड़े के ढलाव बिना योजना के बंद कर दुकानें खोल दीं, ऐसे में लोगों को मजबूरी में सड़कों, नालियों पर कूड़ा डालना पड़ रहा है- सौरभ भारद्वाज
  • – वर्तमान गति से कूड़े के तीनों पहाड़ों को साफ करने में 200 साल लगेंगे, अगर कूड़ा आना बंद हो जाए तो भी 27 साल लगेंगे- इसलिए हम भाजपा के 15 सालों के चमत्कार की सच्चाई दिखाने के लिए दिल्ली की जनता को कूड़े के पहाड़ों पर आने का न्योता दे रहे हैं- आतिशी

नई दिल्ली, 13 सितंबर, 2022 : आम आदमी पार्टी के दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने कहा कि आम आदमी पार्टी 14 सितंबर से पूरी दिल्ली में कूड़ा विरोधी अभियान शुरू करेगी। दिल्ली के लोगों को अभियान के पहले चरण में 14 सितंबर को गाजीपुर, 15 सितंबर को ओखला और 16 सितंबर को भलस्वा लैंडफिल साइट दिखाएंगे।‌ भाजपा को या तो दिल्ली का कूड़ा हटाना होगा या खुद दिल्ली एमसीडी से हटना होगा। मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली में कूड़े के हालात हमेशा से खराब थे। मगर पिछले छह महीने में ये हालत और बदतर होते जा रहे हैं। एमसीडी ने सैकड़ों कूड़े के ढलाव बिना योजना के बंद कर दुकानें खोल दीं। ऐसे में लोगों को मजबूरी में सड़कों, नालियों पर कूड़ा डालना पड़ रहा है। विधायक आतिशी ने कहा कि वर्तमान गति से कूड़े के तीनों पहाड़ों को साफ करने में 200 साल लगेंगे। अगर कूड़ा आना बंद हो जाए तो भी 27 साल लगेंगे। इसलिए हम भाजपा के 15 सालों के चमत्कार की सच्चाई दिखाने के लिए दिल्ली की जनता को कूड़े के पहाड़ों पर आने का न्योता दे रहे हैं।

आम आदमी पार्टी के दिल्ली संयोजक गोपाल राय, मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज वरिष्ठ नेता आतिशी ने पार्टी मुख्यालय में आज महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता को संबोधित किया। कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली के अंदर हर व्यक्ति अपने घर की सफाई करने के बाद सोचता है कि घर से बाहर निकलेंगे तो हमें गलियां और सड़कें साफ मिलेंगी। लेकिन देश की राजधानी में रहते हुए यह कभी महसूस नहीं होता है। दिल्ली के अंदर 15 साल से भारतीय जनता पार्टी को लोगों ने बार-बार एमसीडी में सरकार बनाने का और काम के कीर्तिमान स्थापित करने का मौका दिया। लेकिन 15 साल के अंदर भारतीय जनता पार्टी ने पूरी दिल्ली को अलग कीर्तिमान स्थापित करके दिया है। पूरी दिल्ली को कूड़ा-कूड़ा किया है। पहले नगर निगम में पार्षद हुआ करते थे। जब से एकीकरण के नाम पर चुनाव टाला गया और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने एमसीडी के अंदर करिश्मा करने की कमान अपने हाथ में ली है। आज पूरी दिल्ली के हालात बद से बदतर हो चुके हैं। सभी लोग विधायकों के दफ्तर में आकर कह रहे हैं कि हमारे यहां कूड़ा नहीं उठ रहा है और सफाई नहीं हो रही है। दिल्ली में कई जगह कूड़ा डालने की निश्चित थी। जिन्हें बिना किसी योजना के खत्म कर दिया गया है। ऐसे में कूड़ा लावारिस पड़ा हुआ है। भाजपा ने आज दिल्ली को कूडा कूडा कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी की 15 साल में अपनी पहली जिम्मेदारी में पूरी तरह से फेल हुई है। एमसीडी में भाजपा के तीन बार के शासन की उपलब्धि तीन कूड़े के पहाड़ हैं। इससे ज्यादा शर्म की कोई बात नहीं हो सकती है। आज पूरी दिल्ली को शर्मसार होना पड़ता है।

भाजपा के चमत्कार से कूड़े के पहाड़ दिल्ली के तीन स्वागत द्वार बन चुके हैं- गोपाल राय

उन्होंने कहा कि दिल्ली में पूर्व, उत्तर और दक्षिण से प्रवेश करने पर कूड़े के पहाड़ और बदबू स्वागत करती है। दिल्ली के यह तीन स्वागत द्वार बन चुके हैं जो कि भाजपा का चमत्कार है। दिल्ली के लोग आज सबसे ज्यादा दुर्दशा की स्थिति में जी रहे हैं। पहले लोग पार्षद के घर चले जाते थे लेकिन अब वह कह देता है कि मैं पार्षद नहीं हूं। ऐसे में अब लोग किसके पास जाएं। गृह मंत्रालय ने एकीकरण तो कर दिया लेकिन दफ्तर नहीं खोला। ऐसे में आज हर विधायक कह रहा है कि हम सभी काम कर रहे हैं लेकिन सफाई का क्या करें? इसलिए आम आदमी पार्टी ने फैसला किया है कि कल 14 सितंबर से 14 अक्टूबर तक पूरी दिल्ली के अंदर भाजपा के इस कूड़ा- कूड़ा चमत्कार के खिलाफ दिल्ली में प्रदेशव्यापी कूड़ा विरोधी अभियान पार्टी शुरू करेगी। हम इस हालत में दिल्ली को रहने नहीं देंगे। भाजपा को या तो कूड़ा हटाना पड़ेगा या फिर दिल्ली की एमसीडी से खुद उनको हटना पड़ेगा। इसके बीच का कोई रास्ता नहीं है।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने कहा कि लोग परिसीमन का इंतजार कर रहे थे। परिसीमन का नोटिफिकेशन उन्होंने अभी जारी किया है। उस नोटिफिकेशन में प्राइमरी फीडबैक आ रहे हैं कि हर विधानसभा के अंदर अतार्किक तरीके से वार्डों का परिसीमन कर दिया गया है। परिसीमन करने वाले को पता ही नहीं है कि हम इसको कहां जोड़ रहे हैं। एक विधानसभा के अंदर एक वार्ड 45 हजार तो दूसरा वार्ड 75 हजार जनसंख्या का कर दिया है। वार्डों के अंदर जो विकास बजट मिलेगा उसी फंड में 75 हजार आबादी उसी बजट में 45 हजार आबादी के लिए विकास कार्य करने हैं। ऐसे में परिसीमन अतार्किक तरीके से हुआ है। उस पर पार्टी समीक्षा कर रही है। चुनाव आयोग ने 3 अक्टूबर तक ऑब्जेक्शन और सुझाव मांगे हैं। उस पर जो भी सुझाव हैं, उन्हें चुनाव आयोग को दिया जाएगा। ऐसे में उम्मीद है कि इस अतार्किकता को ठीक किया जाएगा। दिल्ली में कल से कूड़ा विरोधी अभियान शुरू हो रहा है, उसमें अलग-अलग पड़ाव होंगे। जिसका पहला चरण कल से शुरु कर रहे हैं। दिल्ली के अंदर तीनों के कूड़े के पहाड़ों में हर साल आग लग जाती है। सर्दियों के समय का खतरा फिर मंढरा रहा है। अभी एकीकरण के बाद उपराज्यपाल ने भी दौरा किया।

भाजपा के इस कलंक को मिटाने के लिए दिल्ली के लोगों को खड़ा होना पड़ेगा- गोपाल राय

कूड़े के पहाड़ों का आंकड़ा रखते हुए कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने कहा कि भलस्वा कूड़े के पहाड़ में 90 लाख टन कूड़ा है। वहां 4 हजार टन कूड़ा रोजाना आता है, जिसमें से ढाई हजार टन कूड़ा रोजाना निस्तारित कर पाते हैं, यानि कि डेढ़ हजार टन कूड़ा रोजाना बढ़ रहा है। गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर डेढ़ सौ लाख टन कूड़े का पहाड़ है। उसमें 5 हजार टन कूड़ा रोजाना वहां लाया जाता है। उसमें से ढाई हजार टन कूड़े का निस्तारण होता है और ढाई हजार कूड़ा रोजाना वहां बढ़ रहा है। तीसरा ओखला का कूड़े का पहाड़, जहां पर 60 लाख टन कूड़े का पहाड़ है। वहां ढाई हजार तक कूड़ा रोजाना आता है, जिसमें से डेढ़ हजार रोजाना निस्तारित होता है और 1 हजार टन रोजाना बच जाता है। अगर कूड़ा ना डाला जाए तब भी भाजपा की वर्तमान प्रक्रिया के हिसाब से लगभग 27 साल इन कूड़े के पहाड़ों को हटाने में लगेंगे। इसलिए सबसे बड़ा चैलेंज भाजपा के इस कलंक को मिटाने के लिए हम दिल्ली के लोगों को खड़ा होना पड़ेगा इसलिए पार्टी ने फैसला किया है कि कल से पहले चरण में तीन दिन का भाजपा का चमत्कार देखो, कूड़े का पहाड़ देखो अभियान चलाया जाएगा। जिसमें 14 सितंबर को गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर दिल्ली के लोगों को हम आमंत्रित कर रहे हैं। विधायक आतिशी जी के नेतृत्व में दिल्ली के लोग कूड़े का पहाड़ देखने जाएंगे। वहां आसपास के लोग कैसे ज़िंदगी जी रहे है। क्योंकि वहां भी आबादी रहती है। वहां जब आग लगती है तो कैसे हालात बन जाते है। इसे हम केवल टीवी व अख़बार के माध्यम से दूर से महसूस करते हैं। दिल्ली के लोग 15 सितंबर को सौरभ भारद्वाज जी के नेतृत्व में ओखला लैंडफिल साइट का दौरा करेंगे। भलसावा लैंडफिल साइट का 16 सितंबर को दुर्गेश पाठक जी के नेतृत्व में विजिट करेंगे। भाजपा ने 15 सालों में जो चमत्कार किया है उसे दिल्ली के लोगों को दिखाने का अभियान चलेगा। इसके बाद अलग अलग चरण में अलग अलग कूड़ा विरोधी अभियान हम आपके सामने रखते जायेंगे। उस अभियान को चरणबद्ध तरीक़े से दिल्ली में लागू करेंगे। दिल्ली के लोगों ने 15 साल इंतज़ार किया, अब ओर नहीं करेंगे। दिल्ली से कूड़ा हटेगा या दिल्ली से भाजपा हटेगी।

अब पार्षद कह रहे हैं कि हम पार्षद नहीं रहे, इसलिए सफाई हमारी जिम्मेदारी नहीं- सौरभ भारद्वाज

विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली में कूड़े के हालात हमेशा से ख़राब थे। मगर पिछले छह महीने में ये हालत ओर बदतर होते जा रहे हैं। इसका मुख्य कारण ये है कि पहले पार्षद होते थे तो फिर भी जवाबदेही होती थी किसी की कोई बात सुनी जाती थी। अब जानता के पास कोई ऐसा ज़रिया नहीं है कि वो अपनी बात लेकर कहां जाएं। पार्षद हाथ उठाकर कह देते है कि अब हम पार्षद नहीं हैं। सारी जानता विधायकों के पास आ रही है। विधायकों के प्रति एमसीडी की कोई ज़िम्मेदारी नहीं है इसलिए कोई काम नहीं हो रहा है। दूसरा दक्षिणी दिल्ली के अंदर सैकड़ों ऐसे कूड़े के ढलाव हैं जहां पिछले कई सालों से कूड़ा डाला जाता था और नियमित तौर पर कूड़ा उठता था। उनको बिना किसी योजना के बंद कर दिया गया है। जनता को रोज़ कूड़ा एक जगह पर डालने की आदत है। जहां पर कूड़ा डलता था वहां प्राइवेट दुकानें एमसीडी ने खोल दी है। दुकानें खुलने के बाद दुकानदार वहां कूड़ा नहीं डालने देता। ऐसे में सड़कों, नालियों, जहां मौक़ा मिलता है, जनता कूड़ा डाल रही है। पूरी दिल्ली में ये हाल है। मैंने कई बार एमसीडी के सैनिटरी इंस्पेक्टर , सैनिटरी सुपरवाइज़र को बुलाकर पूछा कि आपने ये ढलाव बंद तो कर दिए, मगर जो लोग यहां कूड़ा डालते थे वो कूड़ा कहां डालेंगे। उन्होंने मुझे बताया कि एक प्लान के तहत हम दो तीन महीनों के अंदर कुछ सेटअप कर रहे हैं। दो तीन महीनों के बाद वो इसका वैकल्पिक प्लान लायेंगे और तब तक लोग कूड़ा कहां‌ डालेंगे। इसका कोई प्लान नहीं है।‌ यह हालत राजधानी में कूड़े के निपटान को लेकर है।

जब कूड़े का पहाड़ दिख जाए तो इसका मतलब दिल्ली आ गई- आतिशी

विधायक आतिशी ने कहा कि पिछले 15 साल से भारतीय जनता पार्टी का एमसीडी में शासन है। इस दौरान दिल्ली में सफ़ाई के हालात बद से बदतर हुए हैं। दिल्ली के किसी भी हिस्से में जाइए तो सिर्फ़ गंदगी ही दिखती है। दिल्ली में रहने वाला ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो भाजपा के कूड़े से अनजान है। दिल्ली का कोई ऐसा इलाक़ा नहीं है जिसे भाजपा ने कूड़ा कूड़ा नहीं किया है। दिल्ली की जनता दिल्ली के अलग अलग हिस्सों में होने वाले कूड़े से परेशान है। दिल्लीवालों को इस बात की शर्म आती कि जब भी कोई दिल्ली में प्रवेश करता तो ये तीन कूड़े के पहाड़ उनका स्वागत करते हैं। जब कोई रिश्तेदार बाहर से दिल्लीवालों से मिलने आता है तो लोग कहते हैं कि तुम्हें ट्रेन में पता चल जाएगा कि दिल्ली कब आने वाली है। जब तुम्हें ट्रेन की खिड़की से कूड़े का पहाड़ दिख जाए, इसका मतलब है कि दिल्ली आ गई।

उन्होंने कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी प्लान देते हैं कि इस तरह भारत को दुनिया को नंबर वन देश बना सकते हैं। लेकिन राजधानी दिल्ली के पास क्या ख़िताब है कि भाजपा द्वारा ही की गई स्वच्छता रैंकिंग में दिल्ली नंबर वन तो आता है लेकिन नीचे से नंबर वन आता है। ये भाजपा की देन से है। कभी भाजपा के एलजी तो कभी भाजपा के नेता कहते हैं कि हम इन कूड़े के पहाड़ों को साफ़ कर रहे हैं। हम कूड़े के पहाड़ों को लेकर भाजपा को एक्सपोज़ करने के लिए दिल्ली की जनता को बुला रहे हैं। अगर वर्तमान गति से निस्तारण हुआ से तो इन कूड़े के पहाड़ों को साफ़ करने में 200 साल लग जाएंगे। अगर कूड़ा आना बंद हो जाए तब भी 27 साल लग जायेंगे। इसलिए हम कल से भाजपा की इस कूड़े की देन और उनके 15 सालों के चमत्कार की सच्चाई दिखाने के लिए दिल्ली की जनता को कूड़े के पहाड़ों पर आने का न्योता दे रहे हैं। हम कल गाज़ीपुर की लैंडफिल साईट पर जायेंगे। उसके बाद परसों ओखला लैंडफिल साइट पर और तीसरे दिन भलस्वा लैंडफिल साइट पर जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 19 =

Must Read