Homeताजा खबरेंविकास मंत्री ने दिल्ली में पराली गलाने के लिए निःशुल्क बायो डी-कंपोजर...

विकास मंत्री ने दिल्ली में पराली गलाने के लिए निःशुल्क बायो डी-कंपोजर के छिड़काव की शुरूआत की

  • दिल्ली सरकार इस साल पांच हजार एकड़ से अधिक खेतों में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव कराएगी- गोपाल राय
  • दिल्ली सरकार ने बायो डी-कंपोजर के छिड़काव के लिए 21 टीमों का गठन किया है- गोपाल राय
  • दिवाली के दौरान प्रदूषण को नियंत्रित करने को लेकर कल दिल्ली सचिवालय में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ होगी बैठक

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर, 2022 : दिल्ली के कृषि विभाग ने आज बुराड़ी गांव से पराली को गलाने के लिए बायो डी-कंपोजर के छिड़काव की शुरूआत की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विकास मंत्री गोपाल राय बायो डी-कंपोजर के छिड़काव की शुरूआत करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार इस साल 5 हजार एकड़ से ज्यादा खेतों में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करेगी। बायो डी-कंपोजर के छिड़काव के लिए 21 टीमों का गठन किया गया है। दिल्ली में अंदर बासमती और गैर बासमती धान के सभी खेतों में सरकार की तरफ से निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव किया जाएगा। इसके लिए किसानों से एक फॉर्म भरवाया गया है।

मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में ठंड के मौसम में बढ़ने वाले प्रदूषण की समस्या के समाधान के लिए दिल्ली सरकार ने 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान बनाया है। ठंड के मौसम में पराली जलना भी प्रदूषण को बढ़ाने में एक एहम भूमिका निभाता है। ऐसे में इस समस्या पर समय रहते उचित कदम उठाए जा सकें, इसलिए सरकार ने पिछले साल की तरह इस बार भी पराली गलाने के लिए खेतों में बायो डी-कंपोजर का निःशुल्क छिड़काव शुरू किया है। दिल्ली के अंदर कुछ हिस्सों में ही धान की खेती की जाती है। दिल्ली में पराली से प्रदूषण न हो, इसीलिए पिछले साल बायो डी-कंपोजर का निः शुल्क छिड़काव किया गया था। जिसका बहुत ही सकारात्मक परिणाम रहा है। इससे पराली गल गई और खेत की उपजाऊ क्षमता में भी बढ़ोतरी देखी गई। किसानों के सामने एक समस्या यह भी रहती है कि धान की फसल की कटाई और गेहूं की बुवाई के बीच में समय अंतराल कम होता है। इसलिए सरकार समय रहते अभी से इस काम में जुट गई है, ताकि सारी कवायद में देरी भी न हो और किसानों को बेहतर परिणाम भी मिल सकें।

मंत्री गोपाल राय ने बताया दिल्ली कि सरकार इस साल 5 हजार एकड़ से ज्यादा खेतों में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करवाएगी। साथ ही उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि जो किसान फॉर्म भर दिए हैं, उनके खेतों में जल्द से जल्द निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करा दिया जाए। बायो डी-कंपोजर के छिड़काव के लिए अभी तक 957 किसानों ने फॉर्म भरा है। उन्होंने बताया कि बायो डी-कंपोजर के छिड़काव को लेकर 21 टीमों का गठन किया गया है।

विकास मंत्री गोपाल राय ने बताया कि इस साल पूसा संस्थान खुद से बायो डीकंपोजर घोल बना कर दिल्ली सरकार को मुहैया करा रहा है। इस बार दिल्ली सरकार सीधे पूसा से बायो डी-कंपोजर का घोल खरीदा है और उनकी निगरानी में आज से यह छिड़काव शुरू किया गया है। दिल्ली के अंदर बासमती और गैर बासमती धान के सभी खेतों में सरकार द्वारा निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव किया जाएगा। पूसा ने इस बार बायो डी-कम्पोज़र का एक पाउडर भी बनाया है, जिसे सरकार इस बार ट्रायल के रूप में एक हज़ार एकड़ में इस्तेमाल करने का फैसला किया है।

मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली के किसानों से अपील किया कि जिन किसानों ने अभी तक किसी वजह से छिड़काव के लिए फॉर्म नहीं भरा है, वे अभी भी फॉर्म भर सकते हैं और उनके खेतों में भी निःशुल्क छिड़काव कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिवाली पर्व के दौरान प्रदूषण को नियंत्रित करने को लेकर कल दिल्ली सचिवालय में उच्च अधिकारियों के साथ बैठक बुलाई गई है, जिसमें इस संबंध में कार्य योजना बनाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 − 2 =

Must Read