Wednesday, February 21, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयBJP कूड़े के ढ़ेर लगाकर और AAP उन्हें जलाकर राजधानी में प्रदूषण...

BJP कूड़े के ढ़ेर लगाकर और AAP उन्हें जलाकर राजधानी में प्रदूषण की बढ़ोतरी करने में आग में घी डालने का कर रहे हैं काम : कांग्रेस

केजरीवाल प्रदूषण रोकथाम की बात सिर्फ औपचारिकता के लिए करते है, उनकी प्राथमिकता तो दूसरे राज्यों चुनावी संभावना तलाशना है- प्रदूषण की रोकथाम के लिए 15 सूत्री विन्टर एक्शन प्लान की घोषणा की थी, जिसकी पोल 10 दिनों में खुल चुकी है और प्रदूषित वायु से दिल्ली के लोगों का दम घुट रहा है : चौ0 अनिल कुमार

नई दिल्ली, 6 अक्टूबर, 2022 : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि राजधानी में प्रत्येक वर्ष सर्दियों में प्रदूषण दम घोटू बन जाता है परंतु इस वर्ष अक्टूबर के शुरुआत से ही वायु प्रदूषण का एक्यूआई रिकॉर्ड तोड़ उच्च स्थान पर पहुॅच गया है, जबकि 30 सितम्बर को मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने प्रदूषण की रोकथाम के लिए 15 सूत्री विन्टर एक्शन प्लान की घोषणा की थी, जिसकी पोल 10 दिनों में खुल चुकी है और प्रदूषित वायु से दिल्ली के लोगों का दम घुट रहा है। प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि प्रदूषण नियंत्रित पर केजरीवाल के लाख दावों के बावजूद जून, 2022 में आए शिकागो यूनिवर्सिटी के उर्जा नीति संस्थान EPIC की ओर से जारी एयर क्वालिटी लाईफ इंडेक्स से राजधानी दिल्ली दुनिया के प्रदूषित शहरों में नम्बर वन पर है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि राजधानी में प्रदूषण के लिए भाजपा और आम आदमी पार्टी दोनो बराबर के जिम्मेदार है। जहां भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम ने जगह-जगह कूड़े के ढ़ेर लगाए है, वहीं आम आदमी पार्टी ने राजनीति से प्रेरित होकर 5 अक्टूबर को दिल्ली में 3500 से अधिक कूड़े के ढ़ेरां में आग लगाकर प्रदूषण बढ़ाने में आग में घी डालने का काम किया, परिणामस्वरुप वायु पूर्वानुमान से पहले ही खतरनाक श्रेणी में पहुॅच गई। उन्होंने कहा कि प्रदूषण रोकथाम का ढ़ोंग करने वाली केजरीवाल सरकार का सी.ए.क्यू.एम. विभाग क्या आम आदमी पार्टी की इस गैर जिम्मेदाराना हरकत पर कार्यवाही करेगी?

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि राजधानी का प्रदूषण धूम्रपान से भी ज्यादा खतरनाक है, क्योंकि धूम्रपान से संभावित जीवन में 1.5 वर्ष की कम आती है वहीं वायु प्रदूषण से जिंदगी करीब 10 साल तक कम हो सकती है। उन्होंने कहा कि डब्लू.एच.ओ. के आंकड़ो के अनुसार साल 2013 में भारत में प्रदूषण के कण का स्तर 53 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था जो अब बढ़कर 56 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गया है, इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि राजधानी में वायु प्रदूषण लोगों की जिंदगी के लिए कितना घातक है। उन्होंने कहा कि एयर क्वालिटी लाईफ इंडेक्स में पाया गया है जीवन पर वायु प्रदूषण का प्रभाव शराब और गंदे पानी से तीन गुणा अधिक है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री के विन्टर एक्टन प्लान में प्रदूषण नियंत्रण के लिए पराली डिकम्पोज़र को प्रथम स्थान दिया है उस पराली घोल को पंजाब की मान सरकार के प्रदूषण बोर्ड में फेल करार दिया है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार ने 68 लाख पराली घोल इस्तेमाल के प्रचार के लिए 23 करोड़ खर्च करके केन्द्रीय एजेंसियों को गुमराह किया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने दिल्ली में करोड़ो रुपये खर्च करके कनॉट प्लेस और आनन्द विहार में प्रदूषण नियंत्रण के लिए दो स्मॉग टावर लगवाऐं, वो प्रदूषण नियंत्रित करने सहित हर मोर्चे पर विफल साबित हुए। उन्होंने कहा कि प्रदूषण रोकथाम के लिए विंटर एक्शन प्लान के 15 सूत्री कार्यक्रम में हर वर्ष की भांति मुद्दे रखे गए है जिन पर 8 वर्षों से सरकार विफल साबित होती आ रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments