Homeअंतराष्ट्रीयसंत निरंकारी मिशन: ‘रक्तदान शिविर’ में 149 श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान

संत निरंकारी मिशन: ‘रक्तदान शिविर’ में 149 श्रद्धालुओं ने किया रक्तदान

– ब्रांच सीतापुरी और जनक पुरी के संत निरंकारी सत्संग भवन में रक्तदान शिविर का आयोजन
– मिशन द्वारा अभी तक 7,317 रक्तदान शिविरों के आयोजन से 12,10,440 युनिट रक्त एकत्रित किया जा चुका है

नई दिल्ली, 21 अगस्त 2022: मानवमात्र के कल्याणार्थ के लिए सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज के पावन आशीर्वाद एवं उनके दिव्य मार्गदर्शन द्वारा ब्रांच सीतापुरी और जनकपुरी में संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन (संत निरंकारी मिशन का सामाजिक विभाग) ने रक्तदान शिविर का आयोजन किया। जिसमें मिशन के 149 भक्तों ने निस्वार्थ भाव से रक्तदान किया। रक्त संग्रहित करने हेतु अखिल भारतीय चिकित्सा संस्थान हॉस्पिटल के ब्लड बैंक और इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी के ब्लड बैंक की टीम वहां उपस्थित हुई। इन दोनों शिविरों का उद्घाटन बहन राजकुमारी, मेंबर इंचार्ज- प्रचार विभाग और नरिंदर सिंह, उपाध्यक्ष केंद्रीय योजना एवं सलाहकार बोर्ड, संत निरंकारी मंडल के कर कमलों द्वारा किया। उनके साथ डॉक्टर नरेश अरोड़ा (मेडिकल सर्विस कोऑर्डिनेटर) भी उपस्थित रहे।

उन्होंने रक्तदान शिविर में सम्मिलित हुए सभी रक्तदाताओं को प्रोत्साहित किया और जनकल्याण को समर्पित उनकी निस्वार्थ सेवा एवं बहूमूल्य योगदान हेतु प्रशंसा करी। उन्होंने कहा कि रक्तदान सबसे श्रेष्ठ दान है मानवता की भलाई हेतु रक्तदान के लिए सभी को आगे आना चाहियें। इसके अतिरिक्त संयोजक राम शरण (सीतापुरी ) और धरम माणिक (जनकपुरी) द्वारा रक्तदान शिविर में उपस्थित सभी गणमान्य अतिथियों, रक्तदाताओं, डॉक्टर एवं उनकी टीम का हृदय से आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि संत निरंकारी मिशन रक्तदान करने में समूचे देश में अग्रणी रहा है।

मिशन द्वारा अभी तक 7,317 रक्तदान शिविरों के आयोजन से 12,10,440 युनिट रक्त एकत्रित किया जा चुका है। संत निरंकारी मिशन आध्यात्मिक उत्थान के साथ साथ समाज कल्याण की गतिविधियों जिनमें मुख्यतः रक्तदान शिविर, स्वच्छता अभियान, वृक्षारोपण, महिला एवं बाल विकास सशक्तिकरण हेतु सुचारू रूप से चलाई जा रही योजनाएं, निःशुल्क नेत्र जांच शिविर एवं प्राकृतिक आपदाओं में जरूरतमंदों की सहायता इत्यादि सेवाएं सम्मिलित है ताकि समाज का समुचित विकास हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 5 =

Must Read