Saturday, June 22, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयराष्ट्रीय राजधानी में 1650 ई बसे प्रधानमंत्री मोदी के विज़न का परिणाम...

राष्ट्रीय राजधानी में 1650 ई बसे प्रधानमंत्री मोदी के विज़न का परिणाम : सचदेवा

– दिल्ली को केंद्र सरकार से लगातार मिल रही बसों की सौगात

–  आज दिल्ली में 7200 बसों का बेड़ा है, यह झूठ का पुलिंदा है

– राष्ट्रीय राजधानी में 1650 ई बसे प्रधानमंत्री मोदी के विज़न का परिणाम

नई दिल्ली, 14 फरवरी, 2024

दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा ने कहा है कि दिल्ली को प्रदूषण मुक्त राजधानी बनाने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कल्पनाओं का परिणाम है कि आज केन्द्र सरकार के सहयोग से 350 नई ई बसें मिलने के बाद दिल्ली में 1650 इलैक्ट्रिक बसों का बेड़ा डीटीसी के पास बन कर तैयार है। सचदेवा ने कहा है कि 2013 से 2024 के बीच अरविंद केजरीवाल सरकार ने डीटीसी बेड़े में एक भी नई बस नहीं जोड़ी और यह केजरीवाल सरकार की लापरवाही का नतीज़ा है कि दिल्ली में जो बस ट्रांसपोर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर है वह केन्द्र सरकार के द्वारा दी गईं इलेक्ट्रिक बसों पर आधारित है। सचदेवा ने कहा है कि दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत का दावा कि आज दिल्ली में 7200 बसों का बेड़ा है, यह झूठ का पुलिंदा है। सच यह है कि दिल्ली में डीटीसी के पास केवल 1650 ई बसों का बेड़ा है और इसके अलावा लगभग 2500 निजी क्लस्टर बसें हैं। जिन शेष 3200 बसों जिनके होने का दावा कैलाश गहलोत ने किया है वह 12 से 13 वर्ष पुरानी कंडम बसें जिन्हे सवारियों की जान जोखिम में डाल कर चलवाया जा रहा है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सचदेवा ने कहा है कि केजरीवाल सरकार ने दिल्ली वालों को सार्वजनिक परिवहन सुविधा देने में पूरी तरह निराश किया है, सरकार मैट्रो का, रैपिड रेल का फंड देने टालमटोल करती है, दिल्ली के लिए दस साल में दस बसें नहीं खरीदी और आज जब दिल्ली को लगभग 12,500 डीटीसी बसों की जरूरत है तब कंडम बसों को बस बता कर अपनी पीठ खुद थपथपा रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments