Homeताजा खबरेंदिल्ली सरकार काॅलडाॅक ऐप से सुधारेगी नागरिकों का स्वास्थ्य: सतेंद्र जैन

दिल्ली सरकार काॅलडाॅक ऐप से सुधारेगी नागरिकों का स्वास्थ्य: सतेंद्र जैन

काॅलडाॅक ऐप का इस तरह रोगी करें इस्तेमाल

  • 1. सबसे पहले रोगी को यह एप्लिकेशन डाउनलोड करना है
  • 2. इसके बाद नाम व उसकी विशेषज्ञता आदि के आधार डाॅक्टर का चयन करना होगा
  • 3. अपने परामर्श का उद्देश्य बताना होगा
  • 4. कैमरा या गैलरी के माध्यम से अपनी रिपोर्ट अपलोड कर सकते हैं
  • 5. कॉल के साथ आगे बढ़ें, जो वीडियो, ऑडियो और टेक्स्ट है
  • 6. आप सुविधानुसार किसी भी माध्यम का विकल्प चुन सकते हैं
  • 7. कॉल सफलतापूर्वक बंद होने के बाद मरीज को प्रिस्क्रिप्शन मिलता है

  • काॅलडाॅक ऐप के सहयोग से कोरोना को फैलने से रोकने के लिए देगी निशुल्क ऑनलाइन चिकित्सा परामर्श
  • काॅलडाॅक ऐप से दिल्ली के 100 विशेषज्ञ डाॅक्टर हैं जुड़े, किसी भी समय ले सकते हैं निशुल्क परामर्श
  • प्रतिदिन ओपीडी का चक्कर लगाने वाले मरीजों, खासकर वरिष्ठ नागरिकों को मिलेगी काफी सहूलियत
  • अस्पतालों और क्लीनिकों में एक-दूसरे से कोरोना के फैलने की संभावनाओं को भी कम करेगा

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार काॅल डाॅक एप के सहयोग से दिल्ली में रहने वाले लोगों को कोरोना महामारी यानि कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए 24 घंटे निशुल्क आॅनलाइन चिकित्सा परामर्श देगी। काॅल डाॅक ऐप की मदद से दिल्ली में रहने वाले लोग दूर बैठे विशेषज्ञ डाॅक्टरों से आॅनलाइन जुड़ सकेंगे। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा कि कोरोना महामारी यानि कोविड-19 के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने निशुल्क चिकित्सा परामर्श देने के लिए काॅल डाॅक एप के साथ साझेदारी की है। इस एप की मदद से मरीज आसानी से जनरल फिजिशियन के साथ-साथ विशेषज्ञ डाॅक्टरों से घर बैठे ही किसी भी समय चिकित्सा परामर्श प्राप्त कर सकता है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने काॅल डाॅक एप के साथ साझेदारी की घोषणा करते हुए कहा कि सरकार काॅल डाक एप के सहयोग से दिल्ली के लोगों को दिन 24 घंटे ऑनलाइन चिकित्सा परामर्श देने के लिए प्रसन्नता महसूस कर रही है। इस साझेदारी के बाद दिल्ली में रहने वाले उन मरीजों, विशेषकर प्रतिदिन ओपीडी का चक्कर लगाने वाले वरिष्ठ नागरिकों को सहूलियत प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि हमें दिल्ली के 100 डॉक्टरों पर गर्व है, जो इस एप के जरिए से अपनी सेवाएं मुफ्त दे रहे हैं।

कॉलडॉक ऐप के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अरुण डागर ने कहा कि इन समय जब दुनिया महामारी से तबाह हो रही है, ऐसे में यह सुनिश्चित करना हमारा एकमात्र कर्तव्य बन जाता है कि हम एक समुदाय के रूप में हाथ से हाथ मिलाकर और साझेदारी करके इन बाधाओं को दूर कर सकें। आॅनकाॅल मेडिकेयर राष्ट्रीय राजधानी, दिल्ली सरकार के सहयोग से बेहद खुश है और हम इस तरह से जरूरतमंदों की सेवा करने में सक्षम हैं। दिल्ली सरकार के सुव्यवस्थित नेटवर्क के साथ हमारी सेवाएं सकारात्मक परिणाम देने में सक्षम होंगी और बड़े स्तर पर सभी हितधारकों को राहत प्रदान करेंगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप ने दिल्ली सहित देश के सभी राज्यों में स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे पर बहुत बुरा असर डाला है। दिल्ली सरकार 24 घंटे यह सुनिश्चित करने पर काम कर रही है कि सभी नागरिकों की आवश्यक चिकित्सकीय मदद मिल सके। यह संभावना है कि इस वायरस के प्रकोप ने गैर-आपातकालीन चिकित्सा मामलों में लोगों को अस्पतालों और डॉक्टरों के पास जाना कठिन बना दिया है। ऐसी स्थितियों में काॅल डाॅप ऐप लोगों की मदद करेगा। इसके साथ ही, अस्पतालों और क्लीनिकों में एक-दूसरे से कोरोना के फैलने की संभावनाओं को भी कम करेगा।

कॉलडॉक आॅनकाल मेडिकेयर प्राइवेट लिमिटेड द्वारा बनाया गया एक क्लाउड-आधारित प्लेटफॉर्म है, जो लोगों को उनकी सुविधा के मुताबिक कहीं भी और किसी भी समय बेहतर स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है। इस एप का उपयोग करने वाला व्यक्ति वीडियो, ऑडियो और चैट के माध्यम से डॉक्टर से जुड़ कर फोन पर परामर्श प्राप्त कर सकता है। यह समय की बचत करता है, जो प्रतीक्षा कक्ष में बिताया जाता है और रोगियों को अग्रणी डॉक्टरों से परामर्श करने और गैर-आपातकालीन स्थितियों के लिए तत्काल उपचार का लाभ प्राप्त करने की सहूलियत प्रदान करता है। एप के माध्यम से, रोगी डॉक्टर को देखने के लिए अपनी जांच रिपोर्ट अपलोड कर सकता है और डॉक्टर परामर्श देने के बाद नुस्खे (प्रिस्क्रिप्शंस) अपलोड कर सकते हैं। काॅल डाॅक एप को गूगल प्ले स्टोर और आईओएस (ioS) या http://onelink.to/unkk7m जाकर डाउनलोड किया जा सकता है।

इस सहयोग के तहत, कॉलडॉक ऐप पर दिल्ली सरकार द्वारा 100 से अधिक डॉक्टरों को रखा गया है, जो किसी भी रोगी को मुफ्त और परेशानी मुक्त परामर्श प्रदान करेंगे। इनमें दिल्ली मेडिकल काउंसिल से जुड़े डॉक्टर भी शामिल हैं। साथ ही इसमें दिल्ली सरकार के यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज (यूसीएमएस) और मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज (एमएएमसी) के डॉक्टर भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + 2 =

Must Read