Tuesday, June 11, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयसिर्फ राजनीति चमकाने के लिए झूठ पर झूठ बोल रहें हैं केजरीवाल...

सिर्फ राजनीति चमकाने के लिए झूठ पर झूठ बोल रहें हैं केजरीवाल : बिधूड़ी

  • केजरीवाल की नसीहतें पूरी तरह झूठी
  • दिल्ली में नया स्कूल नहीं खुला, शिक्षकों की भारी कमी, शिक्षक पक्के नहीं किए गए
  • बिधूड़ी ने केजरीवाल द्वारा सुझाए गए फार्मूले पर दिया जोरदार जवाब

नई दिल्ली, 17 अगस्त। दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने शिक्षा में सुधार के दावों पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा है कि केजरीवाल सारी दुनिया को नसीहतें दे रहे हैं लेकिन दिल्ली में ही अपने कहे पर अमल नहीं कर रहे। वह अपने कागजी फार्मूले से दिल्ली के साथ-साथ पूरे देश की जनता को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा कि केजरीवाल का कहना है कि पूरे देश में सरकारी स्कूल खोले जाएं जबकि पिछले आठ सालों में केजरीवाल ने एक भी नया स्कूल नहीं खोला गया। वह हर साल 100 नए स्कूल खोलने का वादा करके सत्ता में आए थे।

नेता विपक्ष ने कहा कि केजरीवाल ने दूसरा सुझाव यह दिया है कि देश भर में स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती की जाए जबकि दिल्ली के स्कूलों में 24 हजार शिक्षकों की कमी है। केजरीवाल के फार्मूले में एक प्वाइंट यह है कि कच्चे शिक्षकों को पक्का किया जाए जबकि दिल्ली में 22 हजार गेस्ट टीचर हैं और उनमें से एक को भी पक्का नहीं किया गया। सच्चाई यह है कि बहुत-से गेस्ट टीचर्स को कई साल की नौकरी के बाद निकाल दिया गया है। दिल्ली में 600 के करीब वोकेशनल टीचर भर्ती किए गए लेकिन उन्हें इतनी कम सैलरी दी जाती है कि वे काम करने के लिए ही तैयार नहीं हैं। केजरीवाल का एक और सुझाव यह है कि शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जाए। जब स्कूलों में 24 हजार शिक्षक ही नहीं हैं तो उनकी ट्रेनिंग का सवाल भी पैदा नहीं होता। प्रेसवार्ता में पार्टी के प्रदेश सह-मीडिया प्रमुख हरिहर रघुवंशी और बृजेश राय भी उपस्थित रहे।

  • दिल्ली के 1027 सरकारी स्कूलों में से 745 में तो साइंस और कॉमर्स की पढ़ाई ही नहीं होती
    बिधूड़ी ने कहा कि केजरीवाल ने गरीबी दूर करने के लिए सरकारी स्कूलों में अच्छी शिक्षा का फार्मूला भी दिया है ताकि गरीब बच्चे डॉक्टर-इंजीनियर बनकर अपने परिवार की गरीबी दूर कर सकें। सच्चाई यह है कि दिल्ली के 1027 सरकारी स्कूलों में से 745 में तो साइंस और कॉमर्स की पढ़ाई ही नहीं होती। ऐसे में डॉक्टर, इंजीनियर या सीए कहां से बनेंगे। केजरीवाल सरकार का यह दावा भी झूठा है कि आम आदमी पार्टी सरकार के आने के बाद दिल्ली के पब्लिक स्कूलों में फीस बढ़ोतरी नहीं हुई। उदारहण के लिए मथुरा रोड के एक पब्लिक स्कूल में 2015-16 में जब आप सरकार आई, टयूशन फीस 18900 रुपए थी, अब वह बढ़कर 31200 रुपए है। इसी तरह वसंत कुंज के पब्लिक स्कूल में वार्षिक टयूशन फीस 2019-20 में 90,000 थी जो अब बढ़कर 1,50,000 रुपए हो गई है।

  • केजरीवाल ने दिल्ली में बंटाधार कर दिया है
    बिधूड़ी ने आरोप लगाया उच्च शिक्षा में भी केजरीवाल ने दिल्ली में बंटाधार कर दिया है। दिल्ली सरकार के 12 कॉलेजों को फंड ही नहीं दिया जा रहा जिससे वहां सैलरी तक नहीं मिल पा रही। इसके अलावा जौनापुर में वर्ल्ड क्लास स्किल यूनिवर्सिटी खोलने पर भी कोई काम नहीं हो रहा जबकि 10 साल पहले यह यूनिवर्सिटी मंजूर हुई थी और इसमें बड़ा खर्च सिंगापुर सरकार दे रही है। इस यूनिवर्सिटी से हर साल 10 हजार स्टूडेंटस को स्किल्ड यूथ के रूप में बाहर आना था लेकिन ऐसा नहीं हो सका। इसके लिए किसे जिम्मेदार ठहराया जाए। दिल्ली में पिछले सात सालों में एक भी नया कॉलेज नहीं खुला और दिल्ली सरकार के 12 कॉलेज जर्जर स्कूल बिल्डिंगों में चल रहे हैं। बिधूड़ी ने कहा है कि मुख्यमंत्री केजरीवाल सिर्फ अपनी राजनीति चमकाने के लिए झूठे दावे और झूठा प्रचार कर रहे हैं लेकिन भाजपा उनके इस झूठे प्रचार की कलई खोलने में पीछे नहीं रहेगी।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments