Wednesday, February 21, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयजब मन का नाता इस परमात्मा से जुड़ता है तो हर तरफ...

जब मन का नाता इस परमात्मा से जुड़ता है तो हर तरफ ये परमात्मा ही दिखाई देता है और सब अपने लगते हैं : माता सुदीक्षा

आध्यात्म एंव मानवता का दिव्य संगम – 75वां वार्षिक निरंकारी संत समागम तैयारियाँ हर्षोल्लास के साथ आरम्भ – सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज के पावन सान्निध्य में 75वां वार्षिक निरंकारी संत समागम दिनांक 16 से 20 नवम्बर को संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल समालखा, हरियाणा में आयोजित होने जा रहा है – समागम परिसर एवं उसके आसपास के क्षेत्रों में सेवाएं आरम्भ हो चुकी है – अन्य राज्यों से भी संतजन पहुँचकर इन सभी सेवाओं में अपना योगदान दे रहे हैं

​दिल्ली, 17 अक्तूबर, 2022: विश्वभर के सभी भक्तों एवं प्रभु प्रेमियों के लिए वार्षिक निरंकारी संत समागम भक्ति, प्रेम एवं मिलवर्तन का एक ऐसा अनुपम स्वरूप है, जिसमें सभी भक्त सम्मिलित होकर आलौकिक आनंद की अनुभूति प्राप्त करते हैं। इसी दिव्यता की अविरल श्रृंखला को निरंतर जारी रखते हुए सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज के पावन सान्निध्य में 75वां वार्षिक निरंकारी संत समागम दिनांक 16 से 20 नवम्बर को संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल समालखा, हरियाणा में आयोजित होने जा रहा है, जिसमें लाखों की संख्या में प्रभु प्रेमी भक्त सम्मिलित होकर सत्गुरु माता के पावन आशीष प्रवचनों को श्रवण करेंगे। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी 75वें वार्षिक निरंकारी संत समागम में विभिन्न संस्कृतियों एवं सभ्यताओं का अनूठा संगम देखने को मिलेगा।

​वार्षिक निरंकारी संत समागम की प्रतीक्षा प्रत्येक निरंकारी भक्त को सदैव ही रहती है। हर वर्ष ही भक्तजनों को इन दिव्य संत समागमों में सम्मिलित होने की उत्सुकता बनी रहती है ताकि वह इन सेवाओं में अपना तुच्छ योगदान देकर भरपूर आनंद प्राप्त कर सके। ​इस वर्ष का संत समागम स्वयं में विशेष है क्योंकि पिछले दो वर्षो में केवल ऑनलाईन माध्यम द्वारा ही सभी भक्तों ने संत समागमों का आनंद प्राप्त किया। इस वर्ष सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज की पावन छत्रछाया में भक्तों को दिव्य संत समागम में प्रत्यक्ष रूप से सम्मिलित होने का सौभाग्य प्राप्त हो रहा है। निसंदेह मिशन के इतिहास में यह समागम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जायेगा क्योंकि यह 75वां वार्षिक निरंकारी संत समागम है जिसका आयोजन भव्य एंव विशाल रूप में किया जा रहा है।

​जैसा कि विदित ही है कि समागम परिसर एवं उसके आसपास के क्षेत्रों में सेवाएं आरम्भ हो चुकी है। दिल्ली एंव एनसीआर के अतिरिक्त, अन्य राज्यों से भी संतजन पहुँचकर इन सभी सेवाओं में अपना योगदान दे रहे हैं। फिर चाहे वह मैदानों की स्वच्छता हो, ट्रैक्टर की, राजमिस्त्री की, लंगर की सेवा हो अथवा किसी भी प्रकार की कोई अन्य सेवा ही क्यों न हो; सभी संत इन सेवाओं में सम्मिलित होकर हृदय से सत्गुरु का आभार प्रकट कर रहे हैं। इस अवसर पर बच्चे, युवा एवं वृद्ध सभी में एक नई ऊर्जा एवं उत्साह का संचार देखा जा सकता है। आज का युवा वर्ग इस भागदौड़ भरी जिंदगी में व्यस्त है, ऐसे समय में निरंकारी मिशन ब्रह्मज्ञान की दिव्य रोशनी द्वारा युवाओं को आध्यात्म से जोड़ रहा है, जिसका जीवंत उदाहरण यह दिव्य संत समागम है, जिसमें सभी वर्ग, जाति, धर्म के भक्त निस्वार्थ रूप से अपनी सेवाओं को निभाते हुए अपने जीवन को सफल बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

​यह 75वां वार्षिक निरंकारी संत समागम ‘रूहानियत और इंसानियत संग संग’ विषय पर आधारित है जिसमें विश्वभर से वक्ता, गीतकार तथा कविजन अपने प्रेरक एंव भक्तिमय भावों को व्यक्त करेंगे। ‘रूहानियत के एहसास एंव आधार में ही इंसानियत का भाव निहित है। वास्तविक रूप में जब हम समर्पित रूप में निराकार परमात्मा के साथ जुड़ते है तब हमारे अंदर स्वतः ही इंसानियत रूपी दिव्य गुण दृश्यमान होने लगते हैं और हृदय में फिर सभी के लिए केवल परोपकार एंव प्रेम की ही भावना उत्पन्न होती है। सत्गुरू माता का भी यही दिव्य संदेश है कि मानव जीवन में रूहानियत एवं इंसानियत का संग-संग होना अत्यंत आवश्यक है, क्योंकि इनके आगमन से ही वास्तविक रूप में जीवन सार्थक बनता है। यही इस दिव्य संत समागम का उद्देश्य भी है।

स्थानीय संत समागम की लड़ी में सतगुरु माताजी का नॉएडा में 16 अक्टूबर को आगमन हुआ। सत्गुरू माता ने भक्तों को सम्बोधित करते हुए फरमाया कि जब मन का नाता इस परमात्मा से जुड़ता है तो हर तरफ ये परमात्मा ही दिखाई देता है और सब अपने लगते हैं ।
इस दिव्य संत समागम में स्थानीय विधायक पंकज सिंह और ब्रह्मकुमारी के प्रतिनिधिओं ने भी शिरकत करी तथा सत्गुरु माताजी का आभार प्रकट किया और पावन आर्शीवाद प्राप्त किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments