Homeताजा खबरें’पांचवी निगम मूल्यांकन समिति ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दिल्ली नगर निगम को...

’पांचवी निगम मूल्यांकन समिति ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दिल्ली नगर निगम को सौंपी’

  • ’5 वीं निगम मूल्यांकन समिति ने यूनिट एरिया मूल्य में बदलाव की सिफारिश की’
  • ’नागरिक मूल्यांकन समिति की अंतरिम रिपोर्ट से जुड़ी अपनी आपत्तियां 30 दिन के अंदर दर्ज करा सकते हैं’

नई दिल्ली, 24 अगस्त 2022: दिल्ली नगर निगम ने बुधवार को बताया कि ’पांचवी निगम मूल्यांकन समिति ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दिल्ली नगर निगम को सौंपी दी है।’ आनिंदो मजूमदार( सेवानिवृत आई.ए.एस.) की अध्यक्षता में 5 वीं निगम मूल्यांकन समिति का गठन 5 अक्टूबर 2021 को किया गया था। इस समिति में अध्यक्ष के अलावा 4 अन्य सदस्य हैं। समिति ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट 13 अगस्त 2022 को दिल्ली नगर निगम के समक्ष प्रस्तुत कर दी है। निगम मूल्यांकन समिति का प्रमुख कार्य दिल्ली के किसी भी वार्ड में स्थित खाली भूमि और भवनों को कॉलोनियों एवं भूमि और भवनों के समूह में वर्गीकृत करना एवं खाली भूमि का प्रति यूनिट आधार पर आधार मूल्य या भवनों के आच्छादित क्षेत्र का आधार मूल्य निर्धारित करना या उनके गुणकों को घटाना,बढ़ाना या उनमें किसी भी प्रकार का बदलाव न करने संबंधी निर्णय लेना।

बेस यूनिट एरिया का मूल्यांकन प्रथम निगम मूल्यांकन समिति द्वारा सन् 2004 में किया गया था तथा पिछले 18 वर्षों से इसमें कोई भी बदलाव नहीं किया गया है। मुद्रास्फीति के आंकड़ों का अध्ययन करने के पश्चात समिति ने बेस यूनिट एरिया मूल्यांकन में 37% वृद्धि करने की सिफारिश की है जोकि विगत 18 वर्षों में मुद्रास्फीति में हुई वृद्धि के मुकाबले काफी कम है। 5 वीं निगम मूल्यांकन समिति ने कॉलोनियों के वर्गीकरण में कोई बदलाव नहीं किया है। हालांकि दिल्ली में हाल के वर्षों में हुए विकास को देखते हुए एयरोसिटी सहित विमानपत्तन प्राधिकरण के क्षेत्र को अलग कॉलोनी में वर्गीकृत करते हुए ‘डी’ श्रेणी में रखा गया है।

5 वीं निगम मूल्यांकन समिति का उद्देश्य संपत्ति कर निर्धारण की प्रक्रिया को सरल करना एवं संपत्ति कर प्रणाली को दक्ष बनाने के उपाय खोजना है। इसी दिशा में कार्य करते हुए अर्ध पक्के निर्माण एवं कच्चे निर्माण के लिए संरचना कारक को 0.7 एवं 0.5 की जगह एक समान 0.7 करने की संस्तुति की गई है जबकि पक्के निर्माण का संरचना कारक को 1 पर ही रखा गया है। नए बने भवनों के आयु गणक को 2010 से 2019 तक के निर्माण के लिए 1.1 एवं 2020 से 2029 तक के निर्माण के लिए 1.2 करने की सिफारिश की गई है।

संपत्ति कर विभाग के प्रशासन को पारदर्शी एवं दक्ष बनाने के लिए 5 वीं निगम मूल्यांकन समिति ने तकनीक जैसे जीआईएस मैपिंग,आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस,फेसलेस निर्धारण एवं ब्लॉकचेन के इस्तेमाल पर जोर दिया है। ठोस कचरे के वैज्ञानिक एवं सतत निस्तारण के लिए समिति ने पूरे वर्ष 100% गीले कचरे का निस्तारण करने वाली सोसायटियों/कॉलोनियों को संपत्ति कर में 5% की छूट देने की सिफारिश की है। दिल्ली नगर निगम आशा करता है कि 5 वीं निगम मूल्यांकन समिति की सिफारिशों से दिल्ली के नागरिकों को ठोस एवं भविष्योन्मुखी संपत्ति कर प्रणाली प्राप्त होगी।

दिल्ली नगर निगम ने समिति की अंतरिम सिफारिशों पर दिल्लीवासियों के सुझाव एवं आपत्तियां आमंत्रित करने हेतु  सार्वजनिक सूचना जारी की है। नागरिक दिल्ली नगर निगम की वेबसाइट mcdonline.nic.in पर जाकर अंतरिम रिपोर्ट दिल्ली सकते हैं तथा 30 दिनों के अंदर अपनी आपत्तियां  निम्न ईमेल आईडी : mvc5.sdmc@mcd.nic.in पर या अध्यक्ष, 5 वीं निगम मूल्यांकन समिति, कमरा नंबर 18 अंबेडकर स्टेडियम ऑफिस कॉम्प्लेक्स दिल्ली गेट 110002 पर भेज सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen − 1 =

Must Read