Wednesday, June 19, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयकिसान आंदोलनकारियों को नोटिस मिलना केंद्र सरकार की बेशर्मी बताता है :...

किसान आंदोलनकारियों को नोटिस मिलना केंद्र सरकार की बेशर्मी बताता है : मोर्चा

  • 53 वें दिन भी जारी रहा दिल्ली किसान आंदोलन
  • सयुंक्त किसान मोर्चा ने की इन नोटिसों की निंदा
  • किसान पंचायतों के आयोजन के लिए गांवों में जाएंगे

नई दिल्ली: शुक्रवार को केंद्र सरकार के साथ वार्ता के दौरान भी एनआईए द्वारा आंदोलनकारियों को भेजे जा रहे नोटिसों के बारे में शिकायत की गई थी। मंत्रियो ने इस मुद्दे पर विचार करने का आश्वासन दिया था। इसके बावजूद शनिवार को भी आंदोलनकारियों को नोटिस मिलना सरकार की बेशर्मी बताता है। सयुंक्त किसान मोर्चा इन नोटिसों की निंदा करता है। आगामी दिनों में इन नोटिसों की प्रतिक्रिया स्वरूप कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी। संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारी डॉ दर्शन पाल ने शनिवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि लोक संघर्ष मोर्चा के नेतृत्व में महाराष्ट्र और गुजरात के आदिवासी इलाकों से लगभग एक हजार किसान, जिनमे ज्यादातर महिलाएं है, दिल्ली पहुंचेंगी। इसके अलावा, हुसैनीवाला (फिरोजपुर, पंजाब – भगत सिंह के शहीदी स्थल) से एआईडीएसओ के नेतृत्व में एक बाइक रैली कल रविवार को दिल्ली के लिए रवाना हुई, जिसमें 12 राज्यों के छात्र भाग ले रहे हैं।

किसान अलाइंस मोर्चा द्वारा मरीन लाइन्स से आजाद मैदान तक एक विशाल रैली और जनसभा भव्य किसान मोर्चा, मुंबई विद फार्मर्स का आयोजन किया गया, जिसमें बड़ी संख्या में नागरिकों ने भाग लिया। संघर्ष और एकजुटता की एक अनूठी प्रदर्शनी में, महाराष्ट्र और गुजरात के युवा किसान एनएपीएम द्वारा आयोजित किसान ज्योति यात्रा में दिल्ली की ओर पैदल यात्रा कर रहे है। किसान नेताओं की जागरूक नागरिकों के साथ एक बड़ी बैठक का आयोजन बैंगलोर में ऐक्य होरता समिति द्वारा किया गया जिसमें सयुंक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रीय नेताओं ने भी भाग लिया। शनिवार को बिहार में लगभग 20 से ज्यादा जिलों में अनिश्चितकालीन धरना बड़ी जनसभाओं और किसान रैलियों के साथ संपन्न हुआ। अब, किसान पंचायतों के आयोजन के लिए गांवों में जाएंगे और 18 जनवरी, 23 वें और 26 वें कार्यक्रमों के लिए और 30 जनवरी को महात्मा गांधी के शहादत दिवस पर मानव श्रृंखला के लिए जुटेंगे।

ये सभी कार्यक्रम अखिल भारतीय किसान महासभा के बैनर तले हुए थे। जैसा कि पहले बताया गया है, केरल के लगभग 1000 किसानों ने केरल संघम (एआईकेएस) शाहजहांपुर विरोध स्थल में शामिल होने के लिए केरल से पूरे 3000 किलोमीटर से अधिक की यात्रा की है। दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शनकारी किसानों के साथ एकजुटता में, ओडिशा के गंजम जिले में ओडिशा कृषक सभा (एआईकेएस) द्वारा प्रदर्शन किए गए। ओडिशा से दिल्ली के लिए रवाना हुई किसान चेतना यात्रा का बिहार में जोरदार स्वागत हुआ। मजदूर किसान शक्ति संगठन के नेतृत्व में राजस्थान के किसान और मजदूर शाहजहांपुर बॉर्डर पर पहुँच गए हैं। किसानों के मुद्दों को संबोधित करने के साथ साथ, कार्यकर्ता आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम के हानिकारक प्रभावों को आम जनता को समझा रहे है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments