Homeताजा खबरेंकोरोना संकट को पराजित करने के लिए हमें प्रकाश के तेज को...

कोरोना संकट को पराजित करने के लिए हमें प्रकाश के तेज को चारों दिशाओं में फैलाना है : रामवीर सिंह बिधूड़ी

  • मोदी की इस पहल को सफल बनाकर प्रकाश और एकता की ताकत का परिचय कराना है: सिद्धार्थन

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर 5 अप्रैल रात 9 बजेए 9 मिनट तक देश के 130 करोड़ लोग लाइट बंद कर दरवाजे पर दिया, मोमबत्ती, टॉर्च या फ्लैश जलाकर वैश्विक महामारी कोरोना के कारण हुए अंधकार को चुनौती देंगे और राष्ट्र के प्रति एकजुटता और प्रतिबद्धता प्रकट करेंगे। मोदी के इस अभियान को व्यापक रूप से सफल बनाने के उद्देश्य के साथ दिल्ली भाजपा प्रदेश की ओर नेता विपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, प्रदेश संगठन महामंत्री सिद्धार्थन, विधायक अभय वर्मा, पूर्व महापौर आदेश गुप्ता, युवा मोर्चा अध्यक्ष सुनील यादव व प्रदेश जिला एवं मंडल के पदाधिकारियों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जरूरतमंद लोगों के बीच दिए और मोमबत्तियां वितरित कर लोगों से इस महाभियान में हिस्सा लेने की अपील की।

नेता विपक्ष बिधूड़ी ने कहा कि इस कोरोना संकट से जो अंधकार और अनिश्चितता पैदा हुई है। उसे समाप्त करके हमें उजाले और निश्चितता की तरफ बढना है। इस अंधकारमय कोरोना संकट को पराजित करने के लिए हमें प्रकाश के तेज को चारों दिशाओं में फैलाना है और 130 करोड़ लोगों के महा संकल्प को नई ऊंचाइयों पर ले कर जाना है। कोरोना महामारी से लड़ने के लिए सभी एकजुट हैं। एकजुटता में ही अनुशासन भी होता है और आपदा से लड़ने की ताकत भी होती है।

प्रदेश संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के कारण देश में फैले अंधकार को चुनौती देने के लिए हम सभी को मिलकर प्रधानमंत्री मोदी जी के इस पहल को सफल बनाकर उसे प्रकाश और एकता की ताकत का परिचय कराना है। सभी से मेरी अपील है कि कल रात 9 बजे अपने घर के दरवाजों अथवा बालकनी में निकलकर टॉर्च, दिया या मोबाइल की लाइट को जलाकर इस कोरोना संकट के अंधकार को पराजित करने वाले हमारे एकजुट विश्वास के प्रकाश को फैलाएं।

विधायक अभय वर्मा ने लोगों से इस महा अभियान में जुड़ने की अपील करने के साथ ही कहा कि हमें प्रधानमंत्री के निर्देशों का पालन करने के साथ ही लाॅक डाउन को बनाए रखना है और अपने घरों और बालकनी से ही दिया, टॉर्च या फ्लैश लाइट जलाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen + twelve =

Must Read