Thursday, February 22, 2024
Homeअंतराष्ट्रीयइस योजना से खुल रहा है गरीबों के आत्मनिर्भर बनने का रास्ता...

इस योजना से खुल रहा है गरीबों के आत्मनिर्भर बनने का रास्ता : राजेंद्र पाल गौतम

  • समाज कल्याण मंत्री ने डीएसएफडीसी योजना के तहत ऋण वितरित किए
  • 102 व्यक्तियों को कुल 80 लाख रुपए धनराशि का ऋण वितरण किया गया

नई दिल्ली : दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने शुक्रवार को आयोजित एक कार्यक्रम में दिल्ली सरकार के उपक्रम, दिल्ली अनुसूचित जाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम (डीएसएफडीसी) की तरफ से संचालित की जा रही योजनाओं के तहत 94 व्यक्तियों को 50,000 रूपए और 08 लोगों को 3,00,000 रुपए की धनराशि ऋण के तौर पर प्रदान किए। इस कार्यक्रम में कुल 80 लाख रुपए धनराशि के ऋण वितरित किए गए। कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि इस योजना से गरीबों के आत्मनिर्भर बनने का रास्ता खुल रहा है।

दिल्ली अनुसूचित जाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम दिल्ली में निवास करने वाले व गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग व्यक्तियों को सस्ते ब्याज दर पर ऋण प्रदान करता है। निगम आवेदकों को यह ऋण कोई भी आय सृजन करने वाले व्यवसाय को शुरू करने अथवा उसके विस्तार के लिए प्रदान करता है। ऋण में छह माह का विलम्बकाल भी होता है, जिससे ऋण लेने वालों को अपना व्यवसाय सुचारू रूप से आरंभ करने में मदद मिलती है। दिल्ली अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम कोरोना महामारी से प्रभावित अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वर्ग के व्यक्तियों, जो रेहड़ी अथवा पटरी पर फल, सब्जी बेचते हैं या किसी साप्ताहिक बाजार में अपना माल बेचते हैं, उनको 20,000 रूपए का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज की दर पर देने का विचार कर रहा है। इसके अतिरिक्त, निगम बेरोजगार युवाओं को अपना रोजगार आरम्भ करके आजीविका कमाने के हिसाब से कई योजनाओं को शुरू करने जा रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments