Homeअंतराष्ट्रीयपरिवहन मंत्री गहलोत ने फुट-कांस्टेबल गगन सिंह के परिवार को दी 20...

परिवहन मंत्री गहलोत ने फुट-कांस्टेबल गगन सिंह के परिवार को दी 20 लाख रुपये की अनुग्रह राशि

  • – स्वर्गीय गगन सिंह दिल्ली परिवहन विभाग में एक फुट कांस्टेबल थे; 2020 में एक दुर्घटना में ड्यूटी के दौरान उनकी जान चली गई थी – हम उनकी कमी को पूरा तो नही कर सकते, लेकिन मुझे उम्मीद है कि इस आर्थिक सहायता से उनके परिवार को थोड़ी मदद मिलेगी : केजरीवाल / केजरीवाल सरकार हमेशा स्वर्गीय गगन सिंह जैसे हमारे वीरों के बलिदान का सम्मान करती है : कैलाश गहलोत

नई दिल्ली, 20 सितम्बर 2022 : दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने स्वर्गीय गगन सिंह के परिवार से हरियाणा के रोहतक में मुलाकात की और उनके परिवार को मुख्यमंत्री राहत कोष से सहायता राशि के रूप में 20 लाख का चेक प्रदान किया। स्वर्गीय गगन सिंह एक किसान परिवेश से आते थे। वो रोहतक के रहने वाले थे। उन्होंने 2016 से परिवहन विभाग में एक फुट-कांस्टेबल के रूप में सेवा की। इससे पहले उन्होंने 1993 से 2013 तक भारतीय सेना में सैनिक के रूप में भी सेवा की थी। इसके बाद उन्होंने परिवहन विभाग के साथ काम किया था।

46 वर्षीय स्वर्गीय गगन सिंह 2020 में ड्यूटी पर रहते हुए एक दुर्घटना के शिकार हुए थे जिसमे उनकी जान चली गयी थी। उनके परिवार में पत्नी के अलावा तीन बच्चे हैं, जिनमें से सबसे बड़ा बेटा दिल्ली पुलिस में सेवारत है। दिल्ली सरकार ने मुख्यमंत्री राहत कोष से 20 लाख रुपये की सहायता राशि उनके परिवार को प्रदान की है। परिवार को चेक सौंपते हुए परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा, “कोई भी वित्तीय सहायता किसी प्रियजन के नुकसान की भरपाई नहीं कर सकती है।केजरीवाल सरकार हमेशा स्वर्गीय गगन सिंह जैसे हमारे नायकों के बलिदान का सम्मान करती है। इन्होने 2016 से एक फुट-कांस्टेबल के रूप में दिल्ली परिवहन विभाग में अपनी सेवा दी। हमे इन पर गर्व है। मैं उनके परिवार की सलामती की कामना करता हूं।”

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट करते हुए लिखा “स्वर्गीय गगन सिंह जी दिल्ली परिवहन विभाग के एक मेहनती और कर्मठ कर्मचारी थें। उन्होंने हमेशा अपनी ड्यूटी पूरी ज़िम्मेदारी से निभाई। हम उनकी कमी को पूरा तो नही कर सकते, लेकिन मुझे उम्मीद है कि इस आर्थिक सहायता से उनके परिवार को थोड़ी मदद मिलेगी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen + 19 =

Must Read